close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अनुच्‍छेद 370 हटाना भारत का आंतरिक मामला, कश्‍मीर पर तीसरा देश हस्‍तक्षेप न करे: रूस

जम्‍मू-कश्‍मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने के मसले पर रूस ने भारत का खुलकर समर्थन किया है.

अनुच्‍छेद 370 हटाना भारत का आंतरिक मामला, कश्‍मीर पर तीसरा देश हस्‍तक्षेप न करे: रूस

नई दिल्‍ली: जम्‍मू-कश्‍मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने के मसले पर रूस ने भारत का खुलकर समर्थन किया है. रूस ने कहा कि जम्‍मू-कश्‍मीर पर हम भारत के साथ हैं. इस संबंध में रूस के राजदूत निकोलाय कुदोशेव ने कहा कि आर्टिकल 370 हटाया जाना भारत सरकार का संप्रभु निर्णय है. यह भारत का आंतरिक मसला है. भारत और पाकिस्‍तान के बीच सभी मुद्दों का समाधान शिमला समझौता और लाहौर घोषणापत्र के आधार पर किया जाना चाहिए.

उल्‍लेखनीय है कि पाकिस्‍तान लगातार कश्‍मीर के मुद्दे का अंतरराष्‍ट्रीकरण करने की कोशिशों में लगा है. उसने पहले संयुक्‍त राष्‍ट्र का दरवाजा खटखटाया लेकिन उसको वहां मुंह की खानी पड़ी. इस बीच अमेरिका के राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने दोनों देशों के बीच मध्‍यस्‍थता की पेशकश की लेकिन बीते दिनों जी-7 शिखर सम्‍मेलन में हिस्‍सा लेने पहुंचे पीएम मोदी ने ट्रंप की मौजूदगी में स्‍पष्‍ट शब्‍दों में कहा कि भारत-पाकिस्‍तान के बीच के सारे मुद्दे द्विपक्षीय हैं और इस कारण किसी अन्‍य देश को दखल देने का कष्‍ट नहीं करते.

डोनाल्‍ड ट्रंप के साथ मीटिंग में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दृढ़ता से स्पष्ट कर दिया कि कश्मीर मामले में उसे किसी भी तीसरे पक्ष की मध्यस्थता की जरूरत नहीं है. भारत के इस रुख के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सोमवार को मध्यस्थता के अपने प्रस्ताव से कदम पीछे खींच लिया और कहा कि भारत और पाकिस्तान 'इसे खुद हल सकते हैं'. ट्रंप ने यहां मीडिया से कहा, "मेरा दोनों पीएम मोदी और पीएम इमरान खान के साथ अच्छे संबंध हैं. मेरा मानना है कि वे इसे खुद हल कर सकते हैं. वे इसे लंबे समय से हल करने की कोशिश कर रहे हैं."

LIVE TV

पाकिस्तान से अब सिर्फ PoK पर बात होगीः उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू

'भारत, पाक कश्मीर मुद्दा खुद सुलझा सकते हैं'
अमेरिकी राष्ट्रपति ने सोमवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें बताया कि कश्मीर की स्थिति नियंत्रण में है और उन्हें लगता है कि वह पाकिस्तान के साथ सीधे इस स्थिति से निपट सकते हैं. दोनों नेताओं ने जी-7 की बैठक से इतर 45 मिनट चली द्विपक्षीय बैठक से पहले मीडिया को संबोधित किया. इस दौरान मोदी ने दृढ़ता से दोहराया कि कश्मीर एक द्विपक्षीय मुद्दा है. जब मोदी से इस मामले में मध्यस्थता से संबंधित सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि 'सभी मुद्दे द्विपक्षीय प्रकृति के हैं.'

VIDEO: हाथ मिलाने का इतिहास 'शक' से शुरू हुआ है!

जब ट्रंप से पूछा गया कि क्या मध्यस्थता की उनकी पेशकश अभी भी बरकरार है तो उन्होंने कहा, "मैं यहीं पर हूं." इसके बाद उन्होंने कहा कि उन्हें लगता है कि भारत और पाकिस्तान द्विपक्षीय स्तर पर ऐसा कर सकते हैं. ट्रंप ने कहा, "हमने कल रात कश्मीर के बारे में बात की थी और प्रधानमंत्री मोदी को लगता है कि स्थिति उनके नियंत्रण में है. और, अब जब वह पाकिस्तान के साथ बातचीत करेंगे तो मुझे यकीन है कि वह कुछ करने में सक्षम होंगे. वह शायद कुछ बहुत अच्छा कर पाएंगे."

कश्मीर पर पूछे गए एक सवाल पर मोदी ने कहा, "भारत और पाकिस्तान के बीच कई द्विपक्षीय मुद्दे हैं. इमरान खान के प्रधानमंत्री बनने के बाद मैंने उनसे कहा कि हमारे दोनों देशों को गरीबी, अशिक्षा व पिछड़ेपन के खिलाफ लड़ना है. इसलिए हम दोनों देशों को ही लोगों की बेहतरी के लिए काम करना चाहिए. मैंने राष्ट्रपति ट्रंप को भी इससे अवगत कराया है और हम अपने द्विपक्षीय मुद्दों पर चर्चा करते रहते हैं."