Breaking News
  • नोएडा: सेक्‍टर 64 की एक एक्‍सपोर्ट फैक्‍ट्री में आग, फायर ब्रिगेड की 16 गाड़ियां मौके पर मौजूद
  • बडगाम: जैश आतंकियों के 6 मददगार गिरफ्तार

ट्रैफिक नियम तोड़कर फुर्र हुआ कबूतर, अफसर बोले- नहीं बचेगा वो..., पढ़ें पूरा मामला

यह अनोखी घटना पश्चिमी जर्मनी के बोकोल्‍ट शहर में हुई. यहां वाहनों की अधिकतम रफ्तार 30 किमी प्रति घंटा निर्धारित है. लेकिन कबूतर 45 किमी प्रति घंटा पर उड़ रहा था. अगर कबूतर की जगह किसी व्‍यक्ति ने स्‍पीड लिमिट तोड़ी होती तो उस पर 21 यूरो (करीब 19,550 रुपये) का जुर्माना लगता.

ट्रैफिक नियम तोड़कर फुर्र हुआ कबूतर, अफसर बोले- नहीं बचेगा वो..., पढ़ें पूरा मामला
जर्मनी में स्‍पीड कैमरे में कैद हुआ कबूतर. फोटो bocholt city facebook

नई दिल्‍ली : 'पंछी, नदिया, पवन के झोंके, कोई सरहद ना इन्‍हें रोके...' बॉलीवुड फिल्‍म रिफ्यूजी का यह गाना तो आपके जहन में जरूर होगा. इसकी पंक्तियां पक्षियों की आजादी की बात कहती हैं. पक्षियों के उड़ने की कोई सरहद नहीं होती, कोई बंदिश नहीं होती. लेकिन जर्मनी में एक ऐसी घटना हुई, जिसने सबको हैरान कर दिया है. यहां एक कबूतर को ट्रफिक स्‍पीड कैमरे ने तस्‍वीर के रूप में सिर्फ इसलिए कैद कर लिया क्‍योंकि वह सड़क पर तय रफ्तार से अधिक रफ्तार से उड़ान भर रहा था. स्‍पीड कैमरे के उसकी तस्‍वीर लेने का मकसद चालान काटना था. अब उस पर ट्रैफिक नियम को तोड़ने को लेकर चर्चा हो रही है.

यह अनोखी घटना पश्चिमी जर्मनी के बोकोल्‍ट शहर में हुई. यहां वाहनों की अधिकतम रफ्तार 30 किमी प्रति घंटा निर्धारित है. अगर कोई भी इस लिमिट से जरा सी भी तेज रफ्तार पकड़ता है तो तुरंत उसका चालान कट जाता है. और यह चालान काटते हैं, सड़क पर लगाए गए ऑटोमैटिक मोबाइल कैमरे. जैसे ही कोई वाहन 30 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से अधिक जाता है, ये कैमरे तुरंत उसकी फोटो लेकर ट्रैफिक विभाग को भेज देते हैं. इसके बाद उक्‍त वाहन का चालान काट दिया जाता है.

 

इस मामले में बोकोल्‍ट टाउन प्रशासन के फेसबुक पेज पर कहा गया है कि कुछ एक मामलों में तय लिमिट से 3 किमी प्रति घंटा कर रफ्तार पर छूट दे दी जाती है. लेकिन कबूतर का बचना संभव नहीं है क्‍योंकि उसकी रफ्तार तय लिमिट से काफी अधिक थी. उसके उड़ान वाले रास्‍ते का आकलन करके पता चला है कि वह खतरनाक रास्‍ते पर उड़ान भर रहा था. उसके किसी भी वाहन से टकरा जाने की आशंका थी, जिससे हादसा हो सकता था. हालांकि शहर प्रशासन इस मामले के गवाहों से जानकारी जुटाने के पक्ष में नहीं है.