फेयरनेस क्रीम का ऐड करने वालीं यामी गौतम अब इस बात से हैं बेहद खुश!

कई सालों से एक मशहूर फेयरनेस क्रीम ब्रांड के साथ काफी सालों से जुड़ीं बॉलीवुड अभिनेत्री यामी गौतम कहना है कि उन्हें इस बात की खुशी है कि वक्त के साथ-साथ खूबसूरती की परिभाषा बदल गई है...

ज़ी न्यूज़ डेस्क | Oct 31, 2019, 08:14 AM IST

नई दिल्ली: कई सालों से एक मशहूर फेयरनेस क्रीम ब्रांड के साथ काफी सालों से जुड़ीं बॉलीवुड अभिनेत्री यामी गौतम कहना है कि उन्हें इस बात की खुशी है कि वक्त के साथ-साथ खूबसूरती की परिभाषा बदल गई है और अब गोरा रंग खूबसूरती का मापदंड नहीं रहा है. यामी की आगामी फिल्म 'बाला' भी खूबसूरती को संबोधित करती है, फिल्म वक्त से पहले गंजे हुए एक युवक और एक सांवली रंग की लड़की के इर्द-गिर्द घूमती है. फिल्म के इन दोनों किरदारों को आयुष्मान खुराना और भूमि पेडनेकर ने निभाया है.

1/6

एक सेलेब्रिटी के तौर पर

Yami Gautam

भारत में सांवली या गाढ़े रंग की महिलाओं को जिस तरह से निरंतर आलोचनाओं का सामना करना पड़ता है, इसे वह किस तरह से देखती हैं? क्या एक सेलेब्रिटी के तौर पर उन्होंने इस पर कोई स्टैंड लिया है?

 

2/6

यामी ने कहा

Yami Gautam

इस तथ्य को ध्यान में रखते हुए कि यामी एक मशहूर फेयरनेस क्रीम का चेहरा है जो रंगवाद को बढ़ावा देती है. 

3/6

यामी ने इसके जवाब में कहा

Yami Gautam

यामी ने इसके जवाब में कहा, "सोशल मीडिया और फिल्में उन्हीं चीजों को उजागर करती है जो सदियों से हमारे चारों ओर विद्यमान है. उस वक्त इन एड फिल्मों को बनाने की वजह भी यह थी. उस वक्त खूबसूरती की परिभाषा यह थी कि एक अच्छा दूल्हा और एक अच्छी नौकरी के लिए एक लड़की का गोरा होना जरूरी है. मुझे खुशी है कि वक्त बदल गया है और खूबसूरती की परिभाषा पर बातचीत शुरू हो गई है."

4/6

असामान्य विषय

Yami Gautam

अमर कौशिक द्वारा निर्देशित और दिनेश विजान द्वारा निर्मित 'बाला' न केवल राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता अभिनेता आयुष्मान खुराना के लिए बल्कि एक असामान्य विषय के कारण भी चर्चा में है.

5/6

यामी को यकीन है

Yami Gautam

यामी को यकीन है कि फिल्म इस बड़े विषय पर बदलाव लाने जा रही है.

6/6

आत्मविश्वास को प्रभावित करती है

Yami Gautam

यामी ने कहा, "फिल्म एक महत्वपूर्ण माध्यम है और 'बाला' हमें उस महत्वपूर्ण विषय पर बात करने देती है जो सिर्फ समय से पहले गंजेपन, गहरी रंगत या इस तरह की चीजों तक सीमित नहीं है, जो किसी इंसान के आत्मविश्वास को प्रभावित करती है. यह फिल्म कहती है कि एक इंसान जैसा है उसे उसी रूप में खुश होना चाहिए. इसका तात्पर्य आत्म-स्वीकृति और आत्म-प्रेम से है." बता दें कि 'बाला' 7 नवंबर को रिलीज हो रही है. (इनपुट आईएएनएस से भी)