close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बैंड-बाजे के साथ यहां निकली नंदी की बारात, जानें क्यों हुई गाय के साथ शादी

बैंड-बाजे की धुन पर भजन गाते हुए बाराती विवाह स्थल पर पहुंचे, जहां बारातियों का जोदार स्वागत किया गया. दरअसल, इस विवाह समारोह का मकसद गौ संरक्षण को बढ़ावा देने है.

बैंड-बाजे के साथ यहां निकली नंदी की बारात, जानें क्यों हुई गाय के साथ शादी
नंदी बाबा दूल्हा बन कर गाजे बाजे और ट्रेक्टर ट्रॉली पर सवार होकर बारात लेकर निकले.

मुरादाबाद, दीप चंद जोशी: बारिश (Rain) नहीं होने पर मेंढक (Frog) और मेंढकी का विवाह देखा और सुना होगा लेकिन गौ (Cow) और नंदी (Ox) के विवाह में ढोल नगाड़े और नाचते गाते बारातियों को देखा है. मामला मुरादाबाद (Moradabad) का है, जहां गोपाष्टमी (Gopashtami) के अवसर पर गौ और नंदी का विवाह पूरे रीति-रिवाज के साथ कराया गया.

इस विवाह का आयोजन कानपुर से पधारीं जूना अखाड़े की महामण्डलेश्वर द्वारा आयोजित किया गया. इस शादी समारोह में सैकड़ों लोग शामिल हुए. इस विवाह समारोह में सभी रस्में सामान्य विवाह की तरह निभाई गईं. बैंड-बाजे की धुन पर भजन गाते हुए बाराती विवाह स्थल पर पहुंचे, जहां बारातियों का जोदार स्वागत किया गया. दरअसल, इस विवाह समारोह का मकसद गौ संरक्षण को बढ़ावा देने है.

इस अनूठे विवाह में नंदी बाबा दूल्हा बन कर गाजे बाजे और ट्रेक्टर ट्रॉली पर सवार होकर बारात लेकर निकले. बैंड-बाजे पर बज रहे भजनों की धुनों पर नाचते बारातियों के साथ विवाह स्थल पर पहुंचें. गाय को भी दुल्हन की तरह लाल रंग के जोड़े से सजाया गया.

लाइव टीवी देखें

विवाह स्थल पहुचने पर नंदी बाबा का द्वार पर स्वागत किया गया. लगन पढ़ा गया जयमाला भी डाली गयी. कार्यक्रम में बारातियों के लिए खाने का भी इंतजाम किया गया. आचार्यों की देखरेख में सम्पन्न हो रहे इस विवाह में सैकड़ों लोग भी शामिल रहे.