close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ZEE जानकारी: क्या पाकिस्तान हाफिज सईद को लेकर झूठी खबर फैला रहा है?

पाकिस्तान ने सिर्फ दुनिया को दिखाने के लिए हाफिज़ सईद को गिरफ्तार किया है .

ZEE जानकारी: क्या पाकिस्तान हाफिज सईद को लेकर झूठी खबर फैला रहा है?

पाकिस्तान ऐसा देश नहीं है जो गलतियों से सबक लेता हो, बल्कि झूठी खबरें फैलाना और प्रोपेगेंडा करना पाकिस्तान के DNA में है . इसलिए DNA में अब हम पाकिस्तान से ही आई एक Faking News यानी भ्रमित करने वाली एक ख़बर का विश्लेषण करेंगे . पाकिस्तान की सरकार और वहां का Media, इसे Breaking News बनाकर पूरी दुनिया में बेच रहे हैं . मैं ऐसा क्यों कह रहा हूं, इसे समझाने के लिए आपको पाकिस्तान से आई कुछ तस्वीरें दिखाना चाहता हूं. 

तस्वीर के पहले Frame में ही आपको एक ईमारत से हाफिज़ सईद बाहर निकलता हुआ दिखाई देगा . हाफिज़ सईद सफेद कुर्ते मे बाहर निकल रहा है और उसके आस पास कई लोगों की भीड़ मौजूद है . इसके अलावा कुछ लोग हाथों में बंदूक लिए हुए भी दिखाई दे रहे हैं, ये सुरक्षा कर्मी हैं . इस दौरान कुछ लोग मोबाइल फोन से हाफिज़ सईद की तस्वीरें भी ले रहे हैं . ऐसा लग रहा है जैसे कोई मशहूर हस्ती लोगों से मिलने बाहर निकली है . 

ये तस्वीरें भारत के Most Wanted आतंकवादी हाफिज़ सईद की है जो अपने समर्थकों के साथ बड़े आराम से आगे बढ़ रहा है . आपने भारत में बड़े बड़े VVIP लोगों को ऐसी सुरक्षा के बीच चलते हुए देखा होगा लेकिन पाकिस्तान ज़रा दूजी किस्म का देश है वहां आतंकवादी को VVIP स्तर की सुरक्षा दी जाती है . 

हमने ये तस्वीरें इसलिए आपको दिखाई हैं क्योंकि पाकिस्तान इस ड्रामे को हाफिज़ सईद की गिरफ्तारी का नाम दे रहा है .

अब हमारा सवाल ये है, कि क्या दुनिया का कोई भी इंसान इन तस्वीरों को देखकर ये कह सकता है, कि ये हाफिज़ सईद की गिरफ़्तारी की तस्वीरें हैं ? आप भी ये सब देखकर हैरान हो रहे होंगे . हाफिज़ सईद को इन सारी सुविधाओं के साथ गिरफ्तार करके पाकिस्तान ने एक बार फिर साबित कर दिया है.. कि उसके अंदर आंतकवादियों के खिलाफ कार्रवाई करने की इच्छाशक्ति नहीं है . और उसने सिर्फ दुनिया को दिखाने के लिए हाफिज़ सईद को गिरफ्तार किया है . हमें लगता है कि इस नकली गिरफ़्तारी को De-code करना ज़रूरी है. 

हाफिज़ सईद को पाकिस्तान के पंजाब के Counter Terrorism Department यानी CTD ने गिरफ्तार किया है . पाकिस्तानी मीडिया के मुताबिक हाफिज़ सईद को आतंकवाद निरोधी अदालत के सामने पेश किया गया और फिर वहां से उसे जेल भेज दिया गया .

हाफिज़ सईद पर आरोप है कि उसने अपने प्रतिबंधित आतंकी संगठन जमात उद दावा के लिए Fund इकट्ठा किया था . लेकिन पाकिस्तान में हाफिज़ सईद को पकड़ने और छोड़ने का ड्रामा चलता रहता है . इसी महीने की 15 तारीख को हाफिज़ सईद को पाकिस्तान की एक Anti terrorism court ने अग्रिम ज़मानत दे दी थी . पाकिस्तान पहले भी कई बार हाफिज़ सईद की गिरफ्तारी की झूठी स्क्रिपट लिखता रहा है .

