X

जन्मदिन विशेष, मिताली राज : मैदान से मैगजीन के कवर तक का शानदार सफर

मिताली राज, भारतीय महिला क्रिकेट का आज सबसे चमकदार चेहरा. भारतीय महिला क्रिकेट को आज उनके नाम से जाना जाता है. क्रिकेट में उनकी उनकी उपलब्धियां भी वैसी ही हैं. टेस्ट क्रिकेट में दोहरा शतक बनाने वाली पहली महिला खिलाड़ी हैं.

1/11

उनके नेतृत्व में टीम इंडिया ने इस बार के वर्ल्डकप के फाइनल में जगह बनाई. हालांकि टीम को फाइनल में हार का सामना करना पड़ा, लेकिन मिताली की टीम के प्रदर्शन ने महिला क्रिकेट की लोकप्रियता को अपनी बुलंदी पर पहुंचा दिया. इसे ही मिताली इस वर्ल्डकप की सबसे बड़ी कामयाबी मानती हैं. मिताली को 2003 में अर्जुन पुरस्कार मिला.

2/11

मिताली तमिलनाडु से ताल्लुक रखती हैं. हालांकि उनका जन्म राजस्थान के जोधपुर में 3 दिसंबर 1982 को हुआ. पिता एयरफोर्स के अधिकारी रह चुके हैं. उन्होंने क्रिकेट की कोचिंग हैदराबाद से हासिल की.

 

3/11

मिताली ने 10 साल की उम्र से क्रिकेट को गंभीरता से लेना शुरू किया. 17 साल की उम्र में वे भारतीय क्रिकेट टीम में शामिल हो गई थीं.

4/11

मिताली का जन्म एक तमिल परिवार में हुआ था. इसके चलते उन्होंने बचपन में ही क्लासिकल डांस सीखना शुरू कर दिया. 10 साल की उम्र तक मिताली भरतनाट्यम में पारंगत हो गईं थीं. वे इसी में करियर बनाने के बारे में सोचने लगीं थीं. हालांकि वह खुद मानती हैं कि वह क्रिकेटर नहीं बनना चाहती थीं. ये बात उन्होंने अपनी मां से भी कही, लेकिन नियति को उनका क्रिकेटर बनना ही मंजूर था.

 

5/11

1999 में अपने पहले ही वनडे मुकाबले में आयरलैंड के खिलाफ उन्होंने नाबाद 114 रनों की पारी खेली थी. 19 साल की उम्र में मिताली ने टॉन्टन के मैदान में टेस्ट मैच में इंग्लैंड के विरुद्ध 214 रनों की पारी खेली. वह देश में रेलवे की टीम का प्रतिनिधित्व करती हैं.

6/11

टेस्ट और वनडे में दुनिया की सबसे भरोसेमंद बल्लेबाज के रूप में पहचानी जाती हैं. मिताली राज का इंग्लैंड के ख़िलाफ़ बनाया गया 214 रन का स्कोर महिला टेस्ट इतिहास का दूसरा सर्वाधिक स्कोर है. एक टेस्ट पारी में सबसे ज्यादा रन बनाने का रिकॉर्ड पाकिस्तान की किरन बलोच के नाम पर है. उन्होंने वेस्ट इंडजी के विरुद्ध टेस्ट में 242 रन बनाए थे.

7/11

इस समय आईसीसी की रैंकिंग में दुनिया की नंबर एक खिलाड़ी हैं. उनके नेतृत्व में टीम इंडिया ने 2006 में इंग्लैंड के विरुद्ध सीरीज जीती. दुनिया की उन 6  महिला क्रिकेटरों में शामिल हैं, जिन्होंने वनडे क्रिकेट में 4000 से ज्यादा रन बनाए हैं.

8/11

साल 2002 में उन्होंने इंग्लैंड के ख़िलाफ़ अपने टेस्ट करियर की शुरुआत की थी. लेकिन वो इस टेस्ट मैच में बिना खाता खोले आउट हो गई थीं. मिताली राज ने कुल 10 टेस्ट मैचों में 51 के औसत से 663 रन बनाए हैं. उन्होंने एक शतक और चार अर्धशतक लगाए और उनका उच्चतम स्कोर 214 रन रहा.

9/11

कुल 167 वनडे में मिताली ने 5407 रन बनाए हैं. उनका उच्चतम स्कोर 114 रन रहा. उन्होंने कुल पांच शतक और 40 अर्धशतक लगाए हैं. साथ ही 63 टी-20 मैचों में 37.95 के औसत से मिताली ने 1708 रन बनाए हैं.

10/11

मिताली बचपन से आलसी थी. पिता चाहते थे कि बेटी एक्टिव बने. इसलिए उन्होंने उसे क्रिकेट खेलने को कहा. 10 साल की उम्र में मिताली क्लासिकल डांस छोड़ हाथ में बैट पकड़े मैदान में नजर आने लगीं थीं. क्रिकेट में कामयाबी के बाद मिताली की ग्लैमर वर्ल्ड में भी जमकर पूछपरख है. वह कई टीवी शो में हिस्सा ले चुकी हैं.

11/11

वर्ल्डकप के फाइनल में जगह बनाने वाली टीम इंडिया की कप्तान मिताली राज को 'वोग वूमन ऑफ द ईयर अवार्ड्स' के कवर पेज पर शाहरुख खान और नीता अंबानी के साथ जगह मिली है.

photo-gallery