close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ग्वालियर में बनाया जाता है देश भर के लिए तिरंगा, कई मंत्रालयों में भी फहराए जाते हैं झंडे

तिरंगों को ग्वालियर में स्थित देश का तीसरा और प्रदेश का इकलौता मध्य भारत खाली खादी संघ बना रहा है. खास बात यह है जब भी देश के किसी कोने में तिरंगा फहराया जाता है तब ग्वालियर का जिक्र सभी की जुबान पर होता है.

शैलेंद्र भदौरिया | Aug 14, 2019, 13:02 PM IST

राष्ट्रीय ध्वज किसी भी देश की प्रमुख पहचान होती है. देश भर के शासकीय और गैर शासकीय कार्यालयों के साथ कई मंत्रालयों पर लहराने वाला तिरंगे झंडे ग्वालियर शहर में तैयार होते हैं. 

 

1/6

पूरे देश में ग्वालियर का नाम रोशन

Flag stitched in Gwalior and being hosted at many cities

यूं तो भारत की आजादी में ग्वालियर का प्रमुख योगदान रहा है. आजादी के इतने साल बीत जाने के बाद भी ग्वालियर आजाद हिंदुस्तान की शान कहे जाने वाले तिरंगे का निर्माण करके अभी भी पूरे देश में अपना नाम रोशन किए हुए है. राष्ट्रीय ध्वज किसी भी देश की प्रमुख पहचान होती है. देश भर के शासकीय और गैर शासकीय कार्यालयों के साथ कई मंत्रालयों पर लहराने वाला तिरंगे झंडे ग्वालियर शहर में तैयार होते हैं. 

2/6

जमीनी प्रक्रिया

Flag stitched in Gwalior and being hosted at many cities

तिरंगों को ग्वालियर में स्थित देश का तीसरा और प्रदेश का इकलौता मध्य भारत खाली खादी संघ बना रहा है. खास बात यह है जब भी देश के किसी कोने में तिरंगा फहराया जाता है तब ग्वालियर का जिक्र सभी की जुबान पर होता है. केंद्र में जमीनी प्रक्रिया से लेकर तिरंगे में डोरी लगाने तक का काम किया जाता है.

3/6

लगता है पांच से छ दिन का समय

Flag stitched in Gwalior and being hosted at many cities

आईएसआई तिरंगे देश में हुगली, मुंबई और ग्वालियर के केंद्र में ही बनाए जाते हैं. खादी केंद्र की मैनेजर का कहना है कि किसी भी आकार के तिरंगे को तैयार करने में उनकी टीम को 5 से 6 दिन का समय लगता है. इन दिनों यूनिट में 15 अगस्त के लिए तिरंगे तैयार किए जा रहे हैं. यहां बनने वाले तिरंगे मध्य प्रदेश के अलावा बिहार, राजस्थान उत्तर प्रदेश, छत्तीसगढ़, गुजरात सहित एक दर्जन से अधिक राज्यों में पहुंचाए जाते हैं, हमारे लिए गौरव की बात तो यह है कि देश के अलग-अलग शहरों में स्थित आर्मी की सभी इमारतों पर ग्वालियर में बने तिरंगे की शान बढ़ाते हैं.

4/6

धागा भी होता है केंद्र में तैयार

Flag stitched in Gwalior and being hosted at many cities

साथ ही उनका कहना है कि यहां जो तिरंगे तैयार किए जाते हैं उसका धागा भी हाथों से इसी केंद्र में तैयार किया जाता है. वर्तमान में यहां तीन कैटेगरी में तिरंगे तैयार किए जा रहे हैं. मैनेजर के अनुसार अभी 2 बाय 3 से 6 बाई 4 तक के झंडे बनाए जा रहे हैं. इस केंद्र में एक साल में लगभग 10 से 12 हजार खादी के झंडे तैयार किए जाते हैं. 

5/6

1925 में हुए केंद्र की स्थापना

Flag stitched in Gwalior and being hosted at many cities

खादी केंद्र के पदाधिकारी बताते हैं कि इस केंद्र की स्थापना साल 1925 में चरखा संघ के तौर पर हुई थी. साल 1956 में मध्य भारत खादी संघ को आयोग का दर्जा मिला. इस संस्था से मध्य भारत के कई प्रमुख राजनितिक हस्तियां भी जुड़ी रही हैं.

6/6

सरकार की गाइडलाइन के अनुसार होती है तैयार

Flag stitched in Gwalior and being hosted at many cities

खादी केंद्र के पदाधिकारी का मानना है कि किसी भी खादी संघ के लिए तिरंगे तैयार करना बड़ी मुश्किल का काम होता है क्योंकि सरकार की अपनी गाइडलाइन है उसी के अनुसार तिरंगे तैयार करने होते हैं. यही कारण है कि जब यहां तिरंगे तैयार किए जाते हैं तो उनकी कई बार बारीकी से मॉनिटरिंग करनी पड़ती है.