आपको बता दें कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान इसी महीने की 22 तारीख को अमेरिका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप से मुलाकात करेंगे . ये मुलाकात व्हाइट हाउस में होगी, और इस मीटिंग से पहले ही पाकिस्तान अपने गुनाहों को White Wash करने में जुट गया है .

पाकिस्तान दुनिया भर के आतंकवादियों का Playground बना हुआ है . दुनिया के बड़े बड़े देश पाकिस्तान से नाराज़ हैं और शायद इसी डर की वजह से पाकिस्तान ने एक बार फिर हाफिज़ सईद पर कार्रवाई करने का नाटक किया है . 

पाकिस्तान ने हाफिज़ सईद की गिरफ्तारी की झूठी script लिखी और अपने इस झूठ को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर REALESE भी कर दिया . पाकिस्तान की इस झूठी कहानी का सबसे पहला शिकार बने हैं अमेरिका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप . 

हाफिज़ सईद की गिरफ्तारी के बाद डोनल्ड ट्रंप ने एक ट्वीट किया जिसमें उन्होंने कहा कि 10 साल की खोज के बाद आखिरकार मुंबई हमले के मास्टर माइंड को पाकिस्तान में गिरफ्तार कर लिया गया है . ट्रंप ने ये भी लिखा कि हाफिज़ को ढूंढने के लिए पिछले 2 साल से पाकिस्तान पर काफी दबाव बनाया गया था .

आप इसे दुनिया के सबसे शक्तिशाली देश के राष्ट्रपति का अल्प ज्ञान भी कह सकते हैं . हम ऐसा क्यों कह रहे हैं ये जानने के लिए आपको ट्रंप के शब्दों पर गौर करना होगा . वो कह रहे हैं कि हाफिज़ सईद को पिछले 10 वर्षों से ढूंढा जा रहा था . उन्होंने एक बार SEARCH शब्द का और एक बार FIND शब्द का इस्तेमाल किया है . इन दोनों ही शब्दों का अर्थ खोजना या ढूंढना होता है .

लेकिन हाफिज़ सईद पिछले 10 वर्षों से कहीं छिपा हुआ नहीं था, वो पाकिस्तान में खुले आम घूमता है, भारत और अमेरिका के खिलाफ ज़हर उगलता है और राजनीतिक रैलियां भी करता है . पाकिस्तान में उसे VVIP का दर्जा हासिल है . फरवरी 2017 में हाफिज़ सईद को नज़रबंद किया गया था . तब उसने कहा था कि उसकी गिरफ्तारी भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप के इशारे पर हो रही है .

हाफिज़ सईद कई मौकों पर ट्रंप का नाम लेकर अमेरका के खिलाफ जिहाद की धमकी भी देता रहा है . इतना ही नहीं उसके और ओसामा बिन लादेन के कनेक्शन की बात भी कई बार सामने आ चुकी है . ज़ाहिर है हाफिज़ सईद अमेरिका के लिए कोई छिपा हुआ नाम नहीं है . लेकिन फिर भी इतने बड़े आतंकवादी पर ट्रंप का अल्प ज्ञान हैरान करता है .

अमेरिका ने वर्ष 2011 में 9/11 हमले के मास्टर माइंड ओसामा बिन लादेन को पाकिस्तान के एबोटाबाद में मार गिराया था . लादेन कहां छिपा था ये पता लगाने में अमेरिका को 10 साल लग गए . लेकिन मुंबई पर हमला करने वाला हाफिज़ सईद इस दौरान कभी भी छिपकर नहीं रहा, बल्कि हाफिज़ सईद को पाकिस्तान की सरकार का पूरा संरक्षण हासिल है .

इतना ही नहीं अमेरिका ने खुद हाफिज़ सईद पर 70 करोड़ रुपये का इनाम रखा हुआ है . ऐसे में हाफिज़ को लेकर ट्रंप की General Knowledge हैरान करती है . पाकिस्तान झूठा प्रोपेगेंडा करने में माहिर है और हमें लगता है कि अमेरिका उसकी चाल में फंस गया .

