close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पाकिस्तान ने दिखा ही दिया अपना रंग, PM मोदी की फ्लाइट को रास्ता देने से किया इनकार

पाकिस्तान (Pakistan) के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी (Shah Mehmood Qureshi) ने कहा है, ''हमने भारतीय उच्चायोग को अवगत कराया है कि हम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra modi) की उड़ान के लिए अपने हवाई क्षेत्र के उपयोग की अनुमति नहीं देंगे.'

पाकिस्तान ने दिखा ही दिया अपना रंग, PM मोदी की फ्लाइट को रास्ता देने से किया इनकार
पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने घोषणा की है कि वह पीएम नरेंद्र मोदी को हवाई क्षेत्र का प्रयोग करने नहीं देंगे.

इस्लामाबाद: कहते हैं कि पड़ोसी अगर बदतमीज और जाहिल हो तो ना चाहते हुए भी थोड़ी बहुत मुश्किलों का सामना करना ही पड़ता है. यही हाल भारत को पाकिस्तान (Pakistan) जैसे पड़ोसी के चलते उठाना पड़ता रहा है. अब पाकिस्तान (Pakistan) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra modi) की फ्लाइट के लिए अपनी सीमा में पड़ने वाले हवाई क्षेत्र को देने से इनकार कर दिया है. पाकिस्तान (Pakistan) के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी (Shah Mehmood Qureshi) ने कहा है, ''हमने भारतीय उच्चायोग को अवगत कराया है कि हम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra modi) की उड़ान के लिए अपने हवाई क्षेत्र के उपयोग की अनुमति नहीं देंगे.' पीएम मोदी 22 सितंबर को अमेरिका के ह्यूस्टन जाएंगे, जहां ‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे, जिसमें अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और नरेंद्र मोदी एक साथ हिस्सा लेंगे.

पाकिस्तान की इस हरकत पर भारत ने अफसोस जताया है. साथ ही अंतरराष्ट्रीय नियम का ख्याल करने की नसीहत दी है. भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि दो हफ्ते में लगातार दो बार वीवीआईपी फ्लाइट्स को गुजरने की अनुमति न देना दुर्भाग्यपूर्ण है. पाकिस्तान को स्थापित अंतरराष्ट्रीय नियमों का अच्छी तरह पालन करना चाहिए और एकतरफा कार्रवाई करने की अपनी पुरानी आदतों को नहीं दोहराने पर पुनर्विचार करना चाहिए.

राष्ट्रपति कोविंद को भी पाकिस्तान (Pakistan) ने नहीं दिया था रास्ता
इससे पहले सात सितंबर को पाकिस्तान (Pakistan) ने भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (Ramnath Kovind) के विमान को अपने हवाई क्षेत्र से उड़ने की अनुमति देने के नई दिल्ली के आग्रह को शनिवार को ठुकरा दिया था. जियो न्यूज ने पाकिस्तान (Pakistan) के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी (Shah Mehmood Qureshi) के हवाले से कहा था, 'भारत के कब्जे वाले कश्मीर में हो रहे मानवाधिकारों के उल्लंघन का हवाला देते हुए इस्लामाबाद ने नई दिल्ली के अनुरोध को अस्वीकार कर दिया.'

कुरैशी ने कहा कि प्रधानमंत्री इमरान खान ने भारत का अनुरोध खारिज किए जाने के फैसले का स्वागत करते हुए कहा, 'पाकिस्तान (Pakistan) को यह फैसला इसलिए लेना पड़ा, क्योंकि भारत ने कश्मीर को लेकर आक्रामकता दिखाई है.' कुरैशी ने कहा कि कश्मीर में भारत की ओर से की जा रही 'बर्बरता' एक गंभीर मुद्दा है, जिसे वह संयुक्त राष्ट्र के मानवाधिकार परिषद में लेकर जाएंगे.

उन्होंने कहा, 'अनुच्छेद 370 को हटे और जम्मू एवं कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा खत्म किए जाने के बाद 34 दिन बीत चुके हैं, फिर भी वहां लोगों पर पाबंदियां लगी हुईं हैं.'

