close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ZEE जानकारी: पाकिस्तान के स्वतंत्रता दिवस पर इमरान को याद आए नरेंद्र मोदी

पाकिस्तान के स्वतंत्रता दिवस पर इमरान खान ने PoK की Assembly में एक भाषण दिया . इमरान ख़ान की जुबान पर सिर्फ भारत, नरेंद्र मोदी और RSS का नाम था . 

ZEE जानकारी: पाकिस्तान के स्वतंत्रता दिवस पर इमरान को याद आए नरेंद्र मोदी

14 अगस्त को पाकिस्तान अपना स्वतंत्रता दिवस मनाता है. लेकिन भारत और दुनिया के इतिहास में 14 अगस्त का दिन एक काला दिवस है . ऐसा इसलिए है क्योंकि इसी दिन भारत का एक चौथाई हिस्सा, भारत से अलग हो गया था . और दुनिया के लिए आज का दिन, काला दिवस इसलिए है क्योंकि पूरी दुनिया में आतंकवाद फैलाने वाले पाकिस्तान का जन्म आज ही हुआ था.

इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना को आज 72 वर्ष बीत चुके हैं . पाकिस्तान को एक Failed State कहा जाता है. पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना ने पाकिस्तान को दुनिया की जन्नत बनाने का ख्वाब देखा था लेकिन आज ये देश, खुद के लिए और पूरी दुनिया के लिए, एक जहन्नुम बन चुका है.

आज पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान Pak Occupied Kashmir की राजधानी मुज़फ्फराबाद गए . वहां इमरान ख़ान ने PoK की Assembly में एक भाषण दिया . वैसे तो आज पाकिस्तान की आज़ादी का दिन है. लेकिन इमरान ख़ान की जुबान पर सिर्फ भारत, नरेंद्र मोदी और RSS का नाम था .

36 मिनट के अपने इस भाषण में इमरान ख़ान ने करीब 14 बार नरेंद्र मोदी, 26 बार हिंदुस्तान , 26 बार कश्मीर, 10 बार RSS, और तीन बार बीजेपी का जिक्र किया . इसके अलावा उन्होंने दो बार आर्टिकल 370 और एक बार आर्टिकल 35 A का भी नाम लिया . इमरान ख़ान के दिलो दिमाग पर भारत किस कदर हावी है, इसका अंदाज़ा आप इस बात से लगा सकते हैं कि उन्होंने निर्वाण और कर्म जैसे कठिन हिंदी शब्दों का भी इस्तेमाल किया .

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ही नहीं, वहां के राष्ट्रपति आरिफ अल्वी भी अपने भाषण में आज सिर्फ भारत की बात करते रहे . आरिफ अल्वी का भाषण 16 मिनट 47 सेकेंड का था, इसमें से करीब 13 मिनट 48 सेकेंड तक वो अनुच्छेद 370 और कश्मीर पर बोले, जबकि पाकिस्तान और मोहम्मद अली जिन्नाह के उसूलों का जिक्र उन्होंने सिर्फ 3 मिनट तक किया .

किसी भी देश का स्वतंत्रता दिवस उस देश के लोगों को समर्पित होता है, लेकिन पाकिस्तान हीन भावना से इतना ज्यादा ग्रस्त है कि वहां के नेता अपने भाषणों में सिर्फ भारत की बात करते हैं.

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान और राष्ट्रपति आरिफ अल्वी ने आज भारत को धमकियां भी दी . इमरान ख़ान ने भारत को युद्ध की धमकी दी है तो आरिफ अल्वी ने भारत के खिलाफ जेहाद छेड़ने का ऐलान किया है .

भारत को युद्ध की धमकी देते वक्त इमरान ख़ान ने एक बहुत बड़ा सच भी कबूल लिया . उन्होंने कहा कि भारत बालाकोट एयरस्ट्राइक से भी बड़ी योजना बना रहा है . ये वही पाकिस्तान है जो पहले ये दावा करता था कि बालाकोट एयरस्ट्राइक के दौरान सिर्फ कुछ पेड़ों को नुकसान पहुंचा था . जबकि अब पाकिस्तान के प्रधानमंत्री खुद मान रहे हैं कि एयरस्ट्राइक की वो रात बहुत खौफनाक थी .

26 फरवरी को बालाकोट पर एयरस्ट्राइक के बाद.. पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता आसिफ गफूऱ ने एक बयान दिया था . जिसमें उन्होंने दावा किया था कि बालाकोट में किसी आतंकवादी ठिकाने को नुकसान नहीं पहुंचा और भारत के सभी दावे झूठे हैं . लेकिन आज पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने ही वहां की सेना को झूठा साबित कर दिया है . 