इसलिए आज हम डोनल्ड ट्रंप को हाफिज़ सईद का वो बयान सुनाना चाहते हैं जिसमें वो खुलेआम भारत को धमकी दे रहा था और ज़ी न्यूज़ को भी सबक सिखाने की बात कर रहा था, पहले आप हाफिज़ सईद का ये बयान सुनिए फिर हम अपने विश्लेषण को आगे बढ़ाएंगे 

अमेरिका को ये बात समझनी होगी कि आतंकवाद पाकिस्तान के DNA में है . पाकिस्तान अक्सर आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई के नाम पर दुनिया को बेवकूफ बनाता है . 22 जुलाई को ट्रंप और इमरान की मुलाकात होगी, यानी अभी इसमें 5 दिन का वक्त है, ट्रंप चाहें तो इन 5 दिनों में हाफिज़ सईद पर किए गए हमारे DNA TEST की पूरी सीरीज़ देखकर अपने ज्ञान में इज़ाफा कर सकते हैं

हाफिज़ सईद ने वर्ष 2016 में ज़ी न्यूज़ की कवरेज से तंग आकर हमें सबक सिखाने की धमकी दी थी . हम जानते हैं कि उसकी नज़र हमारी ख़बरों पर रहती है.. और वो छुप छुपकर ज़ी न्यूज़ देखता है.. इस वक़्त हाफिज़ सईद जिस जेल में मौजूद है, हो सकता है कि वहां भी उसने ज़ी न्यूज़ देखने का प्रबंध करवाया हो . हाफिज़ सईद के लक्षण देखकर लगता है कि उसे पूरी आशंका होगी, कि आज DNA में हम उसकी गिरफ्तारी वाले नाटक का गहरा विश्लेषण ज़रूर करेंगे . उसकी बेचैनी बिलकुल सही है. 

पाकिस्तान अमेरिका से डरकर हाफिज़ सईद की गिरफ्तारी का नाटक कर रहा है . लेकिन अगर पाकिस्तान सच में आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई करने को लेकर गंभीर है तो आज इमरान ख़ान को हमारा ये DNA TEST ज़रूर देखना चाहिए क्योंकि हमने इमरान ख़ान के लिए एक 5 सूत्रीय कार्यक्रम तैयार किया है . जिसका पालन करने के बाद इमरान अपनी और अपने देश की छवि सुधार सकते हैं . सबसे पहले पाकिस्तान को हाफिज़ सईद जैसे आतंकवादियों को बार बार गिरफ्तार करने और छोड़ने का ये नाटक बंद कर देना चाहिए . 

इमरान ख़ान को मान लेना चाहिए कि कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और इस पर बहस या बातचीत की कोई गुंजाइश नहीं है .

इमरान ख़ान को ये भी समझ लेना चाहिए अब पूरी दुनिया में उसका साथ देने वाले देशों की संख्या लगभग शून्य हो चुकी है . ऐसे में पाकिस्तान की भलाई इसी में है कि वो आतंकवाद का रास्ता छोड़कर शांति का राह पर लौट आए .  चौथी बात ये है कि पाकिस्तान को भारत के साथ कूटनीतिक दंगल बंद कर देना चाहिए क्योंकि भारत कूटनीति की दुनिया का सुल्तान है .

और पांचवी और सबसे महत्वपूर्ण बात, पाकिस्तान को प्रधानमंत्री मोदी की राय मानकर अपने देश की भूखमरी और गरीबी को खत्म करने की तरफ ध्यान देना चाहिए, क्योंकि जिस देश के लोगों के पास पेट भरने लायक खाना नहीं होता वो देश परमाणु हमले की धमकी देते हुए अच्छे नहीं लगते .

पाकिस्तान को अपनी Third Class अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए हमारे इस 5 सूत्रीय कार्यक्रम को आज़माना चाहिए . हमें उम्मीद है कि पाकिस्तान अगर ऐसा करेगा तो धीरे धीरे उसके सिर से आतंकवाद और कश्मीर का भूत ज़रूर उतर जाएगा .