close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पाकिस्तान: यूनिवर्सिटी का अजब फरमान, कहा- '14 फरवरी को वेलेंटाइन डे नहीं 'सिस्टर्स डे' मनाओ'

फैसलाबाद के कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति जफर इकबाल रंधावा और अन्य निर्णय करने वालों ने तय किया है कि छात्राओं को स्कार्फ और अबाया (कपड़ा) तोहफे में दिया जा सकते है.

पाकिस्तान: यूनिवर्सिटी का अजब फरमान, कहा- '14 फरवरी को वेलेंटाइन डे नहीं 'सिस्टर्स डे' मनाओ'
सांकेतिक तस्वीर

लाहौर : पाकिस्तान का एक विश्वविद्यालय ‘इस्लामी रिवायतों’ को बढ़ावा देने के लिए 14 फरवरी को ‘सिस्टर्स डे’ (बहन दिवस) मनाएगा. विश्वविद्यालय के कुलपति ने इस खबर की पुष्टि की है. डॉन न्यूज ने खबर दी है फैसलाबाद के कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति जफर इकबाल रंधावा और अन्य निर्णय करने वालों ने तय किया है कि छात्राओं को स्कार्फ और अबाया (कपड़ा) तोहफे में दिया जा सकते है.

वेलेंटाइन डे पर लोग करते हैं प्यार का इजहार
खबर में कहा गया है कि कुलपति का मानना है कि यह पाकिस्तान की तहज़ीब और इस्लाम के मुताबिक है. दुनिया भर में 14 फरवरी को वेलेंटाइन डे के तौर पर मनाया जाता है. इस दिन लोग, अभिवादन और तोहफों के साथ अपने प्यार का इज़हार करते हैं.

इस्लामी रिवायतों को बढ़ाने के लिए उठाया गया कदम-कुलपति
रंधावा ने कहा कि विश्वविद्यालय ‘इस्लामी रिवायतों को बढ़ावा देने के लिए’ 14 फरवरी को ‘सिस्टर्स डे’ मनाएगा. डॉन न्यूज टीवी से बात करते हुए उन्होंने कहा कि उन्हें नहीं पता है कि ‘सिस्टर्स डे’ मनाने का उनका सुझाव काम करेगा या नहीं.

उन्होंने कहा कि हालांकि कुछ मुस्लिमों ने वेलेंटाइन डे को खतरे में बदल दिया है. ‘मेरा मानना है कि अगर खतरा है तो इसे मौके में बदलें.’’ उन्होंने दावा किया कि सिस्टर्स डे मनाने से लोगों को यह एहसास होगा कि पाकिस्तान में बहनों को कितना प्यार मिलता है. रंधावा ने कहा, ‘‘ भाई और बहन के प्यार से बड़ा क्या कोई प्यार है?’’ सिस्टर्स डे पति-पत्नी के प्यार से बड़ा है. 

(इनपुट-भाषा)