close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

नवरात्र 2018: जानें, मां दुर्गा क्यों करती हैं शेर की सवारी...

मां दुर्गा तेज, शक्ति और सामर्थ्‍य की प्रतीक हैं और उनकी सवारी शेर है. शेर प्रतीक है आक्रामकता और शौर्य का. 

ज़ी न्यूज़ डेस्क | Oct 09, 2018, 11:52 AM IST

मां की आराधना के नौ दिन यानि की शारदीय नवरात्र 10 अक्टूबर से शुरू हो रहे हैं. मां दुर्गा तेज, शक्ति और सामर्थ्‍य की प्रतीक हैं और उनकी सवारी शेर है. शेर प्रतीक है आक्रामकता और शौर्य का. यह तीनों विशेषताएं मां दुर्गा के आचरण में भी देखने को मिलती है. यह भी रोचक है कि शेर की दहाड़ को मां दुर्गा की ध्वनि ही माना जाता है जिसके आगे संसार की बाकी सभी आवाजें कमजोर लगती हैं. क्‍या आप जानते हैं कि क्‍यों शेर मां दुर्गा का वाहन है और क्‍या है इसके पीछे की कथा? 

1/5

मां दुर्गा क्यों करती हैं शेर की सवारी

Goddess Durga Navratri 2018

पौराणिक कथा के अनुसार एक बार कैलाश पर्वत में मां पार्वती और शिवजी साथ बैठे हुए थे और एक दूसरे से मजाक कर रहे थे. मजाक में ही शिवजी ने मां पार्वती को काली कह दिया. मां पार्वती को बहुत बुरा लगा और वह कैलाश पर्वत छोड़ कर वन में चली गई और वह घोर तपस्या में लीन हो गईं. इस बीच एक भूखा शेर मां पार्वती को खाने की इच्छा से वहां पहुंचा, ले‌किन वह वहीं चुपचाप बैठ गया.   

2/5

शेर की सवारी

goddess durga ride on lion

माता के प्रभाव के चलते वह शेर भी तपस्या कर रही मां के साथ वहीं सालों चुपचाप बैठा रहा. मां ने जिद कर ली थी कि जब तक वह गोरी नहीं हो जाएंगी तब तक वह यहीं तपस्या करेंगी. तब शिवजी वहां प्रकट हुए और देवी को गोरा होने का वरदान देकर चले गए.  

3/5

मां दुर्गा का वाहन है शेर

why goddess durga ride on lion

फिर माता ने नदी में स्नान किया और बाद में देखा की एक शेर वहां चुपचाप बैठा माता को ध्यान से देख रहा है. देवी पार्वती को जब यह पता चला कि यह शेर उनके साथ ही तपस्या में यहां सालों से बैठा रहा है तो माता ने प्रसन्न होकर उसे वरदान स्वरूप अपना वाहन बना लिया. तब से मां पार्वती का वाहन शेर हो गया.

4/5

मां दुर्गा की पूजा का त्योहार नवरात्र

goddess durga ride on lion Dharam

दूसरी कथा के अनुसार: इसी संबंध में दूसरी कथा है, जो स्‍कंद पुराण में उलेखित है. इसके अनुसार शिव के पुत्र कार्तिकेय ने देवासुर संग्राम में दानव तारक और उसके दो भाई सिंहमुखम और सुरापदमन को पराजित किया.

5/5

मां दुर्गा शेर की ही सवारी क्यों करती हैं

do you know why goddess durga ride on lion

सिंहमुखम ने अपनी पराजय पर कार्तिकेय से माफी मांगी जिससे प्रसन्‍न होकर उन्‍होंने उसे शेर बना दिया और मां दुर्गा का वाहन बनने का आशीर्वाद दिया.