ISI ने सेना की छवि खराब करने, पंजाब को अस्थिर करने के लिए रचा 'जाल'

ISI ने सेना की छवि खराब करने, पंजाब को अस्थिर करने के लिए रचा 'जाल'

ख़ुफ़िया एजेंसियों ने सरकार को भेजी एक रिपोर्ट में कहा है कि पाकिस्तान की आईएसआई भारतीय सेना की छवि खराब करने के लिए बड़े पैमाने पर साजिश रच रही है.

  • आईएसआई सेना से जुड़े फर्जी दस्‍तावेजों को भारत में कर रही वितरित
  • सेना की छवि को खराब करने के लिए किया जा रहा ये खेल
  • इस काम के लिए अलगाववादी गुट सिख फॉर जस्टिस की ली जा रही मदद

Trending Photos

ISI ने सेना की छवि खराब करने, पंजाब को अस्थिर करने के लिए रचा 'जाल'

नई दिल्‍ली: ख़ुफ़िया एजेंसियों ने सरकार को भेजी एक रिपोर्ट में कहा है कि पाकिस्तान की आईएसआई भारतीय सेना की छवि खराब करने के लिए बड़े पैमाने पर साजिश रच रही है. जानकारी के मुताबिक आईएसआई भारतीय सेना से जुड़े कई फर्जी दस्‍तावेजों को भारत में वितरित कर रही है जिससे सेना को लेकर लोगों में गलत छवि बने. आईएसआई, फर्जी डॉक्‍यूमेंट्स को अलग-अलग ग्रुपों के जरिये भारतीय सोशल मीडिया पर वायरल करने में लगी हुई है.

पिछले दिनों भारतीय सेना के मिलिट्री इंटेलिजेंस से जुड़ा एक फेक लेटर सामने आया था जिसमें कहा गया था कि भारतीय सेना में जो सिख जवान हैं उन पर नज़र रखी जा रही है. आईएसआई इस काम के लिए अलगाववादी गुट सिख फॉर जस्टिस की मदद ले रही है. फर्जी लेटर सामने आने के बाद एक खास प्लानिंग के जरिये सिख फॉर जस्टिस ने पिछले दिनों सेना के खिलाफ दुनिया के कई देशों में प्रदर्शन किया था और भारतीय सेना को बदनाम करने की कोशिश की थी. सेना ने बाद में इस रिपोर्ट को गलत बताया था और सिख फॉर जस्टिस ने जिस मिलिट्री इंटेलिजेंस से जुड़े लेटर पर विरोध किया था उसे फर्जी बताया था.

ISI कानून के दायरे में काम करे, राजनीति से दूर रहे: पाकिस्‍तान सुप्रीम कोर्ट का आदेश

रिपोर्ट के मुताबिक देश में रह रहे सिख युवकों को भारत के खिलाफ भड़काने के लिए आईएसआई अलगाववादी गुट सिख फॉर जस्टिस (एसएफजे) की मदद ले रही है. हम आपको बता दें कि सिख फॉर जस्टिस को आईएसआई फंडिंग कर रही है जो इसके जरिये पूरी दुनिया में रह रहे सिख समुदाय से जुड़े लोगों को भारत के खिलाफ भड़काने की साजिश में लगी हुई है.

लाहौर में खुला सिख फॉर जस्टिस का दफ्तर
आईएसआई की पाकिस्तान में करतारपुर साहिब दर्शन के लिए जाने वाले भारतीयों पर भी नज़र है जो 'सिख फॉर जस्टिस' गुट की मदद से भारत के खिलाफ गलत दुष्प्रचार करने की साजिश में लगी है. इस काम में तेज़ी लाने के लिए पिछले दिनों आईएसआई ने लाहौर में सिख फॉर जस्टिस का दफ्तर खुलवाया है. आईएसआई, हाफिज सईद की आतंकवादी संस्था जमात-उद-दावा और सिख फॉर जस्टिस के बीच बेहतर तालमेल के लिए कई राउंड की बैठक करवा चुकी है.

 

भारतीय एजेंसियों को शक है कि आईएसआई इन अलगाववादी गुटों की मदद से पंजाब में एक बार फिर से आतंकी हमले करवाना चाहती है. पाकिस्तान में अभी भी कई खालिस्तानी समर्थित आतंकी गुट मौजूद हैं और आईएसआई सिख फॉर जस्टिस की मदद से सिख युवकों का ब्रेनवाश कर भारत के खिलाफ आतंकी हमलों के लिए इस्तेमाल करना चाहती है.

केंद्रीय सुरक्षा एजेंसी में तैनात एक अधिकारी के मुताबिक आईएसआई, सिख फॉर जस्टिस की मदद से भारतीय सेना और भारत के बारे में सिख युवकों के बीच दुष्प्रचार की कोशिश में लगी है. जिस तरह से एक के बाद एक फर्जी लेटर सोशल मीडिया पर जारी किए जा रहे हैं, इससे जाहिर होता है कि पाकिस्तान एक बार फिर से पंजाब को अस्थिर करने की पूरी कोशिश में लगा हुआ है.

पिछले दिनों 'सिख फॉर जस्टिस' ने अमेरिका में 'भारतीय झंडा जलाने' की चेतावनी दी थी. इस संगठन ने ऐलान किया था कि वह गणतंत्र दिवस के अवसर पर वाशिंगटन डीसी स्थ‍ित भारतीय दूतावास की इमारत के सामने विरोध स्वरूप यह झंडा जलाएगा. 'सिख फॉर जस्ट‍िस' नामक संगठन ने अपने तमाम समर्थकों को इस विरोध प्रदर्शन में शामिल होने का न्‍यौता भी भेजा था.  संगठन ने अपने निमंत्रण में लोगों से यह अनुरोध किया था कि वे वाशिंगटन डीसी में मैसाचुसेट्स एवेन्यू स्थ‍ित भारतीय दूतावास के सामने के पब्लिक पार्क में जमा होकर विरोध प्रदर्शन करें.

Trending news