close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मानवता शर्मसार: ICU में भर्ती किशोरी के आंख पर पट्टी बांध किया गया सामूहिक दुष्कर्म

यहां हम आपको एक-एक कर देश के सभी प्रमुख समाचार पत्रों की बड़ी खबर से रू-ब-रू करवाएंगे. 

ज़ी न्यूज़ डेस्क | Nov 04, 2018, 10:09 AM IST

नई दिल्ली: यहां हम आपको एक-एक कर देश के सभी प्रमुख समाचार पत्रों की बड़ी खबर से रू-ब-रू करवाएंगे. रविवार के अखबारों की बात करें तो सभी अखबारों ने राम मंदिर को लेकर दिल्ली में जुटे संतों की खबर को प्रमुखता के साथ प्रकाशित किया है.

1/5

अस्पताल के आइसीयू में सामूहिक दुष्कर्म

Top News from Newspapers

दैनिक जागरण: दैनिक जागरण के रविवार के अंक में पहले पन्ने पर प्रकाशित एक खबर में दावा किया गया है कि यूपी के बरेली जिले में बदायूं रोड स्थित एक निजी अस्पताल के आइसीयू में भर्ती किशोरी के साथ अस्पताल के कर्मचारियों द्वारा ही सामूहिक दुष्कर्म किए जाने का सनसनीखेज मामला सामने आया है. खबर के मुताबिक घटना की जानकारी पर पहुंची पुलिस पूछताछ कर देर रात तक अस्पताल के भीतर की सीसीटीवी फुटेज खंगालती रही. खबर में यह जानकारी भी दी गई है कि शनिवार सुबह सीओ ने किशोरी को डिस्चार्ज करा कर मेडिकल के लिए जिला अस्पताल भेजा है. मामले में पुलिस ने तीन लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है. खबर में यह घटना मंगलवार की बताई गई है.

2/5

अस्पतालों में गैर जरूरी टेस्ट रोकेगा एप

Top News from Newspapers

हिन्दुस्तान: हिन्दुस्तान अखबार के रविवार के अंक में पहले पन्ने पर प्रकाशित एक खबर में बताया गया है कि मोबाइल एप से अब पता चल जाएगा कि किस बीमारी के लिए कौन सा लैब टेस्ट या स्कैन कराना जरूरी है. खबर के मुताबिक इससे अस्पतालों की मनमानी रुकेगी और गैर जरूरी टेस्ट नहीं कराना पड़ेगा. खबर में दावा किया गया है कि नीति आयोग इस एप के लिए सभी बीमारियों की सूची बना रहा है. सूची में इलाज का रोडमैप होगा इसके साथ ही उस बीमारी से जुड़े किस तरह के मेडिकल टेस्ट कराए जाएं, इससे जुड़ी पूरी जानकारी होगी. खबर में जानकारी दी गई है कि मोबाइल एप से कोई भी यह जान सकेगा कि कहीं उसकी बीमारी से जुड़े गैर जरूरी टेस्ट तो नहीं किए जा रहे हैं.

3/5

2 लाख नौकरियों से चुनावी दांव

Top News from Newspapers

नवभारत टाइम्स: नवभारत टाइम्स के रविवार के अंक में पहले पन्ने पर प्रमुखता के साथ प्रकाशित एक खबर में दावा किया गया है कि नौकरियों में कमी के मुद्दे पर विपक्ष के निशाने पर आई मोदी सरकार ने अगले तीन-चार महीने में दो लाख सरकारी नौकरियों का रास्ता साफ करने की हरी झंडी दे दी है. खबर के मुताबिक सरकार की योजना स्वरोजगार योजनाओं को भी बड़े पैमाने पर प्रोत्साहित करने की है. उसकी कोशिश है कि इतनी बड़ी संख्या में नौकरियों से वह न सिर्फ आलोचनाओं का जवाब दे बल्कि युवाओं के बीच नए दावे के साथ आम चुनाव में जाए. खबर में यह जानकारी भी दी गई है कि राहुल गांधी की अगुआई में कांग्रेस ने संकेत दिया है कि 2019 के आम चुनाव में वह बेरोजगारी के मुद्दे पर ही मोदी सरकार से मुकाबला करेगी.

4/5

दिल्ली में पटाखे चलाने पर पहला मामला दर्ज

Top News from Newspapers

अमर उजाला: अमर उजाला के रविवार के अंक में पहले पन्ने पर प्रकाशित एक खबर में दावा किया गया है कि दिल्ली-एनसीआर में पटाखे चलाने को लेकर सुप्रीम कोर्ट की सख्ती दिखाई देने लगी है. खबर के मुताबिक दिल्ली के मयूर विहार इलाके में पड़ोसी की शिकायत पर गाजीपुर थाना पुलिस ने नॉन ग्रीन पटाखे चला रहे पड़ोसी के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है. खबर में बताया गया है कि मूलरूप से नालंदा-बिहार के रहने वाले एक परिवार के बच्चे फ्लैट के दरवाजे पर पटाखे चला रहे थे. जिस पर पड़ोसी द्वारा उन्हें पटाखे जलाने से मना किया गया. लेकिन बच्चे लगातार पटाखे जलाते रहे. परेशान होकर पड़ोसी ने 100 नंबर पर कॉल कर दी. देर रात पहुंची पुलिस ने आईपीसी की धारा-188 (सरकारी आदेश का उल्लंघन) का मामला दर्ज कर लिया.

5/5

सरकार का विरोध करने वाले 3 सदस्यों की छुट्टी

Top News from Newspapers

राजस्थान पत्रिका: राजस्थान पत्रिका के रविवार के अंक में पहले पन्ने पर प्रकाशित एक खबर में दावा किया गया है कि केंद्र सरकार ने नेहरू मेमोरियल म्यूजियम और लाइब्रेरी (एनएमएमएल) सोसायटी से तीन लोगों को बाहर का रास्ता दिखा दिया. खबर के मुताबिक बाहर किए गए लोगों में अर्थशास्त्री नितिन देसाई, प्रोफेसर उदयन मिश्रा और पूर्व राजनयिक बीपी सिंह शामिल हैं. खबर में जानकारी दी गई है कि ये लोग केंद्र की मोदी सरकार के तौर-तरीकों की आलोचना करते रहे हैं. खबर में यह भी बताया गया है कि वहीं दूसरी ओर सरकार ने सोसायटी के पूर्व सदस्य भानु मेहता का भी इस्तीफा स्वीकार कर लिया है. खबर के मुताबिक मेहता ने 'राजनीतिक दबाव' के चलते इस्तीफा देने की बात कही थी.