क्या Taiwan पर हमले की तैयारी में है China? G-7 देशों की नसीहत के बाद एक साथ भेजे 28 Fighter Jets

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान ने मंगलवार को कहा कि G-7 समूह जानबूझकर चीन (China) के अंदरूनी मामलों में हस्तक्षेप कर रहा है. उन्होंने कहा कि चीन अपने अंदरूनी मामलों को सुलझाना जानता है और उसमें किसी की दखल की जरूरत नहीं है.

क्या Taiwan पर हमले की तैयारी में है China? G-7 देशों की नसीहत के बाद एक साथ भेजे 28 Fighter Jets
फाइल फोटो: ग्लोबल टाइम्स

ताइपे: सीमा विवाद जैसे मुद्दों पर G-7 देशों की नसीहत का चीन (China) पर कोई असर नहीं हुआ है, उल्टा वह बौखला गया है. इसी बौखलाहट में बीजिंग ने मंगलवार को ताइवान (Taiwan) की तरफ 28 लड़ाकू विमान भेजे. ताइवान के रक्षा मंत्रालय (Defence Ministry) ने कहा कि पिछले साल से चीन के लड़ाकू विमान लगभग रोजाना ताइवान की तरफ उड़ान भरते आ रहे हैं, लेकिन मंगलवार को चीन ने 28 फाइटर जेट्स भेजे, जो अब तक की सबसे ज्यादा संख्या है. बता दें कि हाल ही में G-7 देशों ने इसके लिए चीन को निशाने पर लिया था.

दबाव की Chinese रणनीति

ताइवान के रक्षा मंत्रालय ने कहा कि चीनी कार्रवाई पर हमारी वायु सेना (Air Force) ने तत्काल प्रतिक्रिया देते हुए लड़ाकू वायु दस्ते को तैनात किया और वायु रक्षा प्रणाली के जरिए द्वीप के दक्षिण-पश्चिम भाग में निगरानी बढ़ाई. मंत्रालय ने कहा कि ताइवान (Taiwan) की तरफ आए विमानों में 14 J-16 और छह J-11 लड़ाकू विमान शामिल रहे. गौरतलब है कि चीन ताइवान पर दबाव बनाने के लिए इस तरह की हरकतों को अंजाम देता रहता है.

ये भी पढ़ें -भारत, चीन, पाकिस्तान बढ़ा रहे हैं अपने परमाणु हथियार, SIPRI रिपोर्ट में चौंकाने वाला खुलासा

G-7 पर हस्तक्षेप का आरोप

G-7 समूह देशों के नेताओं ने रविवार को बयान जारी कर ताइवान जलडमरूमध्य मुद्दे को शांतिपूर्व सुलझाने का आह्वान किया था, जिससे बौखलाए चीन ने इस तरह अपनी शक्ति का प्रदर्शन किया है. चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान ने मंगलवार को कहा कि G-7 समूह जानबूझकर चीन के अंदरूनी मामलों में हस्तक्षेप कर रहा है. उन्होंने कहा कि चीन अपने अंदरूनी मामलों को सुलझाना जानता है और उसमें किसी की दखल की जरूरत नहीं है.

इन मुद्दों पर जताई थी चिंता

G-7 समूह द्वारा रविवार को जारी किए गए बयान में बंधुआ मजदूरी पर भी चिंता जाहिर की गई थी. इसमें कहा गया था कि चीन को शिनजियांग में मानवाधिकारों का सम्मान करना चाहिए, हॉन्ग-कॉन्ग को ज्यादा स्वायत्ता देनी चाहिए और दक्षिण चीन सागर में सुरक्षा को नुकसान पहुंचाने से बचना चाहिए. चीन के शिनजियांग प्रांत में बड़े पैमाने पर वीगर मुस्लिमों के शोषण की खबरें सामने आ चुकी हैं. यह मुद्दा एक तरह से चीन की दुखती रग है, जब भी इस पर बात होती है बीजिंग बौखला जाता है.  

 

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.