China में सेक्स एजुकेशन के नाम पर होती है छेड़छाड़ की 'रस्म', दुल्हन को जबरन पिलाते हैं शराब

चीन (China) के सरकारी कानून ही नहीं बल्कि वहां के कई सामाजिक रीति-रिवाज भी ऐसे हैं जिनकी आलोचना होती है. ऐसी ही एक शादी के दौरान की चीन की रस्म है, जिसमें सेक्स एजुकेशन के नाम पर दुल्हन और उसकी सहेलियों से छेड़छाड़ की जाती है यहां तक कि कई बार जबरन शराब भी पिलाई जाती है. चीन के कई हिस्‍सों में सदियों से चली आ रही इस परंपरा का अब वहां की महिलाएं विरोध करने लगी हैं.

ज़ी न्यूज़ डेस्क | Jul 28, 2021, 16:49 PM IST
1/5

चीन की अजीबोगरीब परंपरा

चीन की इस अजीबोगरीब परंपरा को नावहुन कहा जाता है. जिसमें होने वाली दुल्‍हन और कई बार उसकी सहलेलियों के साथ छेड़खानी की जाती है. कई बार लड़की को शराब पीने पर विवश किया जाता है. इसका कारण दुल्हन को पति के साथ सहज करने और सेक्‍स एजुकेशन बताया जाता है लेकिन असल में इसकी आड़ में महिलाएं यौन हिंसा का शिकार होती हैं. 

 

2/5

महिलाओं ने उठाए विरोध के सुर

चीन की इस अजीबोगरीब परंपरा का विरोध में महिलाएं विरोध के सुर उठाने लगी हैं. कई मामले ऐसे आए हैं जिसमें होने वाली दुल्हन ने शादी से पहले 'नावहुन' के खिलाफ बाकायदा लिखित एग्रीमेट कराया.

यह भी पढ़ें: यहां शादी में दूल्‍हे को लाना पड़ता है दुल्‍हन का इनर वियर, लेकिन यही चक्‍कर बना मुसीबत

 

3/5

चीन के लोग भी मानते हैं शर्मनाक प्रथा

whatsonweibo.com की एक रिपोर्ट के मुताबिक एक सर्वे में 70 प्रतिशत से अधिक लोगों ने चीन की इस परंपरा को शर्मनाक बताया जबकि 5.2 प्रतिशत लोगों ने कहा कि यह चीन की शादी की पारंपरिक रस्‍म है, इसे ज्यादा गंभीरता से लेने की जरूरत नहीं है. जबकि कई लोग यह भी मानते हैं कि इस रस्म से दुल्हन को पहले दिन से गलत बात का विरोध करने का मौका भी मिलता है.

4/5

भद्दे लोकगीत के जरिए सेक्‍स एजुकेशन

चीन में शादी के दौरान सेक्‍स एजुकेशन के नाम पर दुल्‍हन और उसकी सहेलियों के सामने भद्दे लोकगीत गाए जाते हैं. जिसमें दूल्हे को दुल्हन के शरीर की तरफ आकर्षित करने के लिए प्रेरित किया जाता है. कई बार तो चीनी मेहमान दूल्‍हा-दुल्‍हन के बेडरूम तक पहुंच जाते हैं.

 

5/5

काफी पुरानी हे ये शर्मनाक रस्म

यह रस्म पूरे चीन में तो नहीं है लेकिन कई हिस्‍सों में 221-207 BC से ये बेहद शर्मनाक रस्म चली आ रही है. ये रस्म तब शुरू हुई जब हान साम्राज्य हुआ करता था. तब काफी छोटी बच्चियों की ही शादी कर दी जाती थी. उन्‍हें सेक्स एजुकेशन देने के लिए यह तरीका अपनाया जाता था.