close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जलवायु परिवर्तन के कारण खेती पर संकट, हिमाचल के सेब और पंजाब के गेहूं हो रहे प्रभावित

यहां हम आपको एक-एक कर देश के सभी प्रमुख समाचार पत्रों की बड़ी खबर से रू-ब-रू करवाएंगे.

ज़ी न्यूज़ डेस्क | Nov 19, 2018, 11:58 AM IST

नई दिल्ली: यहां हम आपको एक-एक कर देश के सभी प्रमुख समाचार पत्रों की बड़ी खबर से रू-ब-रू करवाएंगे. सोमवार के अखबारों की बात करें तो सभी अखबारों ने अमृतसर में हुए ग्रेनेड अटैक की खबर को प्रमुखता के साथ प्रकाशित किया है.

1/5

जलवायु परिवर्तन के कारण खेती पर संकट

Top News from newspapers

राजस्थान पत्रिका: राजस्थान पत्रिका के सोमवार के अंक में पहले पन्ने पर प्रमुखता के साथ प्रकाशित एक खबर में दावा किया गया है कि भारत के 151 जिलों की फसलें, पौधे और पशु जलवायु परिवर्तन के कारण अति संवदेनशील हालात में पहुंच चुके हैं. खबर के मुताबिक यह देश के कुल जिलों का करीब 20 फीसदी है. खबर में जानकारी दी गई है कि कृषि मंत्रालय से जुड़े संस्थान भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आइसीएआर) की वार्षिक समीक्षा में यह चिंता जताई गई है. खबर में यह भी बताया गया है कि खेती से देश की तकरीबन आधी आबादी को रोजी-रोटी मिलती है, जबकि देश के आर्थिक उत्पादन का 17 फीसदी यहीं से प्राप्त होता है.

2/5

कृत्रिम बारिश निपटेगी जहरीली हवाओं से

Top News from newspapers

दैनिक जागरण: दैनिक जागरण के सोमवार के अंक में पहले पन्ने पर प्रकाशित खबर में दावा किया गया है कि जहरीली हवाओं से लोगों को बचाने के लिए सरकार अब कृत्रिम बारिश कराएगी. खबर के मुताबिक इसकी शुरुआत दिल्ली से होगी और अगर सबकुछ ठीक रहा तो इसे लखनऊ जैसे शहरों में भी आजमाया जा सकता है. खबर में यह जानकारी भी दी गई है कि अगर मौसम विभाग का अनुमान ठीक रहा तो 21 नवंबर को यह बारिश हो सकती है. फिलहाल इसे लेकर केंद्रीय पर्यावरण मंत्रालय ने सभी सुरक्षा मंजूरी हासिल कर ली हैं. सिर्फ डीजीसीए (डायरेक्टर जनरल ऑफ सिविल एविएशन) की मंजूरी मिलनी बाकी है.

3/5

हवा धीमी होने से प्रदूषण फिर बेहद खराब स्तर पर

Top News from newspapers

हिन्दुस्तान: हिन्दुस्तान अखबार के सोमवार के अंक में पहले पन्ने पर प्रकाशित एक खबर में बताया गया है कि हवा की रफ्तार कम होने से दिल्ली-एनसीआर की वायु गुणवत्ता एक बार फिर 'बेहद खराब' श्रेणी में पहुंच गई है. खबर के मुताबिक रविवार के दिन दिल्ली के अधिकतर हिस्से में वायु गुणवत्ता सूचकांक 350 अंक से ऊपर दर्ज किया गया. खबर में विशेषज्ञों के हवाले से बताया गया है ति हवा की गति दस किलोमीटर प्रतिघंटे से कम ही रही है. इसके चलते प्रदूषक कण बिखर नहीं रहे हैं. इस वजह से प्रदूषण बढ़ता जा रहा है. खबर में केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के हवाले से बताया गया है कि रविवार को दिल्ली का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक 311 रहा.

4/5

साल भर तड़पने के बाद डेढ़ साल के मासूम ने हारी जिंदगी की जंग

Top News from newspapers

अमर उजाला: अमर उजाला के सोमवार के अंक में प्रमुखता के साथ प्रकाशित की गई एक खबर में बताया गया है कि देश में महंगा इलाज अब बच्चों की जान पर भारी पड़ रहा है. खबर के मुताबिक पिछले एक वर्ष से गाउचर (इसमें एंजाइना प्राकृतिक रूप से नहीं बनता) से ग्रस्त दिल्ली के करीब डेढ़ साल के अहसान ने शनिवार रात लोकनायक अस्पताल में दम तोड़ दिया. खबर में दिल्ली के ओखला निवासी मकसूद के हवाले से बताया गया है कि उनके बेटे को 4 माह की आयु में एम्स ने गाउचरग्रस्त बताया था. तब से एक वर्ष में करीब 36 लाख 70 हजार रुपये के इंजेक्शन लगने थे. उन्होंने दिल्ली सरकार से लेकर केंद्र तक हर दरवाजा खटखटाया, लेकिन कहीं से मदद नहीं मिली. आखिर उनका बच्चा बीमारी से जंग हार गया.

5/5

पुतला जलाने पहुंचे तो पुलिस ने लाठी की जगह दिखाई तख्ती

Top News from newspapers

नवभारत टाइम्स: नवभारत टाइम्स के सोमवार के अंक में पहले पन्ने पर प्रमुखता के साथ प्रकाशित की गई एक खबर में बताया गया है कि राजधानी में रविवार को अनोखा वाक्या हुआ, जब प्रदर्शनकारियों को पुतला जलाने से रोकने के लिए दिल्ली पुलिस खुद तख्तियां लेकर उनके सामने खड़ी हो गई, ताकि प्रदूषण से जूझ रही दिल्ली की समस्या और न बढ़े. खबर के मुताबिक पुलिस की इस गांधीगीरी को देखकर प्रदर्शनकारी भी नतमस्तक हो गए और पुतला जलाने का अपना इरादा बदल डाला. खबर में जानकारी दी गई है कि नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली के दुर्गापुरी चौक पर 'यूनाइटेड हिंदू फ्रंट' नाम के संगठन के कार्यकर्ता बाबर का पुतला दहन करना चाहते थे.