close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पाकिस्तान की राजनीति में पूर्व सैनिक शासक मुशर्रफ की होने जा रही है वापसी?

महरीन ने कहा कि मुशर्रफ राजनीति में लौटने की योजना बना रहे हैं. उन्होंने पार्टी के नेताओं के साथ एक बैठक भी की है. वह चिकित्सकों से सलाह लेने के बाद राजनैतिक गतिविधियों में पूरी तरह से लौटने पर फैसला करेंगे. 

पाकिस्तान की राजनीति में पूर्व सैनिक शासक मुशर्रफ की होने जा रही है वापसी?
जनरल (सेवानिवृत्त) परवेज मुशर्रफ.

कराची: पाकिस्तान के पूर्व सैन्य शासक जनरल (सेवानिवृत्त) परवेज मुशर्रफ (Pervez Musharraf) ने देश की राजनीति में लौटने का संकेत दिया है. उनकी आल पाकिस्तान मुस्लिम लीग (एपीएमएल) ने कहा है कि मुशर्रफ का स्वास्थ्य अब पहले से बेहतर है और अब वह देश की राजनीति में लौटने की योजना बना रहे हैं. गौरतलब है कि मुशर्रफ के खिलाफ पाकिस्तान की अदालत में राजद्रोह का मुकदमा चल रहा है. 78 वर्षीय पूर्व तानाशाह दुर्लभ बीमारी से ग्रस्त हैं और पाकिस्तान छोड़कर दुबई में रह रहे हैं.

एपीएमएल की महासचिव महरीन मलिक ने 'द एक्सप्रेस ट्रिब्यून' को बताया कि पूर्व राष्ट्रपति ने बीते महीने लंदन के एक अस्पताल में बारह दिन तक इलाज कराया. वह अब पहले से बेहतर महसूस कर रहे हैं और दुबई लौट आए हैं.

महरीन ने कहा कि मुशर्रफ राजनीति में लौटने की योजना बना रहे हैं. उन्होंने पार्टी के नेताओं के साथ एक बैठक भी की है. वह चिकित्सकों से सलाह लेने के बाद राजनैतिक गतिविधियों में पूरी तरह से लौटने पर फैसला करेंगे. डॉक्टरों की एक टीम प्रतिदिन उनका इलाज कर रही है.

लाइव टीवी देखें-:

एपीएमएल की महासचिव ने कहा कि मुशर्रफ के निर्देश के बाद अब पार्टी समूचे पाकिस्तान में अपनी राजनैतिक गतिविधियां शुरू करने जा रही है. वह छह अक्टूबर को पार्टी के नौवें स्थापना दिवस के अवसर पर वीडियो लिंक के जरिए इस्लामाबाद में पार्टी नेताओं को संबोधित करेंगे. उन्होंने कहा कि पूर्व राष्ट्रपति जल्द ही महत्वपूर्ण राजनैतिक ऐलान करेंगे.

मुशर्रफ ने 1999 से 2008 तक पाकिस्तान पर शासन किया था. वह तत्कालीन संघीय सरकार की तरफ से दायर शिकायत पर पाकिस्तान में राजद्रोह के मुकदमे का सामना कर रहे हैं. विशेष अदालत द्वारा तलब किए जाने के बावजूद मुशर्रफ ने दुर्लभ बीमारी के कारण उपस्थित होने पर जब एक से अधिक बार असमर्थता जताई तो बीते जून महीने में अदालत ने कहा था कि अब मुकदमा मुशर्रफ की अनुपस्थिति में चलाया जाएगा.