गलती से भारत में घुस आए पाकिस्तानी बच्‍चे के ल‍िए जब कोर्ट बनी 'बजरंगी भाईजान'

आखिरकार दो साल बाद अदालत ने बिलाल को निर्दोश करार देते हुए उसे वापस भेजने का आदेश दिया. 

गलती से भारत में घुस आए पाकिस्तानी बच्‍चे के ल‍िए जब कोर्ट बनी 'बजरंगी भाईजान'
प्रतीकात्मक तस्वीर.

रमन खोसला, होशियारपुर: पाकिस्तान (Pakistan) से गलती से भारतीय सीमा में घुसे मुबारक की खुशी का ठिकाना उस वक्त नहीं रहा जब तरन तारन की एक अदालत ने उसे निर्दोष बताते हुए पाकिस्तान वापस भेजने का फैसला सुनाया. दरअसल, दो साल पहले 14 वर्षीय पाकिस्तानी बच्चा मुबारक उर्फ बिलाल गलती से बॉर्डर पार कर भारत में घुस गया था.

बीएसएफ (BSF) की नजर उसपर पड़ी और खेमकरण सैक्टर से उसे पकड़ लिया गया. इसके बाद पंजाब के तरनतारन की अदालत में उसपर केस चला. आखिरकार दो साल बाद अदालत ने बिलाल को निर्दोश करार देते हुए उसे वापस भेजने का आदेश दिया. 

आज मुबारक के माता-पिता की दुआएं रंग लाईं. भारत सरकार की तरफ से मंगलवार को उसे रिहा कर दिया गया. रिहाई के ऑडर जारी होने के बाद आज सुबह मुबारक को होशियारपुर के बाल सुधार गृह से पुलिस सुरक्षा में वाघा बॉडर के लिए रवाना किया गया. 

इस मोके पर डीपीओ कुलदीप सिंह खास तौर पर मुबारक की रवानगी के इंतजामों के लिए मौजूद रहे. अपने मुल्क लौटते समय उसने कहा कि वह भारत में बहुत अच्छे से रहा. मुबारक ने वतन वापसी से पहले अपने जेसे बाकी बच्चों की रहाई की भी अपील की. 

लाइव टीवी देखें