अनुच्छेद 370 को हटाकर भारत ने पाकिस्तान के इरादों पर संवैधानिक स्ट्राइक की है . 72 वर्षों के बाद भारत में एक देश, एक निशान, एक विधान का सपना सच हो गया है और ये पाकिस्तान के लिए किसी सदमे से कम नहीं है . 

Pak Occupied Kashmir की Assembly में आज मशहूर शायर मोहम्मद इकबाल के शेर भी पढ़े गए, मोहम्मद अली जिन्ना अगर Two Nation Theory के लिए जिम्मेदार थे, तो इकबाल को इसका असली Master Mind कहा जा सकता है . लेकिन आज हम पाकिस्तान को इकबाल के ही एक शेर ज़रिए कुछ समझाना चाहते हैं . ये मशहूर शेर था

ख़ुदी को कर बुलंद इतना कि हर तक़दीर से पहले 
ख़ुदा बंदे से ख़ुद पूछे बता तेरी रज़ा क्या है

यानी अपने आत्मसम्मान को इतना ऊंचा कर लेना चाहिए कि आपका भविष्य तय करने से पहले ख़ुदा भी आपकी मर्ज़ी पूछें ?

भारत ने ऐसा ही किया और आज हमारा देश बुलंदियों पर है . हम अपने फैसले खुद लेते हैं और अपनी तकदीर भी खुद ही तय करते हैं . लेकिन पाकिस्तान इस दौड़ में बहुत पीछे छूट गया है और उसकी ये निराशा वहां के नेताओं के बयानों में साफ नज़र आती है . 

पाकिस्तान और भारत आज से 72 वर्ष पहले एक साथ आज़ाद हुए थे . लेकिन आज भारत.. पाकिस्तान से बहुत आगे निकल चुका है. बात चाहे अर्थव्यवस्था की हो, सेना की हो, स्पेस टेक्नॉलिजी की या फिर शिक्षा व्यवस्था की...हर पैमाने पर भारत पाकिस्तान से कई कदम आगे है .

आज भारत की GDP 190 लाख करोड़ रुपये से भी ज्यादा की है. जबकि पाकिस्तान की GDP सिर्फ 21 लाख करोड़ रुपये है.

72 वर्षों में भारत दुनिया की छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया है, जबकि पाकिस्तान की रैंकिंग 39 है . 

इस साल भारत अपने कुल बजट का 21 प्रतिशत पैसा सरकारी योजनाओं पर खर्च करेगा, जबकि पाकिस्तान अपने कुल बजट के 42 प्रतिशत हिस्से का इस्तेमाल ब्याज़ चुकाने के लिए करेगा . ऐसा इसलिए है क्योंकि पाकिस्तान IMF के अलावा कई देशों से भी लगातार कर्ज़ लेता रहा है .

भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 29 लाख करोड़ रुपये का है. जबकि पाकिस्तान के विदेशी मुद्रा भंडार में सिर्फ 1 लाख 21 हज़ार करोड़ रुपये हैं .

1999 तक भारत के 42 प्रतिशत लोग गरीबी रेखा से नीचे रहते थे, अब ये आकंड़ा घटकर 27 प्रतिशत रह गया है. पिछले 5 वर्षों में भारत के 27 करोड़ लोगों को गरीबी के जाल से बाहर निकाला गया है. जबकि पाकिस्तान में आज भी.. हर पांच में से दो व्यक्ति गरीबी रेखा के नीचे रहते हैं .

पाकिस्तान के स्पेस मिशन की शुरुआत भारत से 8 वर्ष पहले हो गई थी, लेकिन पिछले 20 वर्षों में पाकिस्तान ने किसी बड़े मिशन को अंजाम नहीं दिया है. जबकि भारत चांद और मंगल तक पहुंच चुका है.

भारत की सेना दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी सेना है. भारत के पास 13 लाख 62 हज़ार से ज्यादा सक्रिय सैनिक हैं. और इनमें Paramilitary के सैनिकों की संख्या शामिल नहीं है. 

जबकि पाकिस्तान की सेना सिर्फ 6 लाख 37 हज़ार जवानों की है. 
युद्ध की धमकी देने वाले पाकिस्तान को अब ये समझ जाना चाहिए कि जंग के मैदान में भी वो भारत का मुकाबला नहीं कर सकता . कल दिल्ली के लाल क़िले से लेकर, श्रीनगर के लाल चौक तक आज़ादी का जश्न मनाया जाएगा . ये वो सपना है जिसके पूरे होने का इंतज़ार भारत के लोग 72 वर्षों से कर रहे थे .