आसाराम: हमले में जैसे-तैसे बचे इस गवाह के साथ 24 घंटे रहती है पुलिस

1997 से 2006 के बीच अहमदाबाद और सूरत में आश्रम में रहने के दौरान लड़कियों से रेप किया गया.

Apr 25, 2018, 14:58 PM IST

नई दिल्‍ली: आसाराम और उसके बेटे पर चल रहे रेप केस में नौ गवाह अहम हैं. इनमें तीन की हत्‍या कर दी गई थी और कई पर जानलेवा हमला हुआ. इनमें से एक महेंद्र चावला हैं, जिनके साथ पुलिस का लाव-लश्‍कर चलता है लेकिन बाबा का खौफ उनके चेहरे पर साफ देखा जा सकता है. 

1/5

3 witnesses were killed in asaram case

3 witnesses were killed in asaram case

नई दिल्‍ली: आसाराम और उसके बेटे पर चल रहे रेप केस में नौ गवाह अहम हैं. इनमें तीन की हत्‍या कर दी गई थी और कई पर जानलेवा हमला हुआ. इनमें से एक महेंद्र चावला हैं, जिनके साथ पुलिस का लाव-लश्‍कर चलता है लेकिन बाबा का खौफ उनके चेहरे पर साफ देखा जा सकता है. उन्‍होंने आसाराम के खिलाफ बलात्कार के दो बड़े मुकदमों में जोधपुर और सूरत में जारी गवाही दी है. महेंद्र को तरह-तरह से बहलाने-फुसलाने की कोशिश की गई. गवाही देने से नहीं माने तो 2015 में जानलेवा हमले का शिकार हो गए. उसके बाद से पुलिस की तीन-तीन पार्टियां साथ रहती हैं. कंधे में गोली लगने से हमेशा के लिए आंशिक रूप से विकलांग हो गए. उनके मुताबिक फैसला आने के बाद मेरी जान को ख़तरा बढ़ सकता है. महेंद्र ने नारायण साई के निजी सचिव के तौर पर काम किया था.

2/5

3 witnesses were killed in asaram case

3 witnesses were killed in asaram case

पानीपत में एक आश्रम निर्माण में मैंने लेबरों की तरह काम किया. गारा-मिट्टी उठाई. ईंटें जमाईं. इसके बाद मैं अहमदाबाद चला गया. वहां दूसरा कामकाज देखने लगा. महेंद्र के मुताबिक आश्रम में बन रही देसी दवाइयों, अगरबत्तियों, शहद को बेचने का काम भी करता था. इसके बाद कोटा भेज दिया गया.

3/5

3 witnesses were killed in asaram case

3 witnesses were killed in asaram case

महेंद्र ने 10 साल तक एक सेवादार की तरह आसाराम के आश्रमों में अपनी सेवाएं दी हैं. बीबीसी ने महेंद्र के हवाले से बताया कि आसाराम केस में गवाही देने के बाद सारा ढोंग समझ में आया. दरअसल उसने ईश्वर प्राप्ति का झांसा देकर मुझे भ्रमित कर दिया था.

4/5

2001 में लखावा के आश्रम निर्माण के दौरान मेरी आसाराम और साईं से बातचीत शुरू हो गई थी. वह मुझसे आश्रमों की गतिविधियों के बारे में पूछते थे. उसी दौरान नारायण साईं को तंत्र-मंत्र करते देखा था. यह भी पता चला कि वह लड़कियों का यौन उत्‍पीड़न करता था. अलग-अलग आश्रमों में लड़कियां बुलाता और उनका यौन शोषण करता. यह देख मैंने 2005 में आश्र‍म छोड़ दिया था.

5/5

3 witnesses were killed in asaram case

3 witnesses were killed in asaram case

सितंबर 2013 में आसाराम को एक लड़की से बलात्कार के आरोप में गिरफ्तार किया गया था. इसके बाद सूरत में दो बहनों का मामला सामने आया और बेटा नारायण साईं भी कानूनी शिकंजे में घिर गया. नारायण साईं अभी जेल में बंद है. आरोप है कि 1997 से 2006 के बीच अहमदाबाद और सूरत में आश्रम में रहने के दौरान दोनों लड़कियों से रेप किया गया. इस दौरान जब तक मामले कोर्ट पहुंचते तब तक तीन गवाहों की हत्‍या हो चुकी थी और अन्‍य छह गर या तो जानलेवा हमले हुए या धमकियां मिलीं.