मनमानी पर उतरे चीन ने रोका ब्रह्मपुत्र नदी का पानी, अरुणाचल प्रदेश में सूखे का खतरा

चीन ने तिब्बत से भारत में बहने वाली ब्रह्मपुत्र नदी के पानी को रोक दिया है. इस कारण अरुणाचल प्रदेश के बड़े हिस्से में सूखे का खतरा पैदा हो गया है.

मनमानी पर उतरे चीन ने रोका ब्रह्मपुत्र नदी का पानी, अरुणाचल प्रदेश में सूखे का खतरा
ब्रह्मपुत्र नदी को अरुणाचल प्रदेश में सियांग नदी के नाम से जाना जाता है. फाइल फोटो

नई दिल्ली : भारत के खिलाफ चीन एक बार फिर से अपनी फितरत दिखाते हुए मनमानी पर उतर आया है. अब खबरें आ रही हैं कि उसने चीन के तिब्बत से भारत में बहने वाली ब्रह्मपुत्र नदी के पानी को रोक दिया है. इस कारण अरुणाचल प्रदेश के बड़े हिस्से में सूखे का खतरा पैदा हो गया है. अरुणाचल प्रदेश में कांग्रेस के सांसद निनोंग एरिंग का कहना है कि अरुणाचल के तूतिंग, यिंगकियोंग और पासीघाट इलाके में इसके कारण सूखे के हालात पैदा हो गए हैं. सांसद ने अब विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और केंद्रीय मंत्री अर्जुन मेघवाल से इस मामले में दखल देने की मांग की है.

निनोंग एरिंग का कहना है कि चीन ने तिब्बत में बहने वाली यारलुंग सांगपो नदी का पानी रोक दिया है. ये नदी जब अरुणाचल में प्रवेश करती है तो इसे सियांग के नाम से पुकारा जाने लगता है. आगे चलकर असम में ये ब्रह्मपुत्र के नाम से पहचानी जाती है.

उधर, चीन के जल संसाधन मंत्रालय ने इन खबरों पर कहा है कि इस नदी के मिलिल सेक्शन में भारी मात्रा में भूस्खलन हुआ है. ये 16 से 17 अक्टूबर के बीच में हुआ है. इस कारण इस नदी में पानी का प्रभाव प्रभावित हुआ है. इस कारण अरुणाचल प्रदेश में पानी का बहाव भी कम हुआ है.

भारत की टेंशन बढ़ाएगा चीन, ब्रह्मोस से भी बेहतर मिसाइल देगा पाकिस्तान को

निनोंग एरिंग का कहना है कि सियांग नदी में पानी तेजी से कम हो रहा है. तूतिंग, यिंगकियोंग और पासीघाट इलाके में पानी की कमी हो रही है. इन इलाकों में नदी करीब करीब सूख गई है. चीन ने नदी का पानी अपने इलाके में रोक दिया है. इससे अरुणाचल जंगल और जलीय पर्यावरण के लिए गंभीर खतरा पैदा हो गया है. उधर अरुणाचल में पश्चिमी सियांग में अधिकारियों ने आम नागरिकों के लिए एक एडवायजरी जारी की है. नदी के क्षेत्र से दूर रहें. खासकर मछली पकड़ते समय बहुत एहतियात बरतें, क्योंकि अगर चीन ने पानी छोड़ा तो बाढ़ आ सकती है.