चीन की अमेरिका को चेतावनी, 'हांगकांग के मामलों में दखल ना दें'

 कंग श्वांग ने कहा कि वर्ष 1997 में हांगकांग के चीन में वापस आने के बाद चीन-ब्रिटेन (Britain) संयुक्त वक्तव्य में निर्धारित ब्रिटेन के अधिकार और कर्तव्य पूरा हो चुके हैं. अमेरिका (America) को इसके हवाले से हांगकांग के मामले पर टिप्पणी नहीं करना चाहिए.

चीन की अमेरिका को चेतावनी, 'हांगकांग के मामलों में दखल ना दें'
फाइल फोटो

बीजिंग: चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता कंग श्वांग ने कहा कि अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ (Mike Pompeo) ने हाल ही में एक बार फिर हांगकांग (Hong Kong) के हालात पर गलतबयानी की. उन्होंने कहा कि चीन अमेरिका से चीन की प्रभुसत्ता का सम्मान कर गैर-जिम्मेदाराना बयान न देने और चीन के अंदरूनी मामलों में हस्तक्षेप न करने का आग्रह करता है.

LIVE TV...

कंग श्वांग ने कहा कि चीन कड़ाई से कानून का पालन करने में हांगकांग पुलिस का दृढ़ समर्थन करती है और कानून के अनुसार हिंसक अपराधियों को सजा देने में हांगकांग के कानूनी संगठन का दृढ़ समर्थन करती है. हांगकांग का मामला चीन (China) का अंदरूनी मामला है. 

किसी भी विदेशी सरकार, संगठन या व्यक्ति का इसमें हस्ताक्षेप करने का अधिकार नहीं है. कंग श्वांग ने कहा कि वर्ष 1997 में हांगकांग के चीन में वापस आने के बाद चीन-ब्रिटेन (Britain) संयुक्त वक्तव्य में निर्धारित ब्रिटेन के अधिकार और कर्तव्य पूरा हो चुके हैं. अमेरिका (America) को इसके हवाले से हांगकांग के मामले पर टिप्पणी नहीं करना चाहिए.