अगस्त में ऐसी खबरें आ रही थीं कि भारतीय विमानों के लिए पाकिस्तान (Pakistan) के हवाई क्षेत्र के इस्तेमाल पर पूरी तरह प्रतिबंध लगाने पर इमरान विचार कर रहे हैं. इसके अलावा भारत और अफगानिस्तान के बीच पाकिस्तान (Pakistan) से होकर गुजरने वाले मार्ग को भी बंद किए जाने पर विचार किया जा रहा था.

पाकिस्तान (Pakistan) के उड्डयन मंत्री गुलाम सरवर खान ने इस सप्ताह की शुरुआत में पत्रकारों से कहा था कि उनकी सरकार ने अभी तक भारत से वाणिज्यिक उड़ानों के लिए पूर्वी हवाई क्षेत्र को बंद करने का कोई निर्णय नहीं लिया है. उन्होंने आगे कहा था, 'हालांकि, हमने ऐसा करने का अधिकार सुरक्षित रखा है और इसका उपयोग उचित समय पर किया जाएगा.'

जम्मू कश्मीर के मसले पर पाकिस्तान (Pakistan) ने बंद किया है हवाई रास्ता
जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 के निष्प्रभावी किए जाने के प्रति अपनी नाराजगी जाहिर करने के लिए पाकिस्तान (Pakistan) ने भारत के लिए हवाई रास्ता बंद कर दिया है. इससे पहले बालाकोट एयरस्ट्राइक की घटना के बाद पाकिस्तान (Pakistan) ने भारत के लिए हवाई रास्ता रोक दिया था. हालांकि 16 जुलाई को पाकिस्तान (Pakistan) ने अपने वायु क्षेत्र में बाहरी विमानों के प्रवेश पर लगाई गई पाबंदी को हटा दिया था. भारत के साथ फरवरी माह में बढ़ी तनातनी के पांच महीने बाद नागरिक उड़ानों के लिए देश के हवाई क्षेत्र को फिर से खोलने की घोषणा की गई थी. 

जम्मू कश्मीर के मुद्दे पर विरोध जताने के लिए पाकिस्तान (Pakistan) ने दोबारा से भारत के लिए हवाई रास्ता रोक दिया है. यहां आपको बता दें कि अंतरराष्ट्रीय मंच ने पाकिस्तान (Pakistan) को साफ तौर से संदेश दे दिया है कि जम्मू कश्मीर भारत का आतंरिक मामला है, इसलिए इसपर उसकी ओर से कोई प्रतिक्रिया जाहिर करना गलत है, लेकिन हमारा पड़ोसी अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है. अब उसने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra modi) के अमेरिका यात्रा के लिए हवाई रास्ता देने से मना कर दिया है.

अमेरिका में भारत की 'ताकत' 
अमेरिका की आबादी में 1% भारतीय मूल के नागरिक हैं. चीन और फिलीपीन्स के बाद तीसरा सबसे बड़ा समूह भारतीयों का है. अमेरिका में कई क्षेत्रों में भारतीय समुदाय का दबदबा है. यूएस में बसे करीब 40% भारतीयों के पास मास्टर्स, डॉक्टर्स या प्रोफेशनल डिग्री (राष्ट्रीय औसत से 5 गुना ज्यादा) है. अमेरिका में 12.8 लाख भारतीय ग्रीन कार्ड धारक, अस्थायी पेशेवर और छात्र हैं. अमेरिका में 2015 में 32% भारतीय ग्रेजुएट, 42% भारतीय पोस्ट ग्रेजुएट थे.

मोदी-ट्रंप की दोस्ती का 'पंच'

26 जून 2017 (पहली बार)

पीएम मोदी की अमेरिका यात्रा के दौरान पहली बार मुलाकात.

दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय और अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर बातचीत.

