China में एक साथ 15 इमारतों को धमाके से उड़ाया, Viral Video देख हिल जाएंगे आप
X

China में एक साथ 15 इमारतों को धमाके से उड़ाया, Viral Video देख हिल जाएंगे आप

चीन में 15 ऐसी इमारतों को विस्फोटक की मदद से उड़ा दिया गया, जिनका काम पिछले आठ सालों से बंद था. इस कार्रवाई की आलोचना भी शुरू हो गई है. आलोचना करने वाले इसे पैसों की बर्बादी करार दे रहे हैं. सोशल मीडिया पर इस कार्रवाई का वीडियो वायरल हो रहा है.

China में एक साथ 15 इमारतों को धमाके से उड़ाया, Viral Video देख हिल जाएंगे आप

बीजिंग: चीन में 15 गगनचुंबी इमारतों (Skyscrapers) को गिराने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. ये बिल्डिंग लंबे समय से निर्माणाधीन अवस्था में थीं. काम पूरा नहीं होने के चलते इन्हें जमींदोज कर दिया गया. सरकार की इस कार्रवाई का विरोध भी हो रहा है. लोग इसे पैसों की बर्बादी करार दे रहे हैं. युनान प्रांत में स्थित इन इमारतों को विस्फोटक की मदद से गिराया गया. महज कुछ ही सेकंड में आसमान छू रहीं इमारतें जमीन पर आ गिरीं. 

इतना Explosives हुआ इस्तेमाल

स्थानीय मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, इन इमारतों को गिराने के लिए 4.6 टन विस्फोटक का इस्तेमाल किया गया और कुल 45 सेकंड में गगनचुंबी इमारतें मलबे में तब्दील हो गईं. इस कार्रवाई को अंजाम देते समय आसपास के लोगों का खासा ध्यान रखा गया. इमारतों को ढहाने से पहले आसपास की दुकानों को बंद करा दिया गया और लोगों को किसी सुरक्षित स्थान पर भेज दिया गया.

ये भी पढ़ें -मामूली गलती पर Teacher ने दी ऐसी खौफनाक सजा, कभी बिना सहारे के नहीं चल पाएगी लड़की

2000 सहायता कर्मी थे तैनात

ऐहतियात के तौर पर 2000 सहायता कर्मी मौके पर मौजूद रहे ताकि किसी भी तरह की इमरजेंसी आने पर निपटा जा सके. बताया जा रहा है कि युनान प्रांत के कनमिंग में Liyang Star City Phase II Project के तहत इन इमारतों को बनाया जा रहा था, लेकिन डिमांड में कमी आने की वजह से लगभग आठ साल से काम अटका हुआ था. इस प्रोजेक्ट की कीमत लगभग 1 बिलियन चीनी युआन थी.

नजर आया सिर्फ धूल का गुबार

15 गगनचुंबी इमारतों के गिरने से पूरे इलाके में धूल का विशाल गुबार फैल गया. चीन की सरकारी न्यूज एजेंसी शिन्हुआ ने बताया कि इमारतों में 85,000 ब्लास्टिंग पॉइंट्स पर 4.6 टन विस्फोटक रखे गए थे. यह सुनिश्चित करने के लिए कि मिशन सफल रहे, आठ आपातकालीन बचाव दल स्थापित करने के लिए 2,000 से अधिक सहायता कर्मियों को तैनात किया गया था.  

 

Trending news