close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पुलवामा हमला : भारत के बाद आज पाकिस्‍तानी सेना भी करेगी 'अहम' प्रेस कॉन्‍फ्रेंस

पाकिस्तानी सेना के मीडिया विंग के महानिदेशक ने दोपहर 3 बजे एक संवाददाता सम्मेलन बुलाया है.

पुलवामा हमला : भारत के बाद आज पाकिस्‍तानी सेना भी करेगी 'अहम' प्रेस कॉन्‍फ्रेंस
पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कमर बाजवा... (फाइल फोटो)

रावलपिंडी: जम्‍मू-कश्‍मीर के पुलवामा में आतंकी हमले के बाद भारत की तरफ से रणनीतिक कार्रवाई से पाकिस्‍तान बौखलाया हुआ है. इस आतंकी हमले में पाकिस्‍तान का हाथ होने के भारतीय सेना के आरोप के बाद आज पाकिस्‍तानी सेना भी अपना पक्ष रख सकती है. इसके लिए पाकिस्तानी सेना के मीडिया विंग के महानिदेशक ने दोपहर 3 बजे एक संवाददाता सम्मेलन बुलाया है.

इस प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में पाक आर्मी के प्रवक्‍ता और इंटर-सर्विसेज पब्लिक रिलेशंस (ISPR) के महानिदेशक मेजर जनरल आसिफ गफूर संबोधित करेंगे. 

ये भी पढ़ें- पाकिस्‍तान की तरफ से आया जवाब, 'अगर भारत ने PAK की तरफ नदियों का पानी रोका तो...'

पाकिस्‍तानी सेना की यह प्रेस कॉन्‍फ्रेंस ऐसे समय में हो रही है जब कश्मीर के पुलवामा में आतंकी हमले के बाद पाकिस्तान और भारत के बीच तनाव बढ़ा हुआ है. 

उल्‍लेखनीय है कि पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा अपने यहां आतंकी संगठनों पर नकेल कसने की बजाय उलटी नीति अपनाई जा रही है. पाकिस्‍तानी मीडिया के अनुसार, पाक प्रधानमंत्री इमरान खान ने अपनी सेना को निर्देश दिए हैं कि वह भारत की तरफ से की जाने वाली किसी भी कार्रवाई का "निर्णायक और व्यापक रूप से" जवाब दें

Geo News की खबर के मुताबिक, प्रधानमंत्री इमरान खान ने राष्ट्रीय सुरक्षा समिति की बैठक के दौरान निर्देश जारी किए, जिसमें भू-रणनीतिक, राष्ट्रीय सुरक्षा, पर्यावरण और पुलवामा घटना के बाद उत्पन्न स्थिति पर चर्चा की गई.

राष्‍ट्रीय सुरक्षा समिति ने कहा कि उक्त घटना में पाकिस्तान किसी भी तरह से शामिल नहीं था. बैठक के बाद जारी एक बयान में कहा गया है, "घटना की कल्पना और योजना किसी भी रूप में पाकिस्‍तान में तैयार नहीं की गई थी."

ये भी पढ़ें- पाकिस्तान ने LoC के पास रहने वाले PoK के ग्रामीणों के लिए जारी की एडवाइजरी

बयान में कहा गया कि पाकिस्तान ने ईमानदारी से घटना की जांच के साथ-साथ अन्य विवादित मुद्दों के बीच आतंकवाद के मुद्दे पर बातचीत की पेशकश की है.