close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मीटिंग में बैठे थे ताकतवर देशों के अधिकारी, भारतीय अधिकारियों ने चीन के सामने ही पाकिस्‍तान पर दाग दिए कठोर सवाल

भारत ने एशिया-पैसिफिक ग्रुप (APG) की "फेस-टू-फेस मीटिंग" में पाकिस्‍तान पर एक के बाद एक कठोर सवाल दागे.

मीटिंग में बैठे थे ताकतवर देशों के अधिकारी, भारतीय अधिकारियों ने चीन के सामने ही पाकिस्‍तान पर दाग दिए कठोर सवाल
(फाइल फोटो)

इस्‍लामाबाद : आतंकवाद के मुद्दे पर पाकिस्‍तान को वैश्विक समुदाय के सामने भारत की ओर से एक बार फिर मुंह की खानी पड़ी. पाकिस्तान को मनी लॉन्ड्रिंग और टेरर फाइनेंसिंग के खिलाफ उसके प्रयासों की प्रभावशीलता पर ऐसे कठोर सवालों का सामना करना पड़ा, जिसका उसके पास कोई जवाब ही नहीं था.

भारत ने एशिया-पैसिफिक ग्रुप (APG) की "फेस-टू-फेस मीटिंग" में पाकिस्‍तान पर एक के बाद एक कठोर सवाल दागे. पाकिस्‍तानी प्रतिनिधिमंडल इनका कोई प्रभावी जवाब नहीं दे पाया. खास बात यह है कि पाकिस्‍तान को अपने मित्र देश चीन में इन सवालों का सामना करना पड़ा.

पाकिस्तान के अखबार DAWN NEWS की वेबसाइट में प्रकाशित खबर के अनुसार, पाकिस्‍तान के वित्‍त सचिव मोहम्‍मद यूनुस दागा ने दस सदस्‍यीय प्रतिनिधिमंडल के साथ चीन के गुआंगज़ौ में आयेाजित इस दो दिवसीय बैठक में शिरकत की. इस दौरान उन्‍होंने समूह को मुद्रा तस्करी के खिलाफ पाकिस्‍तान द्वारा की गई अद्यतन कार्रवाइयों के बारे में जानकारी दी.

इस दौरान बैठक में आए भारतीय सदस्‍यों ने बैन आतंकी संगठनों के खिलाफ कार्रवाई और आंतरिक नियंत्रणों की प्रभावशीलता के लिए पाकिस्तान की गंभीरता को लेकर उनके समक्ष बहुत कठिन सवाल उठाए. आतंकवाद पर उठे सवालों पर 

इस दौरान पाकिस्‍तानी पक्ष की तरफ से कुछ बैन संगठनों के प्रमुख गुर्गों की गिरफ्तारी की सूचना APG को दी. साथ ही उन्‍होंने बताया कि 'कुछ संगठनों और उनके सहयोगियों को प्रतिबंधित संगठनों की सूची में डाल दिया है. उनके खातों और वित्तीय प्रवाह को अवरुद्ध कर दिया और उनकी संपत्ति पर सरकार ने नियंत्रण कर लिया है'.