Agni-V Missile की आहट से ही उड़े China के होश, करने लगा शांति की बातें; जानें क्या है वजह?

हर पल अशांति फैलाने की हरकतें करने वाला चीन आजकल शांति की बातें कर रहा है. वजह है भारत की अग्नि-5 (Agni-V) मिसाइल के परीक्षण की खबरें. इन खबरों से चीन बुरी तरह डर गया है. वो दक्षिण एशिया के सभी देशों से शांति बनाए रखने की अपील कर रहा है.  

Agni-V Missile की आहट से ही उड़े China के होश, करने लगा शांति की बातें; जानें क्या है वजह?
चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग (फाइल फोटो)

बीजिंग: भारत (India) की अंतर-महाद्वीपीय बैलेस्टिक मिसाइल (ICBM) अग्नि-5 (Agni-V) की आहट से ही चीन (China) के होश उड़ गए हैं. चीन को पता है कि यदि भारत अग्नि-5 का टेस्ट करने में सफल होता है, तो उसके कई शहर मिसाइल की जद में आ जाएंगे. इसलिए वो मिसाइल के परीक्षण के पहले दबाव बनाने की रणनीति के तहत भारत को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) का नियम याद दिला रहा है. बीजिंग ने कहा कि दक्षिण एशिया के सभी देशों को क्षेत्र में शांति, सुरक्षा एवं स्थिरता बनाए रखने के लिए काम करना चाहिए.

Nuke Warhead ले जाने में सक्षम

अग्नि-5 मिसाइल (Agni-V Missile) की रेंज पांच हजार किलोमीटर तक है. यह मिसाइल अपने साथ पारंपरिक विस्फोटकों के अलावा परमाणु वॉरहेड ले जाने में भी सक्षम है. अग्नि-5 का परीक्षण करने के बारे में भारत की योजना को लेकर जब चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजान (Zhao Lijian) से सवाल किया गया, तो उन्होंने कहा कि दक्षिण एशिया में शांति, सुरक्षा एवं स्थिरता बनाए रखने में सभी का साझा हित है. प्रवक्ता ने कहा कि हमें उम्मीद है कि सभी पक्ष इस दिशा में रचनात्मक प्रयास करेंगे. बता दें कि चीन ने भारत द्वारा अग्नि-5 के पूर्व में किए गए परीक्षणों पर भी इसी तरह की प्रतिक्रिया व्यक्त की थी.

ये भी पढ़ें -काबुल में फिर दागे गए रॉकेट, पावर स्‍टेशन को बनाया गया निशाना

VIDEO

जल्द हो सकता है Test 

कुछ दिन पहले सामने आई एक मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया था कि भारत अग्नि-5 मिसाइल का टेस्ट करने की तैयारी कर रहा है. पांच हजार किलोमीटर की दूरी तक मार करने में सक्षम मिसाइल चीन के कई शहरों तक पहुंच सकती है. इस मिसाइल से भारत की सैन्य शक्ति में जबरदस्त मजबूती आने की उम्मीद है. अग्रि-2,3 और 4 मिसाइल पहले से ही भारतीय सेना में कमीशन की जा चुकी हैं.

क्या कहता है नियम?

चीनी प्रवक्ता लिजान ने कहा कि क्या भारत परमाणु आयुध ले जाने में सक्षम बैलेस्टिक मिसाइलों का विकास कर सकता है?  इस बारे में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव 1172 में पहले ही स्पष्ट नियम हैं. सुरक्षा परिषद का प्रस्ताव 1172 भारत और पाकिस्तान द्वारा 1998 में किए गए परमाणु परीक्षण से संबंधित है. प्रस्ताव में भारत और पाकिस्तान के परमाणु परीक्षण की निंदा की गई थी तथा दोनों देशों से और परमाणु परीक्षणों से परहेज करने को कहा गया था. इसमें दोनों देशों से परमाणु आयुध ले जाने में सक्षम बैलेस्टिक मिसाइलों का विकास रोकने का आग्रह भी किया गया है.

 

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.