RPF ने किया अब तक के सबसे बड़े तत्काल ई-टिकट रैकेट का भंडाफोड़, पहली बार 6600 टिकट रद्द

जी न्यूज की इस खास पेशकश में आप अपने शहरों की कुछ चुनिंदा और खास खबरें हिन्दी में बस एक क्लिक में पढ़ सकते हैं.

May 05, 2018, 09:47 AM IST

नई दिल्ली: अपने NRI पाठकों के लिए ZEE News Hindi ने एक नई शुरुआत की है. जी न्यूज की इस खास पेशकश में आप अपने शहरों की कुछ चुनिंदा और खास खबरें हिन्दी में बस एक क्लिक में पढ़ सकते हैं.

1/6

Interesting News for NRI readers

सूरत: दैनिक भास्कर के सूरत संस्करण के शनिवार के अंक में पहले पन्ने पर प्रमुखता के साथ छापी गई एक खबर दावा करती है कि मध्य रेलवे आरपीएफ ने तत्काल ई-टिकट बुक करने वाले एक बड़े रैकेट का भंडाफोड़ किया है. खबर के मुताबिक यह रैकेट अनधिकृत सॉफ्टवेयर 'काउंटर' के द्वारा चंद सेकंड में सैकड़ों तत्काल टिकट बुक कर देता था. खबर में दावा किया गया है कि रैकेट के मास्टरमाइंड सलमान खान को मध्य रेलवे के मुंबई डिविजन के ठाणे में गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया गया है. उसके पास ई-टिकट बुक करने का लाइसेंस भी नहीं है. खबर में दावा किया गया है कि उसका नेटवर्क पूरे देश में फैला हुआ है. खबर में बताया गया है कि काउंटर सॉफ्टवेयर के द्वारा बुक किए गए डेढ़ करोड़ रुपए के 6600 तत्काल ई-टिकट रेलवे ने शुक्रवार को ब्लॉक कर दिए. यानी जिनके पास ये रद्द किए जा चुके टिकट हैं, वे अब यात्रा नहीं कर सकेंगे. खबर के मुताबिक ये टिकट देशभर से बुक हुए थे, लेकिन पश्चिम और मध्य रेलवे के टिकट सबसे ज्यादा हैं. खबर में मध्य रेल मुंबई मंडल आरपीएफ के वरिष्ठ मंडल सुरक्षा आयुक्त सचिन भालोडे के हवाले से बताया गया है कि यह अब तक का सबसे बड़ा तत्काल ई-टिकट रैकेट है. पहली बार इतनी बड़ी संख्या में ई-टिकट भी ब्लॉक किए गए हैं.

2/6

Interesting News for NRI readers

नई दिल्ली: दैनिक जागरण में शनिवार के अंक में छपी एक खबर में कयास लगाया गया है कि नीरज अरोड़ा वाट्सएप के अगले सीईओ बन सकते हैं. खबर में दावा किया गया है कि वाट्सएप के सह संस्थापक और सीईओ जन कूम अपने फेसबुक पोस्ट में एलान कर चुके हैं कि वह इस मैसेजिंग कंपनी को अलविदा कहने जा रहे हैं. खबर के मुताबिक ऐसे में बड़ा सवाल यह है कि अब उनकी जगह कौन लेगा. खबर में बताया गया है कि इस रेस में सबसे आगे भारतीय मूल के 39 वर्षीय नीरज अरोड़ा का नाम है. वह वाट्सएप के मौजूदा बिजनेस अफसर हैं. खबर में यह भी बताया गया है कि वाट्सएप को फेसबुक संचालित करती है. कूम के जाने के बाद मार्क जुकरबर्ग के लिए जल्द वाट्सएप को नया सीईओ देना सबसे अहम काम है. खबर के मुताबिक इससे पहले बीते साल नवंबर में ब्रियान एक्टॉन ने मैसेजिंग कंपनी को अलविदा कहा था. माना जा रहा है कि प्राइवेसी पॉलिसी को लेकर कूम का वाट्सएप से मोहभंग हो गया और उन्होंने आनन-फानन में कंपनी से अलग होने का एलान कर दिया. लेकिन अब अहम सवाल यह है कि वैश्विक स्तर पर धाक जमा चुकी कंपनी का नया बिगबॉस कौन होने जा रहा है?

3/6

Interesting News for NRI readers

इंदौर: दैनिक भास्कर के इंदौर संस्करण में शनिवार को पहले पन्ने पर छपी खबर में दावा किया गया है कि खुद को एडीजी की बहन बताकर पुलिस अफसरों को 10 साल तक अपने इशारों पर नचाने वाली शातिर सोनाली शर्मा ने पुलिस विभाग के खुफिया तंत्र पर करारा तमाचा जड़ा है. खबर में खुलासा किया गया है कि होटल व्यवसायी और लॉज संचालकों द्वारा बाहरी लोगों के आने पर उनके आईडी प्रूफ नहीं रखने पर पुलिस सीधे केस दर्ज कर लेती है, लेकिन खुद की बटालियन के अंदर मौजूद मैस में न तो किसी बाहरी से वह आईडी प्रूफ लेती है और न पूछताछ करती है. खबर के मुताबिक शुक्रवार को सोनाली का पुलिस रिमांड खत्म हो गया और उसे जेल भेज दिया है. खबर में सूत्रों के हवाले से बताया गया है कि सोनाली ने इंदौर में कई बार एसपी रैंक के अफसरों की गाड़ी का भी इस्तेमाल किया है. खबर में बताया गया है कि हाल ही में एसपी रैंक के अफसरों को नई गाड़ियां मिली हैं, लेकिन जो उनकी पुरानी एंबेसेडर कार थी वह डीआरपी लाइन में थी जिसे एमटी शाखा के श्यामसुंदर द्वारा एक वरिष्ठ अधिकारी के कहने पर सोनाली के लिए उपलब्ध करवाया जा चुका है. इसी कार में बैठकर वह रौब जमाती थी. खबर के मुताबिक अफसर यह जांच रहे हैं कि किस अफसर के कहने पर ये कार सोनाली को मिली थी.

