close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिलबिलाया पाकिस्‍तान कश्‍मीर पर फैला रहा प्रोपेगेंडा, इमरान खान को भारत से मिला करारा जवाब

पाकिस्‍तान के पीएम इमरान खान ने एक अंग्रेजी अखबार के जरिए भारत के खिलाफ प्रोपेगैंडा फैलान का काम किया है. 

बिलबिलाया पाकिस्‍तान कश्‍मीर पर फैला रहा प्रोपेगेंडा, इमरान खान को भारत से मिला करारा जवाब
फाइल फोटो

नई दिल्‍ली : नरेंद्र मोदी सरकार ने जब से कश्‍मीर से अनुच्छेद 370 हटाया है, पाकिस्तान बिलबिलाया हुआ है, तिलमिलाया हुआ है, लेकिन कर कुछ नहीं पा रहा है. इसलिए पाकिस्तान सिर्फ और सिर्फ प्रोपेगेंडा फैला रहा है.

पाकिस्‍तान के पीएम इमरान खान ने एक अंग्रेजी अखबार के जरिए भारत के खिलाफ प्रोपेगैंडा फैलान का काम किया है. इमरान ने अपने लेख में कहा है कि अब भारत के साथ तभी बातचीत होगी, जब भारत जम्मू-कश्मीर से विशेष दर्जा हटाने का फैसला पलटता है और प्रतिबंधों को खत्म करता है.

वहीं, सूत्रों के मुताबिक भारत ने पाकिस्तान के इस रुख का करारा जवाब दिया है. भारत ने कहा कि आतंकवाद और बातचीत साथ नहीं हो सकती. 5 अगस्त को जो कुछ भी किया गया है, वह भारतीय संविधान के अनुसार है.

इमरान ख़ान के नेतृत्व में पाकिस्तान के ''Flop Show'' का विश्लेषण

उधर, शुक्रवार को कश्मीर पर दुष्प्रचार फैलाने के लिए पाकिस्तान में 'कश्मीरी ऑवर' का आयोजन किया. इस दौरान एक रैली को संबोधित करते पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने एक बार फिर परमाणु जंग की धमकी दी.

इमरान खान ने कहा कि 'मैं मोदी को बताना चाहता हूं कि अगर वे कश्मीर में कुछ भी करते हैं तो हमारी सेना पूरी तरह से तैयार है. दुनिया को मालूम होना चाहिए कि अगर दो परमाणु हथियार संपन्न देश आमने-सामने आते हैं तो पूरी दुनिया को नुकसान पहुंचेगा.'

LIVE TV...

इमरान ने इस मसले पर फिर मुस्लिम कार्ड खेलने की भी कोशिश की है. इमरान ने कहा कि यदि कश्मीर में मुसलमान न होते तो पूरी दुनिया में शोर मच जाता, जिसे हम इंटरनेशनल कम्युनिटी कहते हैं, जिसे संयुक्त राष्ट्र कहते हैं, वे मुसलमानों पर अत्याचार की बात पर शांत रहते हैं.

इमरान खान ने पीओके में भारत की कार्रवाई का डर भी दिखाया. इमरान ने कहा कि भारत अब बालाकोट की तरह ही पीओके में भी कुछ कर सकता है.

उधर, बीजेपी ने कहा है कि पाकिस्तान अपनी सीमा में रहे वरना एक बार फिर मोदी सरकार से करारा जवाब मिलेगा.