Zee Rozgar Samachar

चीन की चाल: कोरोना वायरस पर हैरान करने वाला खुलासा, ड्रैगन पर ही विशेषज्ञ उठा रहे सवाल

कोरोना वायरस सिर्फ चीन ही नहीं पूरी दुनिया के लिए बड़ी दहशत बन चुका है लेकिन दुनिया के कई हिस्सों में इसको लेकर एक शक भी पनप रहा है.   

चीन की चाल: कोरोना वायरस पर हैरान करने वाला खुलासा, ड्रैगन पर ही विशेषज्ञ उठा रहे सवाल
चीन में कोरोना का खौफ ऐसे फैला हुआ है कि करीब 4 करोड़ लोग कोरोना से प्रभावित शहरों और प्रांतों को छोड़कर सुरक्षित जगहों पर जा चुके हैं.

नई दिल्ली: चीन की सेना दुनिया की सबसे ताकतवर सेनाओं में एक है. चीन के पास अमेरिका को भी डराने वाले हथियार हैं लेकिन चीन अपने ही देश से निकले एक वायरस से जूझ रहा है. चीन में कोरोना से अब तक 136 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि करीब 6000 लोग इसकी चपेट में हैं. इनमें से 461 की हालत नाजुक बताई जा रही है. चीन के वुहान शहर में सन्नाटा पसरा हुआ है. 

चीन में कोरोना का खौफ ऐसे फैला हुआ है कि करीब 4 करोड़ लोग कोरोना से प्रभावित शहरों और प्रांतों को छोड़कर सुरक्षित जगहों पर जा चुके हैं. वहीं वुहान समेत एक दर्जन शहरों में फ्लाइट और ट्रेन जैसी सेवाएं रोक दी गई हैं. कॉलेजों और स्कूलों की भी छुट्टियां बढ़ा दी गई है. आलम ये हो गया है कि चीन में बिना मास्क पहने कोई भी घर से बाहर नहीं निकल रहा है. 

क्या चीन की लैब में तैयार किया गया कोरोना वायरस?
कोरोना वायरस सिर्फ चीन ही नहीं पूरी दुनिया के लिए बड़ी दहशत बन चुका है. दुनिया के कई हिस्सों में एक शक पनप रहा है. क्या कोरोना वायरस चीन के बायोलॉजिकल हथियारों के खतरनाक प्लान से तो नहीं फैला है? सवाल ये है कि वुहान में जब न्‍यूमोनिया का जब पहला केस नजर आया तो उससे ठीक पहले पहले चीन के उपराष्‍ट्रपति वांग किशान चुपचाप वुहान क्यों पहुंचे थे. दरअसल, इजरायल के एक पूर्व मिलिट्री इंटेलीजेंस ऑफिसर ने बायोलॉजिक वॉरफेयर पर अध्‍ययन किया है और दावा किया है कि कोरोना वायरस को चीन की ही पी4 लैब में तैयार किया गया है. अमेरिका के विशेषज्ञों भी यही दावा कर रहे हैं. 

क्या चीन ने जानबूझकर कोरोना वायरस को लीक किया?  
कुछ विशेषज्ञ सवाल उठा रहे हैं कि क्‍या चीन ने जानबूझकर इस वायरस को लीक किया है. क्या चीन बायोलॉजिकल हथियार बनाने जा रहा था और अब वही वारयस चीन और पूरी दुनियापर भारी पड़ रहा है. विशेषज्ञों का कहना है कि वायरस की वजह चीन का सीक्रेट बॉयोलॉजिक वेपन प्रोग्राम है. चीन ने चमगादड़ और सांप को वायरस की वजह बताया था. कोरोना के खिलाफ लड़ाई में ऑस्ट्रेलिया के वैज्ञानिकों का बड़ी उपलब्धि का दावा. 

सेंट्रल चीन का शहर वुहान, हुबेई प्रांत में आता है और यहां पर मशहूर सी-फूड मार्केट है. इसी जगह पर पहली बार इस वायरस के पहले लक्षण देखे गए थे. पी4 लैब इस सी-फूड मार्केट से करीब 32 किलोमीटर दूर है. शुरुआत में चीन ने चमगादड़ और सांप जैसे जानवरों को वायरस की वजह बताया था. कई तरह के वीडियो शेयर किए गए थे जिसमें लोगों को इन जानवरों का मांस खाते हुए दिखाया गया था.

जनवरी 2018 में वुहान में बायो-सेफ्टी लेवल फोर यानी बीएसएल-4 लैब का निर्माण किया गया था. इसका मकसद नई बीमारियों को रोकना था . लैब में इस प्रकार के दूसरे वायरस को शुद्ध करके सुरक्षित रखा गया था.  इजरायल के बायोलॉजिकल वॉरफेयर विशेषज्ञ डैनी शोहाम ने अब सरकार पर सवाल खड़े कर दिए हैं. डैनी, इजरायल के एक पूर्व मिलिट्री इंटेलीजेंस ऑफिसर हैं और उन्‍होंने चीन के बायोलॉजिक वॉरफेयर पर अध्‍ययन किया है.

डैनी ने कहा है कि इस वायरस को चीन की पी4 लैब में ही तैयार किया गया है. सवाल यही है की क्या कोरोना वायरस वुहान की लैब में तैयार हुआ ? कोरोना वायरस के पहले मामले के सामने आने से पहले चीन के उपराष्ट्रपति चुपचाप वुहान क्यों गए थे? अगर चीन बॉयोलॉजिकल वॉरफेयर के लिए ऐसा कर रहा है तो उसे अंदाजा नहीं है कि वो किस आग से खेल रहा है. क्योंकि बॉयोलॉजिकल हथियार उस दो तरफा तलवार की तरह है जो बनाने वाले देश को भी खत्म कर सकती है.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.