close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

गृह मंत्री अमित शाह ने शेयर किया करतारपुर कॉरिडोर का वीडियो, बताया मोदी सरकार का ऐतिहासिक कदम

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 9 नवंबर को करतारपुर कॉरिडोर का उद्घाटन करेंगे और 12 नवंबर को होने वाले गुरु देव के 550वें जयंती समारोह के अवसर पर पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के करतारपुर साहिब गुरुद्वारा जाने वाले पहले सिख श्रद्धालुओं के पहले जत्थे को रवाना करेंगे. 

गृह मंत्री अमित शाह ने शेयर किया करतारपुर कॉरिडोर का वीडियो, बताया मोदी सरकार का ऐतिहासिक कदम

नई दिल्ली: पाकिस्तान में करतारपुर कॉरिडोर के होने वाले उद्घाटन को लेकर बीजेपी अध्यक्ष और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने एक वीडियो जारी किया है. इस वीडियो के जरिए अमित शाह ने 9 नवंबर से सिख श्रद्धालुओं के खुलने वाले करतापुर कॉरिडोर को ऐतिहासिक उपलब्धि बताया है. अमित शाह ने अपने ट्वीट में लिखा, 'करतारपुर साहिब कॉरिडोर एक ऐतिहासिक उपलब्धि है जो भक्तों की पीढ़ियों को याद रहेगी.  यह हमारी समृद्ध विरासत को संरक्षित करने और श्री गुरु नानक देव जी की शिक्षाओं को सार्वभौमिक बनाने के प्रति मोदी सरकार की प्रतिबद्धता को दर्शाता है.'      

इसके बाद अपने अगले ट्वीट में अमित शाह ने लिखा, 'करतारपुर साहिब कॉरिडोर के खुलने के साथ, जब हम श्री गुरु नानक देव जी के 550 वें प्रकाश पर्व को मना रहे हैं, PM @narendramodi ने लाखों लोगों के सपने को साकार किया है. चलिए हम सब 9 तारीख को इतिहास के साक्षी बनें, जब पीएम @narendramodi इस कॉरिडोर को राष्ट्र को समर्पित करेंगे.'

इसके साथ ही अमित शाह ने एक वीडियो भी शेयर किया है. इस वीडियो में करतारपुर कॉरिडोर के बारे में बताया गया है. 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 9 नवंबर को करतारपुर कॉरिडोर का उद्घाटन करेंगे और 12 नवंबर को होने वाले गुरु देव के 550वें जयंती समारोह के अवसर पर पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के करतारपुर साहिब गुरुद्वारा जाने वाले पहले सिख श्रद्धालुओं के पहले जत्थे को रवाना करेंगे. यह सिख समुदाय के सबसे पवित्र तीर्थस्थलों में से एक है, जहां श्रद्धालु पहले सिख गुरु के 550वीं जयंती को मनाने के लिए आ रहे हैं. गुरुद्वारा दरबार साहिब के नाम से प्रसिद्ध करतारपुर साहिब गुरुद्वारा सिख धर्म में विशेष मान्यता रखता है जहां गुरु नानक देव जी ने 18 वर्ष गुजारे थे और यहीं उन्होंने निर्वाण प्राप्त किया था.

यह भी पढ़ेंः करतारपुर: PAK के छिपे हुए एजेंडे सरकार ने लिया संज्ञान, कहा, 'सुरक्षा पर आंच नहीं आएगी'

बॉर्डर से 4 किमी दूर
माना जाता है कि भारत से लगी सीमा से लगभग 4 किलोमीटर दूर स्थित करतारपुर गुरुद्वारा 16 वीं शताब्दी में गुरु नानक के निर्वाण वाली जगह पर बनाया गया है. इसे 4.2 किलोमीटर लंबे करतारपुर साहिब कॉरीडोर से जोड़ा जाने वाला है.