Pakistan के कार वॉशिंग सेंटरों में नहलाया जा रहा है भेड़-बकरियों को! जानें वजह

जिस जगह चार पहिया वाहनों की धुलाई होती है, उन कार वॉशिंग सेंटर्स पर जानवर नहा रहे हैं. 

Pakistan के कार वॉशिंग सेंटरों में नहलाया जा रहा है भेड़-बकरियों को! जानें वजह

इस्‍लामाबाद: जिस जगह चार पहिया वाहनों की धुलाई होती है, उन कार वॉशिंग सेंटर्स पर जानवर नहा रहे हैं.  जी हां, पाकिस्‍तान में इस समय यही हो रहा है. पाकिस्तान (Pakistan) में शुक्रवार से बकरीद (Eid al-Adha) का त्‍योहार मनाया जाएगा जो कि तीन दिनों तक चलता है. इसकी तैयारियों के मद्देनजर पाकिस्तान के कराची में एक कार वॉशिंग सेंटर के मालिक सगीर उन ग्राहकों को देख रहे हैं जो सफाई के लिए अपने मवेशियों जैसे भेड़ और बकरियों को ला रहे हैं.

उन्होंने बताया कि यह चलन तब शुरू हुआ जब कुछ लोगों ने उन्हें ईद से पहले कार-वॉश सेंटर में बलि के अपने जानवरों (Sacrificial Animal) की सफाई करते हुए देखा. सगीर ने बताया, 'जिन लोगों ने मुझे जानवरों को धोते हुए देखा, वे अपने जानवरों के साथ मेरे पास आए और इस तरह से यह चलन शुरू हो गया.' 

यह भी पढ़ें: Unlock-3: गुजरात ने किया ऐलान, 10 बजे तक रेस्टोरेंट, देर तक खुलेंगी दुकानें

कुर्बानी के इस त्‍यौहार पर कई जानवरों की बलि दी जाती है. कराची के बाहरी इलाके में लगने वाले जानवरों के बाजार में दूर-दूर से बलि के जानवर आते हैं. इसे एशिया का ऐसा सबसे बड़ा बाजार कहा जाता है.

पशु अक्सर गंदगी, धूल और गोबर से सने होते हैं और कोरोना वायरस महामारी के समय में स्वच्छता सर्वोपरि हो गई है.

उन्‍होंने आगे कहा, 'मैंने इसे जानवरों को कीटाणुनाशक से साफ करने के साथ-साथ पवित्र करने का भी एक पॉइंट बना दिया है.' वह जानवरों को पहले साबुन के झाग मिले पानी से रगड़ कर साफ करते हैं और फिर साफ पानी के एक प्रेशर पाइप से धोते हैं. 

इस काम के लिए वह 100 रुपये (लगभग 60 सेंट) चार्ज करते हैं. एक ग्राहक मोहम्मद उजैर ने कहा कि चार्ज न के बराबर है.

(इनपुट: एएफपी)