'सीज फायर समझौते का पालन करे Pakistan, पहली गोली नहीं चलाएगी Indian Army'

इस बीच, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भारत के साथ संघर्ष विराम समझौते का शनिवार को स्वागत किया और कहा कि द्विपक्षीय संबंधों में प्रगति के लिए 'अनुकूल वातावरण' बनाने की जिम्मेदारी नई दिल्ली की है. 

'सीज फायर समझौते का पालन करे Pakistan, पहली गोली नहीं चलाएगी Indian Army'
फाइल फोटो/Reuters

इस्लामाबाद: भारतीय सेना ने कहा है कि पाकिस्तान के साथ संघर्ष विराम समझौता सकारात्मक है. सेना के 28 इंफेंट्री डिविजन के जनरल कमांडिंग ऑफिसर मेजर जनरल वीएमबी कृष्णन ने कहा कि सेना भारत-पाकिस्तान के बीच शांति बनी रहेगी, अगर पाकिस्तान सीज फायर का उल्लंघन नहीं करेगा. उन्होंने कहा कि हम तो सीज फायर समझौते का पालन करेंगे, लेकिन ऐसा पाकिस्तान को भी करना होगा. 

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने भारत पर डाली जिम्मेदारी

इस बीच, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भारत के साथ संघर्ष विराम समझौते का शनिवार को स्वागत किया और कहा कि द्विपक्षीय संबंधों में प्रगति के लिए 'अनुकूल वातावरण' बनाने की जिम्मेदारी नई दिल्ली की है. इसके बाद पहली बार प्रतिक्रिया देते हुए खान ने कहा कि पाकिस्तान, भारत के साथ 'सभी लंबित मुद्दों' का समाधान बातचीत के जरिये करने को तैयार है. इमरान खान ने ट्वीट किया, 'नियंत्रण रेखा पर फिर से संघर्ष विराम स्थापित करने का मैं स्वागत करता हूं. इसमें आगे की प्रगति के लिए अनुकूल वातावरण तैयार करने की जिम्मेदारी भारत की है. खान ने सिलसिलेवार ट्वीट में कहा कि हम हमेशा शांति चाहते हैं और सभी लंबित मुद्दों का समाधान बातचीत के जरिये निकालने को तैयार हैं. भारत ने पाकिस्तान से कहा है कि 'बातचीत और आतंकवाद' साथ-साथ नहीं चल सकते. इसके साथ ही भारत ने इस्लामाबाद से कहा है कि उसे अपने यहां मौजूद आतंकी ठिकाने खत्म करने के लिए कदम उठाने होंगे.

ये भी पढ़ें: सरकार ने प्राइवेट अस्पतालों में 250 रुपये तय की कोरोना वैक्सीन की कीमत

गुरुवार को आया था भारत सरकार का बयान

भारत ने गुरुवार कहा कि वह पाकिस्तान (Pakistan) के साथ रिश्ते सामान्य करना चाहता है और सारे मुद्दे, द्विपक्षीय तथा शांतिपूर्वक तरीके से हल करना चाहता है. भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने नई दिल्ली में कहा, 'पाकिस्तान के साथ संबंधों के सिलसिले में, हमने पहले भी कहा है कि भारत पाकिस्तान के साथ सामान्य पड़ोसी जैसे संबंध चाहता है. हमने हमेशा कहा है कि हम सभी मुद्दों का समाधान शांतिपूर्ण और द्विपक्षीय तरीके से निकालना चाहते हैं.'

ये भी पढ़ें: Aadhaar Card: अब पैदा होते ही बन जाएगा बच्चों का आधार कार्ड! UIDAI ने शुरू की नई सुविधा, जानिए क्या करना होगा?

साल 2019 में भारत ने की थी एयर स्ट्राइक

पाकिस्तान के बालाकोट में भारतीय वायु सेना (Indian Airforce) द्वारा 2019 में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी शिविरों पर हवाई हमला (Balakot Air Strike) किया गया था. इस हमले की दूसरी सालगिरह के अवसर पर सिलसिलेवार ट्वीट कर खान ने कहा कि पाकिस्तान हमेशा से शांति का पक्षधर रहा है और सभी लंबित मुद्दों का समाधान बातचीत के जरिए करना चाहता है. उन्होंने कहा कि पकड़े गए भारतीय पायलट को वापस कर पाकिस्तान ने दुनिया को अपना 'जिम्मेदाराना बर्ताव' दिखाया है.  कश्मीर के मुद्दे पर खान ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों के अनुसार कश्मीरी लोगों द्वारा अपने निर्णय खुद करने की उनकी बहुप्रतीक्षित मांग और अधिकार के लिए भारत को आवश्यक कदम उठाने चाहिए. गौरतलब है कि भारत पाकिस्तान से कह चुका है कि उसके अंदरूनी मामलों में टिप्पणी करने का पड़ोसी देश को कोई अधिकार नहीं है. इसके साथ ही भारत ने कहा है कि जम्मू कश्मीर तथा लद्दाख संघ शासित क्षेत्र भारत का अभिन्न हिस्सा थे और रहेंगे.

ये भी पढ़ें: 2YearsOfBalakotStrike: कुछ ऐसे हुई थी बालाकोट स्ट्राइक, IAF ने वीडियो जारी कर बताया कैसे बनाया था निशाना

पाकिस्तान ने मनाया मिग-21 गिराने के दो साल पूरे होने पर जश्न

इस बीच, पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने शनिवार को कहा कि वह शांतिपूर्ण सह अस्तित्व और संयुक्त राष्ट्र के प्रस्ताव के माध्यम से कश्मीर मुद्दे के समाधान के लिए प्रतिबद्ध है. भारत द्वारा बालाकोट में आतंकी ठिकानों पर किए गए हमले के जवाब में पाकिस्तान की ओर से की गई जवाबी कार्रवाई का जश्न आज पाकिस्तानी वायु सेना (पीएएफ) ने मनाया. इस अवसर पर पीएएफ के प्रमुख एयर चीफ मार्शल मुजाहिद अनवर खान ने कहा कि पाकिस्तान शांति चाहता है और इसे उसकी कमजोरी समझने की गलती नहीं करनी चाहिए. उन्होंने कहा कि इस्लामाबाद अपनी रक्षा करने में सक्षम है. पाकिस्तानी सेना की ओर से जारी बयान में कहा गया कि पाकिस्तान शांति का पक्षधर है लेकिन चुनौती दिए जाने पर वह पूरी ताकत से जवाब देगा.

एक बयान से खत्म नहीं होगी कड़वाहट: संपादकीय

डॉन अखबार में प्रकाशित एक संपादकीय में कहा गया कि किसी को इस भ्रम में नहीं रहना चाहिए कि द्विपक्षीय समझौते को प्रभावित करने वाली कड़वाहट एक बयान के आधार पर खत्म हो जाएगी. संपादकीय में कहा गया, 'शांति स्थापना एक लंबी और कठिन प्रक्रिया है और जब भारत तथा पाकिस्तान जैसे जटिल संबंध हों तो चीजों को ठीक होने में समय लगेगा.'

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.