close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

लेफ्टिनेंट जनरल फैज हमीद बने पाकिस्तान की गुप्तचर एजेंसी ISI के नये प्रमुख

आतंकियों और अलगावादियों के खिलाफ सुरक्षा एजेंसियों की लगातार कार्रवाई से बौखलाई पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आइएसआई ने भारत के खिलाफ एक नई साजिश रचनी शुरू कर दी है. 

लेफ्टिनेंट जनरल फैज हमीद बने पाकिस्तान की गुप्तचर एजेंसी ISI के नये प्रमुख
फोटो साभार : Radio Pakistan

इस्लामाबाद: लेफ्टिनेंट जनरल फैज हमीद पाकिस्तान की गुप्तचर एजेंसी आईएसआई के नये प्रमुख होंगे. पाकिस्तानी थल सेना ने रविवार को यह घोषणा की. पाक थल सेना ने रविवार को अपने शीर्ष जनरलों की तैनाती में कई बदलाव करने की घोषणा की. हमीद को लेफ्टिनेंट जनरल असीम मुनीर की जगह इंटर सर्विसेज इंटेलीजेंस (डीजी आईएसआई) का महानिदेशक नियुक्त किया गया है. वहीं, मुनीर का तबादला कर कोर कमांडर गुजरांवाला के रूप में निुयक्त किया गया है. वह पिछले साल अक्टूबर में आईएसआई प्रमुख बनाए गए थे. जियो न्यूज की खबर के मुताबिक हमीद आईएसआई में ‘काउंटर इंटेलीजेंस विंग’ के प्रमुख भी रह चुके हैं.

वहीं, आतंकियों और अलगावादियों के खिलाफ सुरक्षा एजेंसियों की लगातार कार्रवाई से बौखलाई पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आइएसआई ने भारत के खिलाफ एक नई साजिश रचनी शुरू कर दी है. पाकिस्तान ने कश्मीर के कुछ अलगवादियों की मदद से चोरी छुपे एक और अलगाववादी ग्रुप बनाने में लगा हुआ है. ज़ी न्यूज़ को मिली एक्सक्लूसिव जानकारी के मुताबिक, पकिस्तान ने इस नए ग्रुप में लश्कर के आतंकियों को भी शामिल किया है. ISI की मदद से बने इस ग्रुप को कश्मीर के साथ जम्मू में सेना और सुरक्षाबलों के खिलाफ बड़े प्रदर्शन की जिम्मेदारी दी गई है. 

रिपोर्ट के मुताबिक नए ग्रुप का प्रेसिडेंट इरशाद अहमद मालिक को बनाया गया है जिसके बारे में कहा जा रहा है की वो पूर्व में लश्कर का आतंकी रह चुका है. अमित शाह के गृह मंत्री बनने के बाद ही गृह मंत्रालय से जुड़े सूत्रों ने ये साफ़ कर दिया था कि आतंक और अलगावादियों के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की पालिसी लगातार जारी रहेगी. एनआईए, इनकम टैक्स विभाग और प्रवर्तन निदेशालय कश्मीर में फैले भ्रष्टाचार और टेरर फंडिंग के खिलाफ कमर कस चुकी हैं जिससे आतंकी बौखलाए हुए है. एनआईए ने कई बड़े अलगवादी नेताओं को जेल में डाल दिया है जिसके बाद से कश्मीर में आतंक की कमर टूट रही है.

गृह मंत्रालय से जुड़े एक अधिकारी ने ज़ी न्यूज़ को बताया है कि दिल्ली में स्थित पाकिस्तान हाई कमीशन पहले भी अलगाववादी नेताओं को मदद करता रहा है. पाकिस्तान से होने वाली टेरर फंडिंग का पैसा आतंकियों और अलगावादियों तक जाता है लेकिन एनआईए की जांच से ये फंडिंग काफी कम हो चुकी है, अब हमारी एजेंसियों ये पता लगा रही है कि जम्मू में बने इस अलगाववादी गुट को फंडिंग कौन कर रहा है और फंडिंग का सोर्स क्या है.

ख़ुफ़िया एजेंसियों ने कुछ दिनों पहले केंद्र सरकार को भेजे रिपोर्ट में बताया था कि कश्मीर में रमजान के दौरान अलगाववादी गुट फंडिंग की कमी को पूरा करने के लिए ज़कात का सहारा ले रहे है. यही नहीं नेपाल के रास्ते से भी आतंकियों को पैसे मिल रहे है ऐसे में पाकिस्तान कश्मीर में आतंकियो को मदद करने के लिए हर कोशिश में लगा हुआ है.