कर्ज में इस कदर डूबा है पाकिस्‍तान की रोजाना चुका रहा 11,00,00,00,000 रुपये से ज्‍यादा का ब्‍याज

इमरान खान ने मंगलवार को रेलवे लाइव ट्रैकिंग सर्विस और थल एक्‍सप्रेस ट्रेन सेवा का उद्घाटन करते हुए यह जानकारी दी. 

कर्ज में इस कदर डूबा है पाकिस्‍तान की रोजाना चुका रहा 11,00,00,00,000 रुपये से ज्‍यादा का ब्‍याज
(फाइल फोटो)

नई दिल्‍ली/इस्‍लामाबाद : पाकिस्‍तान कर्ज में इस कदर डूबा हुआ है कि इससे उबरने में उसे लंबा अर्सा लग सकता है. प्रधानमंत्री इमरान खान के नेतृत्‍व वाली पाकिस्‍तान की नई सरकार ने खुद माना है कि पिछली सरकारों द्वारा इतना कर्ज ले लिया गया कि आज पाकिस्‍तान कर्ज से कहीं ज्‍यादा उसका ब्‍याज चुका रहा है. इमरान खान ने मंगलवार को एक सरकारी कार्यक्रम में खुद कबूल किया कि आज पाकिस्‍तानी सरकार हर रोज कर्ज की एवज में 6 बिलियन रुपये यानि 11 अरब रुपये से ज्‍यादा का ब्‍याज चुका रहा है. 

इमरान खान ने मंगलवार को रेलवे लाइव ट्रैकिंग सर्विस और थल एक्‍सप्रेस ट्रेन सेवा का उद्घाटन करते हुए यह जानकारी दी. उन्‍होंने कहा कि पिछली सरकारों की वजह से हम रोजाना करीब 11 अरब रुपये से ज्‍यादा का ब्‍याज चुका रहे हैं. 

ये भी पढ़ें- पाकिस्‍तान का भरने वाला है खजाना, सऊदी अरब देने जा रहा है 7,09,15,00,00,000 रु. का तोहफा

खान ने कहा कि इस वजह से हमने सभी मंत्रियों से कहा है कि वजह खर्च कम करें. पिछली सरकारों की तरफ से दिए गए कई एनआरओ की वजह से सरकारी खजाने को काफी नुकसान पहुंचा.


प्रधानमंत्री इमरान खान (फाइल फोटो)

इसके साथ ही उन्‍होंने रेल मंत्री शेख रशीद को निर्देश दिए कि वजह भ्रष्‍टाचार से संबंधित मामलों को राष्‍ट्रीय जवाबदेही ब्‍यूरो को भेजें. उन्‍होंने कहा कि 157 बिलियन रुपये गैस सेक्‍टर पर खर्च किए जा रहे हैं. हर साल 50 बिलियन रुपये के गैस भंडार का दुरुपयोग किया जाता है. उन्‍होंने कहा कि हमारी सरकार सत्‍ता में आई है और चीन के साथ सीपीईसी में कई प्रोजेक्‍टों पर काम कर रहे हैं.

इस बीच, मंत्री शेख रशीद ने कहा कि पूर्व सरकार ने रेलवे विभाग में कई कमियां निकाली हैं, और एक अरब रुपये मूल्य की मशीनें खरीदी गईं, जो बेकार हैं. करीब 400 से 500 मिलियन रुपये ओकारा और नारोवाल स्‍टेशनों पर बिना वजह खर्च कर दिए गए. 

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.