शख्‍स ने किया दो लोगों का कत्‍ल, फिर भी मचा शोर 'भाग जा', पकड़ में न आना
X

शख्‍स ने किया दो लोगों का कत्‍ल, फिर भी मचा शोर 'भाग जा', पकड़ में न आना

आरोपी के लिए जनसमर्थन की कई वजह हैं. पहली यह कि हत्या का आरोपी कई सालों से संपत्ति विवाद झेल रहा है. इसके अलावा उसने करीब 30 साल पहले एक बच्चे को समंदर में डूबने से बचाया था और इसी तरह उसने साल 2008 में मुसीबत में फंसी दो डॉलफिन्स की जान भी बचाई थी. 

शख्‍स ने किया दो लोगों का कत्‍ल, फिर भी मचा शोर 'भाग जा', पकड़ में न आना

बीजिंग: चीन के फुजियान प्रांत से 55 साल का शख्स ओ जिंझौंग बीते एक हफ्ते से फरार है. उस पर दो पड़ोसियों की हत्या और तीन लोगों को हमला कर घायल करने का आरोप है. अब पुलिस ने उसके बारे में जानकारी देने पर या मौत का सबूत देने वाले के लिए इनाम भी घोषित कर दिया है. चीन में यह घटना चर्चा का विषय बन चुकी है लेकिन इसकी वजह शख्स को गिरफ्तार होते देखना नहीं बल्कि उसकी आजादी की दुआ करना है.

आरोपी के मिला लोगों का सपोर्ट

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर कई लोग आरोपी की आजादी चाह रहे हैं. ऐसा ही एक मैसेज वायरल हुआ जिसमें लिखा है, 'अंकल भाग जाओ, उम्मीद है कि अब बाकी बची जिंदगी में आपको खुशी मिलेगी.' कई लोग चाहते हैं कि इस नरसंहार का आरोपी कभी भी पुलिस की गिरफ्त में न आने पाए. चीन में हत्या के दोषी के लिए मौत की सजा है लेकिन ऐसे में एक मर्डर आरोपी के लिए लोगों का सपोर्ट और सहानुभूति चौंकाने वाली है.

'सीएनएन' की खबर के मुताबिक आरोपी ओ जिंझौंग ने 10 अक्टूबर को वारदात को अंजाम दिया था. पीड़ित उसके घर के बगल में रहने वाले ही हैं जिनसे उसका संपत्ति विवाद चल रहा था. इस हमले में 70 साल का एक शख्स और उसकी बहू की मौत हो गई जबकि उसकी पत्नी, 30 साल का पोता और 10 साल परपोता घायल हुए हैं. इस मामले में पुलिस को जिंझौंग की तलाश है.

संपत्ति विवाद में फंसा था हत्या का आरोपी

आरोपी के लिए जनसमर्थन की कई वजह हैं. पहली यह कि हत्या का आरोपी कई सालों से संपत्ति विवाद झेल रहा है. इसके अलावा उसने करीब 30 साल पहले एक बच्चे को समंदर में डूबने से बचाया था और इसी तरह उसने साल 2008 में मुसीबत में फंसी दो डॉलफिन्स की जान भी बचाई थी. हत्या के पीछे कुछ लोग चीन की लचर कानून व्यवस्था और नौकरशाही को दोषी ठहरा रहे हैं तो वहीं कुछ का कहना है कि अगर हालात नहीं बदले तो ऐसी घटनाएं आगे भी होती रहेंगी.

करीब पांच साल पहले संपत्ति विवाद से तंग आकर जिंझौंग ने अपना घर तुड़वा दिया था और फिर नया घर बनाना चाहता था. वीबो पोस्ट में उसने बताया था कि इसके लिए सरकार की ओर से भी मंजूरी दी जा चुकी थी. बावजूद इसके जब वह नया घर बनवाने लगा तो पड़ोसियों ने काम को रोक दिया और वह नया घर नहीं बनवा पा रहा था. इसके बाद उसने पुलिस, प्रसाशन, स्थानीय सबसे मदद मांगी लेकिन उसकी समस्या का कोई हल नहीं निकल सका.  

फिर 10 अक्टूबर को घर के काम को लेकर ही जिंझौंग का अपने पड़ोसी से विवाद हो गया जब वह टूटी हुई शीट जमा करने के लिए वहां आया था. हालांकि पुलिस की ओर से इस हत्या की ज्यादा जानकारी नहीं मुहैया कराई गई है. न ही कोई चश्मदीद अब तक सामने आया है. 

लोगों ने सरकार पर निकाला गुस्सा

जिंझौंग और उसकी बुजुर्ग मां के टूटे-फूटे घर की तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद लोगों के दिलों में आरोपी के प्रति समर्थन जाग उठा. लोगों का कहना है कि क्या सिर्फ कानून बड़े लोगों के लिए है. ईमानदार शख्स के साथ देश का कानून क्यों नहीं खड़ा होता या फिर क्यों उसे क्राइम करने के लिए मजबूर किया जाता है. किसी ने लिखा कि अमीर लोग इतने गुस्सैल क्यों होते हैं और क्या सरकार आम लोगों की हिफाजत के लिए नहीं है?

ये भी पढ़ें: चीन में चल रहा 'गंदा' गेम, दुश्‍मनों के कत्‍ल के बाद बॉडी के साथ हो रहा ये काम

स्थानीय मानव अधिकार वकील Liu Xiaoyuan ने आरोपी को सपोर्ट करते हुए कहा कि जनता जानती है कि वे हिंसा को सपोर्ट कर रहे हैं. लेकिन वह हत्या करना वाले के साथ नहीं हैं बल्कि उनका गुस्सा अथॉरिटी के लिए है जिन्होंने वक्त पर जिंझौंग की मदद नहीं की और अपनी ड्यूटी नहीं निभाई. उनका कहना है कि अगर सरकारी विभाग आरोपी की मदद करके संपत्ति विवाद को निपटा देते तो शायद हत्या की नौबत नहीं आती.

Trending news