डोनाल्ड ट्रंप (Donald trump) ने कहा- भारत के संबंध 'इतने मजबूत कभी नहीं' रहे.

13 नवंबर 2017  (दूसरी बार)

फिलीपीन्स की राजधानी मनीला में ASEAN समिट के दौरान मुलाकात

दोनों देशों के बीच आर्थिक, व्यापारिक और निवेश के मुद्दों पर चर्चा

आर्थिक सहयोग और एक-दूसरे के बाजार तक पहुंच बढ़ाने पर राजी 

 

30 नवंबर 2018 (तीसरी बार)

अर्जेंटीना के ब्यूनस आयर्स में त्रिपक्षीय बैठक में मुलाकात

द्विपक्षीय मुद्दों और आपसी सहयोग पर चर्चा

28 जून 2019 (चौथी बार)

जापान के ओसाका में G-20 समिट के दौरान मुलाकात

भारत-अमेरिका द्विपक्षीय और वैश्विक मुद्दों पर  चर्चा हुई

5G संचार नेटवर्क, रक्षा और व्यापारिक क्षेत्र में सहयोग

26 अगस्त 2019(पांचवीं बार)

फ्रांस के व्लादिवोस्तोक में G-7 समिट के दौरान मुलाकात

भारत-पाकिस्तान समेत सभी द्विपक्षीय मुद्दों पर चर्चा की

इशारों-इशारों में कश्मीर मुद्दे पर दखल ना देने की नसीहत

ह्यूस्टन में मोदी की रैली ऐतिहासिक क्यों?
 

पहली बार: एक साथ एक मंच पर भारतीय के प्रधानमंत्री और अमेरिका के राष्ट्रपति.
पहली बार: दुनिया के सबसे बड़े और सबसे पुराने लोकतंत्र के प्रमुखों की साझा रैली.
पहली बार: अमेरिका के राष्ट्रपति 50 हज़ार भारतवंशियों को एक साथ संबोधित करेंगे.
पहली बार: 50 हज़ार से ज्यादा भारतीयों ने 'Howdy Modi' के लिए रजिस्ट्रेशन कराया.
पहली बार: चुनावी साल में अमेरिकी भारतीयों को संबोधित करने वाले ट्रंप पहले राष्ट्रपति.
पहली बार: अमेरिका के ह्यूस्टन में भारतीयों को संबोधित करने वाले पीएम मोदी पहले नेता.

अमेरिका में पीएम मोदी का शेड्यूल

21 सितंबर 2019 (देर शाम) अमेरिका दौरे पर पीएम मोदी सबसे पहले ह्यूस्टन पहुंचेंगे.
22 सितंबर 2019 ह्यूस्टन में अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप से मोदी की मुलाकात.
22 सितंबर 2019 (शाम 8:30 बजे)

ह्यूस्टन में 'Howdy Modi' कार्यक्रम में भारतीयों से सीधा संवाद.

ह्यूस्टन में 'Howdy Modi' में राष्ट्रपति ट्रंप भी शामिल

23 सितंबर 2019 UN महासचिव के '2019 क्लाइमेट एक्शन समिट' में संबोधन.
24 सितंबर 2019 UN मुख्यालय में महात्मा गांधी पर विशेष कार्यक्रम की मेजबानी
24 सितंबर 2019

बिल-मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन की ओर से पीएम मोदी का सम्मान

2019 ग्लोबल गोलकीपर अवॉर्ड से सम्मानित किए जाएंगे मोदी

स्टेट यूनिवर्सिटी ऑफ न्यूयॉर्क में 'गांधी पीस गार्डन' की शुरुआत

25 सितंबर 2019

CEOs और राष्ट्राध्यक्षों के 'ग्लोबल बिजनेस फोरम' में संबोधन

'ग्लोबल बिजनेस फोरम' में माइकल ब्लूमबर्ग से बातचीत

25-26 सितंबर 2019 वॉशिंगटन में अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के साथ मुलाकात
27 सितंबर 2019 संयुक्त राष्ट्र महासभा में पीएम मोदी का संबोधन