4th क्‍लास कर्मचारी का सपना था हेलीकॉप्टर में घूमना, ताउम्र पैसे बचाए, रिटायरमेंट के दिन उड़न खटोले में पहुंचा गांव

रिटायरमेंट के दिन बचत के पैसों से हेलीकॉप्टर का इंतजाम कर ठाठ से अपने गांव पहुंचा. उन्हें देखने के लिए लोगों की भारी भीड़ जुट गई. गांव पहुंचने पर ग्रामीणों ने उनका जोरदार स्वागत किया.

मनोज कुमार | Aug 01, 2019, 13:02 PM IST

कहते हैं सपने देखने की न कोई उम्र होती है और न ही कोई सीमा. फरीदाबाद के रहने वाले सरकारी स्कूल के एक चपरासी ने भी सपना देखा था कि वह हेलीकॉप्टर की सवारी करे. यह सपना उन्होंने पूरा भी किया. रिटायरमेंट के दिन बचत के पैसों से हेलीकॉप्टर का इंतजाम कर ठाठ से अपने गांव पहुंचा. उन्हें देखने के लिए लोगों की भारी भीड़ जुट गई. गांव पहुंचने पर ग्रामीणों ने उनका जोरदार स्वागत किया.

 

1/5

हेलीकॉप्टर में घूमने का था सपना

Dream to fly in Helicopter

फरीदाबाद के रहने वाले सरकारी स्कूल के एक चपरासी ने भी सपना देखा था कि वह हेलीकॉप्टर की सवारी करे. यह सपना उन्होंने पूरा भी किया. रिटायरमेंट के दिन बचत के पैसों से हेलीकॉप्टर का इंतजाम कर ठाठ से अपने गांव पहुंचा. उन्हें देखने के लिए लोगों की भारी भीड़ जुट गई. गांव पहुंचने पर ग्रामीणों ने उनका जोरदार स्वागत किया.

 

2/5

सपना पूरा करने के लिए खर्च किए सवा तीन लाख

spent more than three lakh

कूड़े राम का सपना था कि वह एक दिन हेलीकॉप्टर पर जरूर बैठे. इसी सपने को साकार करते हुए खुद हेलीकॉप्टर की सवारी तो की है, साथ ही साथ अपने पूरे परिवार को भी हेलीकॉप्टर में घुमाया. अपने इस सपने को पूरा करने के लिए उन्होंने लगभग सवा तीन लाख रुपया खर्च किया.

3/5

गांव के ऊपर हेलीकॉप्टर से लगाए चक्कर

forth grade employee in helicopter

सदपुरा गांव के रहने वाले कूड़ेराम की इच्छा थी कि जब वह नौकरी से रिटायर हो तो अपने घर हेलीकॉप्टर से पहुंचे. मंगलवार को जब वह रिटायर हुए तो चॉपर में बैठकर अपने घर पहुंचे. इस दौरान उन्होंने हवा में गांव के चक्कर भी लगाए.

4/5

1979 में मिली थी कूड़ेराम को नौकरी

kuderam was a government employee

कूड़ेराम को 1979 में हरियाणा शिक्षा विभाग में चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी की नौकरी मिली. उनकी पहली पोस्टिंग नीमका गांव स्थित सरकारी स्कूल में हुई. तब से वह इसी स्कूल में कार्यरत थे. मंगलवार को 60 साल की उम्र में उनकी रिटायरमेंट हो गई. 

5/5

परिवार के सभी सदस्यों ने की हेलीकॉप्टर की सवारी

family member also enjoy helicopter ride

कूड़ेराम के परिवार में पत्नी रामवती के अलावा तीन बेटे और एक बेटी है. चारों बच्चे शादीशुदा हैं. अपनी इच्छा को पूरा करने के लिए नीमका से सदपुरा गांव तक के लिए साढ़े तीन लाख रुपये में हेलीकॉप्टर बुक कराया. दोनों गांव की दूरी महज दो किलोमीटर है. परिवार के लोगों ने भी बारी-बारी से हेलीकॉप्टर की सवारी का आनंद लिया.