close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ZEE जानकारी: जानें, क्यों राहुल गांधी पाकिस्तान में चर्चा का केंद्र बने हुए हैं

हमारे ही देश के कुछ नेता पाकिस्तान की भाषा बोलते हैं . देश में पाकिस्तान के एजेंडे को आगे बढ़ाते हैं और ऐसे नेता जम्मू-कश्मीर के मुद्दे पर पाकिस्तान के लिए उम्मीद की किरण बने हुए हैं.

ZEE जानकारी: जानें, क्यों राहुल गांधी पाकिस्तान में चर्चा का केंद्र बने हुए हैं

आज हम आपको बताएंगे कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी पाकिस्तान में क्यों Trend कर रहे हैं.

हमारे ही देश के कुछ नेता पाकिस्तान की भाषा बोलते हैं . देश में पाकिस्तान के एजेंडे को आगे बढ़ाते हैं और ऐसे नेता जम्मू-कश्मीर के मुद्दे पर पाकिस्तान के लिए उम्मीद की किरण बने हुए हैं. ऐसे ही एक नेता हैं राहुल गांधी . इस वक्त हमारे अपने ही देश में ऐसा माहौल पैदा हो गया है, जिसे देखकर कोई भी यही सोचेगा, कि भारत के विपक्षी दल, पाकिस्तान से कह रहे हैं- 'हम हैं ना' .

पाकिस्तान की सरकार ने जम्मू-कश्मीर की स्थिति लेकर संयुक्त राष्ट को एक चिट्ठी लिखी है . इसे पाकिस्तान सरकार में मंत्री शिरीन मज़ारी ने लिखा है. इस चिट्ठी में कांग्रेस नेता राहुल गांधी के बयान का भी जिक्र है . सबसे पहले आपको ये समझना चाहिए कि पाकिस्तान ने इस चिट्ठी में राहुल गांधी का नाम लेकर क्या कहा है ? 

इस चिट्ठी के पेज नंबर 6 पर, पैराग्राफ नंबर दो में लिखा गया है कि जम्मू-कश्मीर में हिंसा की बात भारत के कुछ राजनेताओं ने भी मानी है, इनमें से एक हैं विपक्ष के नेता राहुल गांधी . राहुल गांधी ने कहा है कि जम्मू-कश्मीर से हिंसा की खबरें आ रही हैं और वहां लोग मारे जा रहे हैं .

राहुल गांधी ने ये बयान...10 अगस्त को दिया था . तब राहुल गांधी कांग्रेस पार्टी की एक बहुत महत्वपूर्ण बैठक में हिस्सा ले रहे थे . इस बैठक में कांग्रेस के नए अध्यक्ष के नाम पर चर्चा की जा रही थी. लेकिन राहुल गांधी ये महत्वपूर्ण काम बीच में छोड़कर...बाहर आए और वो बात कह दी..जिसका इंतज़ार पाकिस्तान बेसब्री से कर रहा था .

इसके बाद 24 अगस्त को राहुल गांधी ने देश की दूसरी विपक्षी पार्टियों के बड़े नेताओं के साथ श्रीनगर जाने की कोशिश की . सुरक्षा को देखते हुए उन्हें एयरपोर्ट से बाहर नहीं जाने दिया गया . तब राहुल गांधी ने फिर से एक बयान दिया और कहा कि जम्मू कश्मीर में हालात सामान्य नहीं हैं . 

इसके अलावा राहुल गांधी ने 6 अगस्त, 11 अगस्त, 16 अगस्त और 25 अगस्त को भी जम्मू-कश्मीर को लेकर ऐसे Tweets किए जो पाकिस्तान में Trend करने लगे . पाकिस्तान राहुल गांधी के बयानों को Five Star rating दे रहा है . और अब ऐसा लग रहा है कि राहुल गांधी पाकिस्तान के सर्वोच्च नागरिक सम्मान... निशान-ए-पाकिस्तान के हकदार बनते जा रहे हैं .

राहुल गांधी के ऐसे बयान कोई छोटी-मोटी बात नहीं है . राहुल गांधी 2019 के लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार भी रहे हैं और विपक्ष के बड़े नेता भी . अब आप सोचिए अगर राहुल गांधी प्रधानमंत्री होते..तो कश्मीर को लेकर भारत का रुख क्या होता ? ध्यान देने की बात ये भी है कि जो लोग सेना से सबूत मांगते थे, वो अब पाकिस्तान को सबूत सौंपने लगे हैं . 

