पाकिस्तान के पीएम इमरान ने कहा- रेपिस्टों को देनी चाहिए फांसी या बनाना चाहिए नपुंसक!

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) ने देश में महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अत्याचार को लेकर बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा कि रेप के आरोपियों को सरेआम चौराहे पर लटका दिया जाना चाहिए, ताकि उनमें डर पैदा हो और ऐसे अपराध रुकें.

पाकिस्तान के पीएम इमरान ने कहा- रेपिस्टों को देनी चाहिए फांसी या बनाना चाहिए नपुंसक!
इमरान खान (फाइल फोटो)

इस्लामाबाद: पाकिस्तान (Pakistan) के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) ने देश में महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अत्याचार को लेकर बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा कि रेप के आरोपियों को सरेआम चौराहे पर लटका दिया जाना चाहिए, ताकि उनमें डर पैदा हो और ऐसे अपराध रुकें. उन्होंने सजा के तौर पर इंजेक्शन के माध्यम से नपुंसक बना देने का भी समर्थन किया.

लाहौर में हाईवे पर हुआ था रेप
पिछले सप्ताह एक महिला के साथ दो लोगों ने गन प्वाइंट पर रेप किया था, जिसके बाद पाकिस्तान में महिलाओं की सुरक्षा (Female Security) का मुद्दा गरमा गया. इसी विषय पर इमरान खान ने बोलते हुए कहा कि अपराधियों को कड़ी से कड़ी सजा मिले, ताकि मिसाल कायम की जा सके. उन्होंने महिलाओं के खिलाफ यौन हिंसा के बढ़ते मामलों पर भी हैरानी जताई.

इमरान की खरी खरी
इमरान खान ने कहा, 'बलात्कारियों को कड़ी सजा मिलनी चाहिए, ताकि समाज में संदेश जाए. मेरी राय में उनाहें बीच चौराहे पर फांसी पर लटका दिया जाना चाहिए.' उन्होंने बच्चों का यौन उत्पीड़न करने वालों के लिए भी यही राय रखी.

इमरान ने अपनी कैबिनेट में रखी बात
इमरान खान ने कहा कि चौराहे पर लटकाने वाली सजा की बात उन्होंने अपने कैबिनेट की बैठक में भी रखी. चूंकि इससे अंतर्राष्ट्रीय जगत (International World) की निगाह में सही संदेश नहीं जाएगा, और इसे दुनिया स्वीकार नहीं करेगी. हालांकि उन्होंने सुझाव दिया कि दुनिया के कई देशों में गुनाह के हिसाब से बलात्कारियों को नपुंसक बनाने की सजा है, ऐसे में ये उपाय किया जा सकता है.

कानून बदलने के लिए नए चुनाव की जरूरत
इमरान खान ने कहा कि मौजूदा समय में कानूनों में बदलाव लाने के लिए उनके पास सीमित शक्तियां हैं, ऐसे में देश को एक अलग चुनाव की जरूरत पड़ेगी. जिससे चुनकर आई मजबूत सरकार ऐसे कड़े फैसले ले सकेगी.

हाइवे केस का एक आरोपी पकड़ा गया
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा कि पुलिस ने एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है और डीएनए जांच से उसके आरोपी होने की पुष्टि भी हो गई है. दूसरे की तलाश अब भी जारी है. इस काम में स्थानीय मोबाइल नेटवर्क और जीपीएस ट्रैकिंग (GPS Tracking) का भी सहारा लिया गया.

फरवरी में फांसी देने का कानून लाया तो गया, लेकिन पास नहीं हुआ
पाकिस्तान सरकार ने फरवरी 2020 में बलात्कारियों को सार्वजनिक तौर पर फांसी देने का कानून तैयार किया था, लेकिन उसे सदम से स्वीकृति नहीं मिली. बता दें कि लाहौर कांड के बाद पाकिस्तान में जोरदार विरोध प्रदर्शन हुए. प्रदर्शनकारियों ने दोषियों को फांसी पर लटकाने की मांग भी की.