close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

'पाकिस्तान के साथ फिलहाल बातचीत का सवाल नहीं, करतारपुर कॉरिडोर उद्घाटन धार्मिक गतिविधि'

'हमने कभी नहीं कहा की पकिस्तान के साथ शांति का रास्ता करतारपुर कॉरिडोर के रास्ते है. यह तो धार्मिक गतिविधियां है.'

'पाकिस्तान के साथ फिलहाल बातचीत का सवाल नहीं, करतारपुर कॉरिडोर उद्घाटन धार्मिक गतिविधि'

नई दिल्ली: करतारपुर कॉरिडोर (Kartarpur Corridor) के उद्घाटन के बाद क्या भारत और पाकिस्तान के बीच फिर से बातचीत होगी. इस सवाल के जवाब में भारतीय विदेश मंत्रालय ने साफ कहा है कि पाकिस्तान से फिलहाल बातचीत की कोई संभावना नहीं है. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ZEE मीडिया के सवाल पर कहा, 'भारत ने कभी नहीं कहा कि पाकिस्तान से बात नहीं करेंगे. हम तो यही कह रहे है कि जो आतंकी पाकिस्तान ने पाल रखे हैं उनको खत्म करे और उनके खिलाफ ठोस कार्रवाई करके दिखाए तभी बातचीत हो सकती है.'

ये वीडियो भी देखें:

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा, 'हमने कभी नहीं कहा की पकिस्तान के साथ शांति का रास्ता करतारपुर कॉरिडोर के रास्ते है. यह तो धार्मिक गतिविधियां है. यह कोई द्विपक्षीय बातचीत नहीं है. बात तब होगी जब पकिस्तान आतंकी ताकतों पर कार्यवाही करेगा करतारपुर कॉरिडोर से इस पर कोई फर्क नहीं पड़ने वाला है. पाकिस्तान से फिलहाल बातचीत की कोई संभावना नहीं है.'

रवीश कुमार ने कहा, 'करतारपुर कॉरिडोर पर पाकिस्तान से कन्फ्यूजन सामने आ रहा है. हम दोनों देशो ने एक द्विपक्षीय पर्चा हस्ताक्षर किया और उसमे कोई भी बदलाव कोई एक देश अकेले नहीं कर सकता. उसमे यह लिखा है कि पासपोर्ट की आवश्यकता है तो यात्रियों को पासपोर्ट लेकर जाना होगा.जो लोग 9 तारीख और उसके बाद जाएंगे वो उसी समझौते के हिसाब से जाएंगे....

यह भी पढ़ें:- ZEE जानकारी: आस्था के नाम पर पाकिस्तान की आतंकी साजिश का विश्लेषण

.....पाकिस्तान को 4 दिन पहले लिस्ट कन्फर्म करनी होगी. जो भी नाम हमने दिए हैं वो कन्फर्म है. पाकिस्तान ने अभी तक ना नहीं किया है इसलिए हम यह मान रहे हैं कि जो नाम हमने भेजे वो पक्के हैं. हमने उनसे रिक्वेस्ट की है की जो हमारे महत्वपूर्ण गणमान्य व्यक्ति जा रहे हैं उनकी सुरक्षा के लिए उपयुक्त इंतज़ाम किए जाएं.'

यह भी पढ़ेंः पाकिस्तानी सेना ने प्रधानमंत्री इमरान का फैसला पलटा, करतारपुर साहिब के लिए पासपोर्ट जरूरी

सिद्धू के मुद्दे पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा, 'ये ऐतिहासिक अवसर है हमें नहीं लगता इस मौके पर किसी व्यक्तिगत तौर पर किसी पर बात करनी चाहिए. सिद्धू को क्या करना है वह खुद जाने...ये जलसा एक शख्स से बहुत बड़ा है...मैं यहां से कोई जवाब नहीं देना चाहता.'