Pakistan: इमरान खान के हाथ में नहीं रहेगी अपनी ही पार्टी की कमान, पाकिस्तान का गंदा सियासी खेल आया सामने
topStories1hindi1473384

Pakistan: इमरान खान के हाथ में नहीं रहेगी अपनी ही पार्टी की कमान, पाकिस्तान का गंदा सियासी खेल आया सामने

Imran khan: पाकिस्तान में सत्ता की लड़ाई रोज नए रंग ले रही है. मौजूदा सरकार इमरान खान को कमजोर करने का कोई भी मौका नहीं छोड़ रही. अब चुनाव आयोग ने की इमरान खान को पार्टी अध्यक्ष पद से हटाने की पहल कर दी है.

Pakistan: इमरान खान के हाथ में नहीं रहेगी अपनी ही पार्टी की कमान, पाकिस्तान का गंदा सियासी खेल आया सामने

Pakistan Dirty Politics: पाकिस्तान की राजनीति में रोजाना कुछ ना कुछ बड़ी उठापटक सामने आ रही है. इमरान खान के सत्ता से जाने और उनके ऊपर हुए जानलेवा हमले के बाद पड़ोसी देश में रोज नया सियासी ड्रामा देखने को मिल रहा है. इमरान खान देश में नए सिरे से आम चुनाव की मांग पर अड़े हुए हैं. वहीं, मौजूदा पाक सरकार दूर-दूर तक चुनाव कराने का विचार नहीं कर रही है. इस बीच देश के चुनाव आयोग ने इमरान खान के खिलाफ बड़ा एक्शन लेने का मन बना लिया है.

पाक चुनाव आयोग का बड़ा कदम

पाकिस्तान चुनाव आयोग (ईसीपी) ने मंगलवार को पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान को पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) के अध्यक्ष पद से हटाने की पहल की. आयोग ने यह कदम तोशखाना मामले में उनको संसद की सदस्यता से अयोग्य ठहराए जाने के बाद उठाया है. डॉन अखबार ने ईसीपी के एक शीर्ष अधिकारी के हवाले से खबर दी कि पूर्व प्रधानमंत्री को नोटिस जारी किया गया है और मामले की सुनवाई के लिए 13 दिसंबर की तारीख तय की गई है.

इमरान पर हैं गंभीर आरोप

इमरान खान (खान) पर प्रधानमंत्री रहते हुए महंगी घड़ियों सहित मिले अन्य उपहारों को तोशखाना से रियायती दरों पर खरीदने के बाद मुनाफे पर बेचने का आरोप है. पाकिस्तान के चुनाव आयोग ने इस संबंध में ‘‘ गलत बयानी और झूठी घोषणा’ का आरोप लगाते हुए संविधान के अनुच्छेद 63(i)(पी) के तहत इमरान खान को अयोग्य ठहरा दिया है. 

जानें क्या है मामला

चुनाव आयोग के दस्तावेजों के मुताबिक वर्ष 1974 में स्थापित तोशखाना से 2.15 करोड़ मूल्य के सामान खरीदे गए जबकि उनका वास्तविक मूल्य 10.8 करोड़ रुपये था. गौरतलब है कि पाकिस्तानी कानून के तहत विदेश से सरकारी अधिकारियों और मंत्रियों को मिले उपहार अपने पास रखने से पहले तोशखाना या कोषागार में मूल्यांकन के लिए जमा कराने होते हैं.

पाठकों की पहली पसंद Zeenews.com/Hindi - अब किसी और की ज़रूरत नहीं

(एजेंसी इनपुट के साथ)

Trending news