Breaking News
  • Zee News की अपील: पैनिक ना हों लोग, राशन-सब्जियों की दुकानों पर न लगाएं भीड़, सोशल डिस्टेंसिंग का रखें पूरा ख्याल
  • यूपी के 15 जिलों के कुछ इलाके 15 अप्रैल तक पूरी तरह रहेंगे सील
  • बीजेडी नेता पिनाकी मिश्रा का दावा- 'पीएम ने Lockdown बढ़ाने के संकेत दिए'

डॉक्टरों ने पहले गुड़िया को चढ़ाया प्लास्टर उसके बाद इलाज के लिए तैयार हुई बच्ची

11 महीन की बच्ची बेड से गिर गई थी जिसके बाद बच्ची के पैर में फ्रैक्चर हो गया था और डॉक्टरों के सामने चुनौती थी न केवल प्लास्टर बांधने की थी बल्कि इसे दो हफ्तों से ज्यादा वक्त तक बांधे रखने की भी थी.

नई दिल्ली: लोकनायक अस्पताल के डॉक्टरों ने एक 11 महीने की छोटी सी बच्ची के मन से डर भगाने का एक अनोखा तरीका खोज निकाला, जिसके बाद बच्ची प्लास्टर चढ़वाने के लिए तैयार हो गई. 

1/3

बेड से गिर गई थी बच्ची

girl loved the doll very much

11 महीने की जिकरा और और उसका परिवार दिल्ली के दरियागंज इलाके में रहता है. 17 अगस्त को ज़िकरा अपने घर में बेड से नीचे गिर गई. उसके मातापिता जब उसे लेकर अस्पताल आए तो डॉक्टरों ने बताया कि उसके पैर में फ्रैक्चर है और उसे प्लास्टर चढ़वाना होगा. 11 महीने की ज़िकरा दर्द से तो कराह ही रही थी साथ ही ज़ोर ज़ोर से हाथ पैर भी पटक रही थी। ऐसे में डॉक्टर समझ नहीं पा रहे थे कि प्लास्टर आखिरकार चढ़ाएं तो कैसे. 

 

2/3

बच्ची को था गुड़िया से बहुत प्यार

Fracture in baby's leg

बच्चे की मां ने डॉक्टरों को बताया कि ज़िकरा को अपनी डॉल से बहुत प्यार है, जब वो डॉल को दूध पिलाने का नाटक करती है तो ज़िकरा भी चुपचाप दूध पी लेती है. इससे डॉक्टरों को एक तरकीब सूझी.

डॉक्टरों ने तुरंत उसकी डॉल को घर से मंगवाया और ज़िकरा के साथ साथ उसकी डॉल को भी बेड पर लिटा दिया और उसकी पैर पर भी पट्टी बांध दी. ज़िकरा कुछ देर तक डॉल को देखती रही और फिर खुद भी खुशी खुशी प्लास्टर चढ़वाने को तैयार हो गई. 

3/3

कोई दवाई देनी होती है तो डॉक्टर पहले गुड़िया को देते हैं और फिर बच्ची को

Doctors first plaster the doll

अब भी जब कोई दवाई देनी होती है तो डॉक्टर पहले गुड़िया को देते हैं और फिर ज़िकरा को. डॉक्टरों के इस अनोखे इलाज की बदौलत ज़िकरा ने अस्पताल में दो हफ्ते से भी ज़्यादा का वक्त खुशी खुशी गुज़ार लिया है और अब जल्दी ही उसे अस्पताल से छुट्टी भी  मिल जाएगी. उम्मीद है कि इस अस्पताल के डॉक्टरों की ये अनोखी तरकीब दूसरों के लिये भी प्रेरणा बनेगी.