close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अमेरिका ने फिर दी 'पाक' को चेतावनी, अब नहीं की आतंकवाद पर कार्रवाई तो बढ़ेंगी आर्थिक मुश्किलें

अमेरिका में कांग्रेस के प्रभावशाली भारतीय-अमेरिकी सदस्य एमी बेरा ने पाकिस्तान को चेतावनी दी है कि यदि वह अपने देश में मौजूद आतंकवादी समूहों के खिलाफ कार्रवाई नहीं करता है तो वह अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अलग-थलग ही बना रहेगा.

अमेरिका ने फिर दी 'पाक' को चेतावनी, अब नहीं की आतंकवाद पर कार्रवाई तो बढ़ेंगी आर्थिक मुश्किलें
अमेरिका में भारतीय-अमेरिकी सदस्य एमी बेरा ने पाकिस्तान से आतंकवाद पर कार्रवाई करने के लिए कहा है.

वॉशिंगटन : अमेरिका में कांग्रेस के प्रभावशाली भारतीय-अमेरिकी सदस्य एमी बेरा ने पाकिस्तान को चेतावनी दी है कि यदि वह अपने देश में मौजूद आतंकवादी समूहों के खिलाफ कार्रवाई नहीं करता है तो वह अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अलग-थलग ही बना रहेगा. ‘हाउस फोरन अफेयर्स सबकमेटी ऑन ओवरसाइट एंड इन्वेस्टिगेशन’ के अध्यक्ष बेरा ने एक संपादकीय में लिखा, ‘‘ यदि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान आतंकवादी समूहों के खिलाफ कार्रवाई शुरू करते हैं तो अमेरिकी कांग्रेस उसका साथ देने के लिए खड़ी है. इससे उनके देश की अर्थव्यवस्था भी मजबूत होगी. ’’ 

अभिनंदन वर्धमान को सौंपकर पाकिस्तान ने उठाया सही कदम
बेरा ने ‘टाइम फॉर पाकिस्तान टू चार्ट ए न्यू कोर्स’ शीर्षक के तहत लिखा कि पाकिस्तान ने भारतीय वायुसेना के पायलट अभिनंदन वर्धमान को भारत को सौंपकर सही कदम उठाया. उन्होंने कहा,‘‘ इससे खतरनाक स्तर पर पहुंच चुका तनाव कम हुआ लेकिन अब भी और कदम उठाने की आवश्यकता है. प्रधानमंत्री इमरान खान को इस अवसर का उपयोग दुनिया के साथ अपने देश के संबंधों को सुधारने और पाकिस्तान के लिए एक नया मार्ग तैयार करने के लिए करना चाहिए. ’’

बेरा ने दी आर्थिक मुश्किलों की चेतावनी
बेरा ने कहा, ‘‘ प्रधानमंत्री खान (जैश-ए-मोहम्मद के सरगना) मसूद अजहर को न्याय के दायरे में लाकर पाकिस्तान की छवि बेहतर बना सकते हैं.’’ उन्होंने कहा कि यदि पाकिस्तान आतंकवादियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं करता है तो ‘‘ मुझे डर है कि पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अलग-थलग बना रहेगा जिससे पाकिस्तानी लोगों के लिए आर्थिक मुश्किलें बढ़ेंगी.’’ 

बेरा ने कहा, ‘‘मैं चीन से भी अपील करता हूं कि वह भारत और पाकिस्तान के संबंधों में रचनात्मक भूमिका निभाए. चीन की ओर से पहला सही कदम यह होगा कि वह संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित किए जाने के मार्ग को बाधित करना बंद करे .’’ 

Input: Bhasha