Coronavirus: पाकिस्तान में हालात बेकाबू, एक बार फिर लगा Lockdown

पाकिस्तान में कोरोना वायरस से हालात इतने बेकाबू हो गए हैं कि इमरान खान सरकार को दोबारा लॉकडाउन लगाने का फैसला लेना पड़ा. राजधानी इस्लामाबाद सहित कराची, लाहौर, रावलपिंडी में लॉकडाउन लगा दिया गया है.

Coronavirus: पाकिस्तान में हालात बेकाबू, एक बार फिर लगा Lockdown
फाइल फोटो.

इस्लामाबाद: पाकिस्तान (Pakistan) में कोरोना की दूसरी लहर आ चुकी है. एक बार फिर हालात बेकाबू हो गए हैं. कोरोना वायरस (Coronavirus) महामारी के चलते पड़ोसी मुल्क में हर रोज अनगिनत लोग जान गंवा रहे हैं. हालात इतने बेकाबू हो गए हैं कि पाकिस्तान में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के चलते राजधानी इस्लामाबाद सहित कराची, लाहौर, रावलपिंडी में लॉकडाउन लगा दिया गया है.

यह भी पढ़ें: अभिनंदन की घर वापसी पर सामने आया पाकिस्तान का डर, इस वजह से किया था आजाद

शॉपिंग मॉल, मैरिज हॉल, रेस्तरां बंद
पाकिस्तान सरकार ने COVID-19 प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन कराए जाने के निर्देश जारी कर दिए हैं. प्रशासन ने फिलहाल सभी व्यावसायिक गतिविधियों को बंद करने का आदेश दिया है. शॉपिंग मॉल, मैरिज हॉल, रेस्तरां बंद रहंगे. आवश्यक सेवाओं जैसे मेडिकल, अस्पताल को रात 10 बजे तक खुले रहने की अनुमति दी गई है. सार्वजनिक परिवहन, बाजारों और रेलवे स्टेशनों जैसी जगहों पर मास्क पहनना अनिवार्य है. नए नियन आज (गुरुवार, 29 अक्टूबर) से लागू होंगे.

हालात खराब
रावलपिंडी, मुल्तान, हैदराबाद, गिलगित, मुजफ्फराबाद, मीरपुर, पेशावर और क्वेटा सहित कई अन्य शहरों में भी आंशिक लॉकडाउन रहेगा. पाकिस्तान के प्रधान मंत्री इमरान खान के विशेष सलाहकार (स्वास्थ्य) डॉ फैसल सुल्तान ने कहा कि देश में कोरोना की ‘दूसरी लहर’ आ चुकी है. सकार पहले ही मास्क पहनना अनिवार्य कर चुकी है, धारा 144 लगा चुकी है. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान हालात के बाबत पहले ही लोगों को आगाह कर चुके थे.

लगातार बढ़ रहे मामले
पाकिस्तान में कोरोनोवायरस के मामलों की संख्या 330,516 हो गई है. 6,766 लोगों की मौत हो चुकी है. सिंध प्रांत में अब तक 144,7600 से अधिक मामले दर्ज किए गए हैं, जिनमें से मरने वालों की संख्या 2,610 से अधिक है. मंगलवार को पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में कोरोना के 374 नए मामले मिले हैं.

LIVE TV
 

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.