close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पाकिस्तानः पूर्व पीएम नवाज शरीफ की बेटी मरियम नवाज गिरफ्तार

पाकिस्तान की भ्रष्टाचार रोधी एजेंसी द्वारा अवेनफील्ड भ्रष्टाचार मामले में जाली ट्रस्ट डीड का उपयोग करने को लेकर उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने की मांग इस्लामाबाद जवाबदेही अदालत द्वारा ठुकराए जाने के बाद यह जांच शुरू की गई है. 

पाकिस्तानः पूर्व पीएम नवाज शरीफ की बेटी मरियम नवाज गिरफ्तार

लाहौर: पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की बेटी और पीएमएल-एन की नेता मरियम नवाज को गुरुवार को लाहौर पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. मरियम की गिरफ्तारी लाहौर की कोट लखपत जेल के बाहर उस वक्त हुई जब वह अपने पिता और पूर्व पीएम नवाज शरीफ से मिलने के लिए जा रही थीं. यह गिरफ्तारी चौधरी शुगर मिल मामले में नेशनल अकाउंटैबिलिटी ब्यूरो (एनएबी) के सामने पेश नहीं होने को लेकर की गई है. बता दें कि मरियम नवाज के खिलाफ 21 जुलाई को एनएबी ने फिर जांच शुरू की थी.

पाकिस्तान की भ्रष्टाचार रोधी एजेंसी द्वारा अवेनफील्ड भ्रष्टाचार मामले में जाली ट्रस्ट डीड का उपयोग करने को लेकर उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने की मांग इस्लामाबाद जवाबदेही अदालत द्वारा ठुकराए जाने के बाद यह जांच शुरू की गई है. नेशनल अकाउंटैबिलिटी ब्यूरो (एनएबी) ने मेसर्स चौधरी शुगर मिल्स लिमिटेड के स्वामित्व को लेकर मरियम नवाज, उनके पिता, पाकिस्तान मुस्लिम लीग (नवाज) के अध्यक्ष शहबाज शरीफ, उनके चचेरे भाई हमजा शहबाज और युसुफ अब्बास व अन्य के खिलाफ जांच शुरू की है. 

अखबार डॉन की 20 जुलाई की रिपोर्ट के अनुसार, एनएबी को कथित तौर शरीफ परिवार द्वारा लाखों रुपये (पाकिस्तानी मुद्रा) के टेलीग्राफिक हस्तांतरण का पता चला है जिसके अंतिम लाभार्थी मरियम नवाज और चौधरी शुगर मिल्स के स्वामी रहे हैं. सूत्रों के हवाले से अखबार ने बताया था, "ब्यूरो मरियम को बुलाने के बजाए उनको एक प्रश्नावली भेज सकता है." सूत्रों के अनुसार, आय से अधिक धन व धनशोधन के मामले में शहबाज शरीफ और उनके बेटों के खिलाफ जांच के दौरान चौधरी शुगर मिल्स के मालिकों के खिलाफ धनशोधन का सबूत मिला है. 

यह भी पढ़ेंः इमरान खान ने आधी रात में किया ऐलान, चोरों और भ्रष्टाचारियों को नहीं बख्शेंगे

उधर, लाहौर स्थित एनएबी ने इससे पहले एक दर्जन से अधिक वाणिज्यिक बैंकों को शहबाज शरीफ और उनके परिवार के 150 से अधिक खातों को सील करने के लिए पत्र लिखा. शहबाज शरीफ ने शुक्रवार को पार्टी के प्रांतीय सांसदों की एक बैठक की अध्यक्षता की और विपक्ष के खिलाफ इमरान खान सरकार की फासीवादी चालों से लड़ने का संकल्प लिया.