पाकिस्तान की चिट्ठी पर ध्यान दीजिए . उसमें मानव अधिकारों के हनन की बात है, आरोप है कि कश्मीर में संचार व्यवस्था ठप हो गई. यही आरोप राहुल गांधी भी लगा रहे हैं . 

पाकिस्तान की राजनीति से लेकर वहां के मीडिया तक में सिर्फ राहुल गांधी के बयानों की ही चर्चा हो रही है . राहुल गांधी पाकिस्तान के मीडिया में Poster Boy बन गए हैं . पाकिस्तान ने भारत के साथ व्यापार के सभी दरवाज़े बंद कर दिए हैं. लेकिन वहां राहुल गांधी के बयानों को जमकर Import किया जा रहा है. आज आपको ये भी सुनना चाहिए कि पाकिस्तान का मीडिया राहुल गांधी को लेकर क्या कह रहा है

हमने 13 अगस्त को DNA में देश को एक बड़े खतरे के बारे में आगाह किया था . हमने आपको बताया था कि कैसे देश की विपक्षी पार्टियों के नेता...पाकिस्तान से कह रहे हैं कि 'हम है ना' . जम्मू-कश्मीर पर पाकिस्तान की कूटनीति नाकाम हो चुकी है . हर मंच पर उसे हार का मुंह देखना पड़ा है . लेकिन पाकिस्तान की उम्मीदें अभी टूटी नहीं है . क्योंकि राहुल गांधी जैसे नेता बार बार पाकिस्तान को भरोसा दे रहे हैं कि वो भारत में पाकिस्तान का प्रतिनिधित्व पूरी ईमानदारी से करेंगे . हालांकि आज राहुल गांधी ने भी इस मामले पर एक Tweet करके सफाई दी है . 

राहुल गांधी ने कहा है कि कश्मीर भारत का आंतरिक मामला है और पाकिस्तान समेत किसी भी देश को इसमें दखल नहीं देना चाहिए. उन्होंने पाकिस्तान को जम्मू-कश्मीर में हिंसा का माहौल पैदा करने के लिए भी जिम्मेदार ठहराया है . 

हमें खुशी है कि राहुल गांधी को अपनी गलती का एहसास हुआ है . लेकिन राहुल गांधी ने इस भूल सुधार में देर कर दी . संख्या के हिसाब से देश की संसद में कांग्रेस की स्थिति बहुत कमज़ोर है. और ऐसा कहा जाता है कि कमज़ोर विपक्ष लोकतंत्र के लिए खतरनाक होता है. लेकिन नासमझ विपक्ष पूरे देश के लिए खतरनाक हो जाता है . और ये अच्छी स्थिति नहीं है . असली खतरा देश के भीतर ही मौजूद है, और आपको खतरे के इन संकेतों को पहचान लेना चाहिए .

संयुक्त राष्ट्र को लिखी गई पाकिस्तान की चिट्ठी में राहुल गांधी का नाम आने के बाद कांग्रेस ने इसे पाकिस्तान की शरारत बताया है. लेकिन बीजेपी कह रही है कि राहुल गांधी और कांग्रेस..पाकिस्तान के हाथ में खेल रहे हैं .

राहुल गांधी ने इस मामले पर सफाई तो दे दी . लेकिन पाकिस्तान को ये बात पसंद नहीं आई . पाकिस्तान के मंत्री फवाद चौधरी ने...Tweet करके राहुल गांधी से कहा है कि उनकी राजनीति Confusion की शिकार है . हम कश्मीर पर पाकिस्तान के किसी भी बयान का समर्थन नहीं करते..लेकिन आज हम इस मुद्दे पर नेहरू गांधी परिवार की Confusion का विश्लेषण ज़रूर करेंगे .

जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा है कि राज्य की एक-एक जान कीमती है. और सबसे बड़ी बात ये है कि अनुच्छेद 370 हटने के बाद राज्य में एक भी जान नहीं गई है. राहुल गांधी के बयान पर टिप्पणी करते हुए राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा कि राहुल का बयान बचकाना है . उन्होंने कहा कि राहुल राजनीति में नौसिखिए हैं .