Breaking News
  • महाराष्‍ट्र के स्‍कूल-कॉलेज में मुस्लिमों को 5 फीसद आरक्षण देने की तैयारी
  • दिल्ली: शाहीन बाग समेत 8 सड़कें खोलने की मांग वाली याचिका पर HC ने केंद्र और दिल्ली सरकार को जारी किया नोटिस
  • कांग्रेस नेता हार्दिक पटेल को सुप्रीम कोर्ट से अंतरिम राहत. पटेल की एक हप्ते तक नहीं होगी गिरफ्तारी
  • दिल्ली हिंसा: स्वरा भास्कर, अमानतुल्लाह खान और अन्य पर मामला दर्ज करने की मांग, HC ने पुलिस, राज्‍य सरकार को भेजा नोटिस
  • AAP पार्षद ताहिर हुसैन के घर पहुंची फोरेंसिक टीम

कश्मीर में निकाय चुनाव से पहले बड़े आतंकी हमले की आशंका, जारी हुआ अलर्ट

जी न्यूज की इस खास पेशकश में आप अपने शहरों की कुछ चुनिंदा और खास खबरें हिन्दी में बस एक क्लिक में पढ़ सकते हैं.

ज़ी न्यूज़ डेस्क | Oct 07, 2018, 15:01 PM IST

नई दिल्ली: अपने NRI पाठकों के लिए ZEE News Hindi ने एक नई शुरुआत की है. जी न्यूज की इस खास पेशकश में आप अपने शहरों की कुछ चुनिंदा और खास खबरें हिन्दी में बस एक क्लिक में पढ़ सकते हैं.

1/5

निकाय चुनाव से पहले घाटी में बड़े हमले की आशंका

Interesting News for NRI readers

श्रीनगर: दैनिक जागरण के चंडीगढ़ संस्करण में प्रकाशित एक खबर में बताया गया है कि अगले कुछ दिनों में आत्मघाती हमले की आशंका को देखते हुए कश्मीर में अलर्ट घोषित किया गया है. खबर में दावा किया गया है कि श्रीनगर में पांच आतंकी हमले को अंजाम देने के लिए दाखिल हुए हैं. खबर के मुताबिक आतंकी महत्वपूर्ण प्रतिष्ठान और किसी विशिष्ट व्यक्ति को निशाना बना सकते हैं. खबर में जानकारी दी गई है कि सुरक्षाबलों ने संवेदनशील इलाकों में आतंकियों व उनके ओवरग्राउंड वर्करों की धरपकड़ का अभियान छेड़ रखा है. बारामुला, बांडीपोर, खानसाहब, कुलगाम, हंदवाड़ा व कुपवाड़ा के भीतरी क्षेत्रों में नाके बढ़ा दिए हैं. वहीं सेना, अर्धसैनिकबलों और पुलिस ने अपने प्रतिष्ठानों में सुरक्षा प्रबंध कड़े कर दिए हैं.

2/5

राज्यपाल ने माफ की सजा, हाईकोर्ट ने फिर भेजा जेल

Interesting News for NRI readers

इलाहाबाद: दैनिक जागरण के इलाहाबाद संस्करण में प्रकाशित एक खबर में दावा किया गया है कि इलाहाबाद हाईकोर्ट ने चार लोगों की हत्या के आरोप में आजीवन कारावास की सजा भुगत रहे मार्कंडेय उर्फ अशोक शाही की समय पूर्व रिहाई के आदेश को रद्द कर दिया है. खबर के मुताबिक कोर्ट ने सीजेएम महाराजगंज को निर्देश दिया है कि वह शाही को तत्काल अभिरक्षा में लेकर बची सजा भुगतने के लिए जेल में भेज दें. खबर में जानकारी दी गई है कि राज्य सरकार ने 24 सितंबर, 2017 के राज्यपाल के आदेश से हत्या आरोपित को सात साल की सजा भुगतने के बाद ही रिहा कर दिया था, जिसे हाईकोर्ट में चुनौती दी गई थी.

3/5

दुनिया को लुभाने लगा काशी का 'काऊ विलेज'

Interesting News for NRI readers

वाराणसी: नवभारत टाइम्स के लखनऊ संस्करण के रविवार के अंक में पहले पन्ने पर प्रमुखता के साथ प्रकाशित की गई एक खबर में दावा किया गया है कि बीएचयू समेत देश के नामी विश्वविद्यालयों के मुठ्ठीभर छात्रों ने वह कर दिखाया है जो सरकारें नहीं कर सकीं. खबर के मुताबिक गाय का संरक्षण व उसकी महत्ता को बताने-समझाने और दिखाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में काऊ विलेज के सपने को साकार किया है. वह भी बिना किसी संस्था के आर्थिक सहयोग के. खबर में जानकारी दी गई है कि वाराणसी शहर से करीब 20 किलोमीटर दूर रामेश्वर गांव यूपी ही नहीं देश का पहला काऊ विलेज बना है. वरुणा नदी के किनारे हरे-भरे काऊ विलेज में प्रवेश करने से लेकर आखिरी छोर तक करीब दो किलोमीटर में सड़क से लगे घरों और मंदिर तक, जिधर भी नजर घूमेगी गायें और बछड़े ही दिखेंगे.

4/5

देश में छह स्थानों पर स्थापित होंगी परमाणु घड़ियां

Interesting News for NRI readers

नई दिल्ली: अमर उजाला के रविवार के अंक में पहले पन्ने पर प्रमुखता के साथ प्रकाशित एक खबर में इस बात का दावा किया गया है कि केंद्र सरकार ने देश की वित्तीय, बैंकिंग और दूरसंचार सेवाओं को सटीक समय मुहैया कराने के साथ साइबर सुरक्षा पुख्ता करने को परमाणु घड़ी लगाने का निर्णय लिया है. खबर में बताया गया है कि इसके लिए पूरे देश में छह घड़ियों को स्थापित किया जाएगा. जिसके बाद इनसे बैंकों, शेयर बाजार और दूरसंचार समेत अन्य क्षेत्रों को जोड़ा जाएगा. खबर में यह भी बताया गया है कि मौजूदा समय में अमेरिका, इंग्लैंड, जापान, सिंगापुर, ताइवान और चीन समेत अन्य देशों में यह घड़ियां प्रयोग की जा रही हैं.

5/5

पाक अधिकारी हॉटलाइन पर नहीं आते

Interesting News for NRI readers

नई दिल्ली: हिन्दुस्तान अखबार के रविवार के अंक में प्रकाशित एक खबर में दावा किया गया है कि भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ने पर तुरंत संपर्क के लिए स्थापित हॉटलाइन संचार सेवा अपने मकसद में सफल नहीं हो पा रही है. खबर के मुताबिक पिछले दिनों बीएसएफ जवान की हत्या के बाद सीमा सुरक्षा बल के कई प्रयासों के बावजूद पाक समकक्ष हॉटलाइन पर नहीं आए. खबर में सूत्रों के हवाले से बताया गया है कि वर्ष 2015 में पाक रेंजर्स की ओर से बार-बार संघर्ष विराम उल्लंघन के बाद सुरक्षा बलों की बातचीत के लिए गुजरात से जम्मू-सीमा तक एक दर्जन से ज्यादा हॉटलाइन स्थापित की गईं. इसके अलावा दोनों देशों की सेनाओं में डीजीएमओ और शीर्ष राजनीतिक स्तर पर संपर्क के लिए हॉटलाइन सेवा है. लेकिन यह बहुत कारगर नहीं है.