4/6

Interesting News for NRI readers

मोहाली: दैनिक जागरण के चंडीगढ़ संस्करण में शनिवार को पहले पन्ने पर छपी खबर में दावा किया गया है कि लुधियाना के आरएसएस नेता रविंदर गोसाईं की हत्या के मामले में शुक्रवार को एनआइए टीम ने मोहाली की एनआइए कोर्ट में 50 पेज की चार्जशीट दाखिल कर दी है. खबर के मुताबिक इसमें 17 के नाम शामिल हैं, जिनमें से एक की मौत हो चुकी है. वहीं, तलजीत सिंह उर्फ जिम्मी को बरी करने की अपील की गई है, क्योंकि उसके खिलाफ सुबूत नहीं मिले. खबर में एनआइए के वकील सुरिंदर सिंह के हवाले से बताया गया है कि हरदीप सिंह शेरा व रमनदीप सिंह को मुख्य आरोपित बनाया गया है. खबर के मुताबिक कोर्ट को बताया गया कि जगजीत सिंह जौहल दोनों को टारगेट कीलिंग व आतंक फैलाने के लिए फंडिंग करता था. शेरा और जौहल फ्रांस में मिले थे. जौहल का नाम भी चार्जशीट में शामिल है और वह यूके निवासी है. खबर में बताया गया है कि अगली सुनवाई 22 मई को होगी. आरोपितों में से चार को भगौड़ा घोषित किया गया है. वहीं, एक आरोपित हरमिंदर सिंह उर्फ मिंटू की हाल ही में मौत हो गई है. खबर में इस बात का भी जिक्र है कि कोर्ट ने एनआइए को मिंटू का डेथ सर्टिफिकेट सबमिट करने के लिए कहा है. खबर के मुताबिक एनआइए की टीम ने मामले से जुड़े 1500 दस्तावेज भी कोर्ट में जमा करवाए.

5/6

Interesting News for NRI readers

दिल्ली: नवभारत टाइम्स के शनिवार के अंक में पहले पन्ने पर बिहार के मधेपुरा लोकसभा सीट से निर्दलीय सांसद पप्पू यादव की जल्द प्रकाशित होने वाली किताब 'जेल' के बारे में जानकारी छापी गई है. खबर के मुताबिक किताब में दावा किया गया है कि जेल में कैदियों के पास मोबाइल होना उतनी ही आम बात है, जैसे लोकल ट्रेन में बिना टिकट चलना. खबर में दावा किया गया है कि पप्पू यादव संगीन आरोपों में 17 साल से अधिक समय जेल में बिता चुके हैं. पटना के बेऊर जेल से लेकर दिल्ली के तिहाड़ जेल में रह चुके हैं. अब उन्होंने जेल में बिताए दिनों के अपनों अनुभवों को किताब 'जेल' में विस्तार से लिखा है. किताब जल्द रिलीज होने वाली है. खबर में इस बात का भी जिक्र किया गया है कि जेल में ब्लेड कैसे सबसे खतरनाक हथियार है, किताब में इसका भी ब्योरा है. खबर के मुताबिक पप्पू यादव ने किताब में लिखा है कि जेल में मजबूत होने की परिभाषा यह है कि कौन-सा गुट ब्लेड से ज्यादा हमले कर सकता है. इनमें से कई तो ब्लेड से हमला करने के बदले बाहर से पैसा लेते हैं और लाखों कमा लेते हैं. इसी कमाई से उनका घर चलता है. उन्होंने सरकार को कई सुझाव भी दिए हैं.

 

6/6

Interesting News for NRI readers

नई दिल्ली: हिन्दुस्तान के शनिवार के अंक में जीएसटी परिषद की बैठक में लिए गए कुछ अहम फैसलों के मुताबिक दावा किया गया है कि नगद के मुकाबले डिजिटल लेनदेन किफायती पड़ेगा. खबर में बताया गया है कि जीएसटी परिषद की शुक्रवार को हुई बैठक में राज्यों ने डिजिटल लेनदेन करने वालों को दो फीसदी छूट देने पर सहमति जताई है. खबर के मुताबिक इसके जरिये अधिकतम 100 रुपये तक छूट हासिल की जा सकेगी. इस फैसले को अंतिम रूप देने के लिए पांच मंत्रियों के एक समूह का गठन किया गया है. खबर में वित्तमंत्री अरुण जेटली के हवाले से बताया गया है कि ज्यादातर राज्य इस बात के पक्ष में है कि अगर सारा भुगतान डिजिटल या चेक के रूप में किया जाता है तो दो प्रतिशत प्रोत्साहन दिया जाना चाहिए. लेकिन ये छूट किसे और कैसे दी जाए इस पर राज्यों को और सफाई चाहिए. उन्होंने बताया कि राज्यों ने एक नकारात्मक सूची बनाने का सुझाव दिया है ताकि ये तय हो सके कि किन-किन सामानों में डिजिटल भुगतान पर जीएसटी में छूट न दी जाए.