कोरोना पर इमरान ने दिखाई अपनी मजबूरी, कहा- देश ऐसा कर पाने की स्थिति में नहीं है

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने अपने देश की जनता से कहा, "मुझमें विश्वास रखें. मैं अपनी टीम के साथ पूरी तरह से हालात पर निगाह रखे हुए हूं."

कोरोना पर इमरान ने दिखाई अपनी मजबूरी, कहा- देश ऐसा कर पाने की स्थिति में नहीं है
पाकिस्तान के पीएम इमरान खान (फाइल फोटो @ImranKhanOfficial)

इस्लामाबाद: पाकिस्तान (Pakistan) के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) ने कहा है कि देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) के प्रकोप के कारण पूर्ण लॉकडाउन (lockdown) नहीं किया जाएगा.

पाकिस्तान में कोरोना वायरस तेजी से फैल रहा है. इसके मद्देनजर कुछ विपक्षी दलों समेत समाज के कुछ अन्य हिस्सों की तरफ से पूर्ण लॉकडाउन की मांग उठ रही है. सिध प्रांत की पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी की सरकार का कहना है कि वह प्रांत में लॉकडॉउन का ऐलान करने वाली है.

कोरोना वायरस की समस्या पर राष्ट्र के नाम अपने दूसरे संबोधन में इमरान ने कहा, "अगर हमारे (पाकिस्तान के) हालात इटली और चीन जैसे होते तो मैं पूरा पाकिस्तान लॉकडाउन कर देता. बहस चल रही है कि पूरे मुल्क को लॉकडाउन कर देना चाहिए. मैं आपको इसका मतलब बताता हूं. लॉकडाउन-कर्फ्यू का मतलब सभी नागरिकों को उनके घरों में बंद कर देना है. अगर आज पूरा लॉकडाउन मैं कर दूं तो दिहाड़ी कमाने वाले मजदूर घरों में बंद हो जाएंगे. 25 फीसदी गरीब लोगों का क्या होगा. क्या हमारे पास इतने संसाधन हैं कि हम दिहाड़ी वाले सभी लोगों के घरों तक राशन पहुंचा सकें? देश ऐसा कर पाने की स्थिति में नहीं है."

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने लोगों से सहयोग देने की अपील करते हुए कहा, "हमने स्कूल-कॉलेज, विश्वविद्यालय, शॉपिंग सेंटर, मॉल वगैरह बंद कर दिए हैं. अब यह देश के नागरिकों पर है कि वे खुद अपने आपको लॉकडाउन कर दें, खुद को आइसोलेशन में कर लें."

उन्होंने लोगों से कहा, "अपनी जिम्मेदारी निभाएं. अगर बीमारी के लक्षण दिखें तो खुद को अलग-थलग कर लें. अफरातफरी और घबराहट इस वायरस से अधिक नुकसान पहुंचा सकती है."

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने अपने देश की जनता से कहा, "मुझमें विश्वास रखें. मैं अपनी टीम के साथ पूरी तरह से हालात पर निगाह रखे हुए हूं."