close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

खुशखबरी: दो लाख भारतीय इंजीनियरों को जापान देगा नौकरी

जी न्यूज की इस खास पेशकश में आप अपने शहरों की कुछ चुनिंदा और खास खबरें हिन्दी में बस एक क्लिक में पढ़ सकते हैं.

Mar 10, 2018, 10:02 AM IST

नई दिल्ली: अपने NRI पाठकों के लिए ZEE News Hindi ने एक नई शुरुआत की है. जी न्यूज की इस खास पेशकश में आप अपने शहरों की कुछ चुनिंदा और खास खबरें हिन्दी में बस एक क्लिक में पढ़ सकते हैं.

1/5

Interesting News for NRI readers

जयपुर: लाल और नीली बत्ती का कॉन्सेप्ट खत्म होने के बाद प्रदेश में एसपी-कलेक्टर सहित प्रशासन और कानून व्यवस्था संभाल रहे 700 अधिकारियों को मल्टी कलर्ड लाइट दी जाएगी. दैनिक भास्कर ने इस खबर को अपने जयपुर संस्करण में पहले पन्ने पर प्रकाशित किया है. खबर में बताया गया है कि केंद्र सरकार ने वीआईपी कल्चर को खत्म करने के लिए लाल-नीली बत्ती का कॉन्सेप्ट खत्म किया था. खबर के मुताबिक इस संबंध में केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्रालय का नोटिफिकेशन जारी होने के बाद प्रदेश में किसी भी मंत्री या अधिकारियों को बत्ती लगाने की अनुमति नहीं दी गई थी. लेकिन, कुछ दिन पहले सीएस की अध्यक्षता में हुई बैठक में प्रदेश के 700 अधिकारियों को मल्टी कलर्ड लाइट देने का निर्णय लिया गया है.

2/5

Interesting News for NRI readers

ओटावा: कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो के साथ भारत आए खालिस्तान समर्थक जसपाल अटवाल ने भारत और कनाडा दोनों देशों से माफी मांगी है. दैनिक भास्कर ने इस खबर को अपने चंडीगढ़ संस्करण में पहले पन्ने पर प्रकाशित किया है. खबर के मुताबिक ओटावा में मीडिया के सामने आए अटवाल ने कहा, "भारत में पीएम ट्रूडो के डिनर में मेरे शामिल होने से कनाडा और भारत को जो भी परेशानी हुई, उसके लिए मैं दोनों देशों से माफी चाहता हूं. अब मैं खालिस्तान समर्थक नहीं हूं. मैं सिखों के लिए आजाद देश की भी वकालत नहीं करता." खबर में इस बात का भी दावा किया गया है कि भारत के विदेश मंत्रालय ने कहा है कि अटवाल वैध वीजा पर यहां आया था.

3/5

Interesting News for NRI readers

अमृतसर: सूफी गायकी की बेजोड़ जोड़ी 'वडाली ब्रदर्स' छोटे भाई प्यारेलाल वडाली के निधन से टूट गई. दैनिक भास्कर ने इस दुखद खबर को अपने चंडीगढ़ संस्करण में पहले पन्ने पर प्रमुखता के साथ प्रकाशित किया है. खबर के मुताबिक 1971 की जंग के बाद वडाली ब्रदर्स ने पहली बार मजीठा की एक मजार पर गीत गाया था- 'मिट्टी दियां मूरतां ने दिल साड्डा मोह लेया, उमरां दा कीता होया पलां विच खो लेया...'. खबर में दावा किया गया है कि ये गीत पूरनचंद ने गाया था और प्यारेलाल ने घुंघरू बांधकर डांस किया था. वहां उन्हें इतने पैसे मिले कि झोली में भरकर लाने पड़े. खबर में बताया गया है कि शुक्रवार को बड़े उस्ताद पूरनचंद को अपना ये पहला गीत फिर याद आ गया, जब छोटे भाई प्यारेलाल दुनिया से रुख्सत हुए. खबर के मुताबिक किडनी और शुगर के मरीज 69 साल के प्यारेलाल कई दिनों से अस्पताल में भर्ती थे. मौत की वजह हार्ट अटैक बताई गई है.

4/5

Interesting News for NRI readers

वाशिंगटन: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने आखिरकार अमेरिका में स्टील पर 25 फीसद और एल्यूमीनियम पर 10 फीसद आयात शुल्क लगाने वाले कानून पर हस्ताक्षर कर ग्लोबल ट्रेड वार की औपचारिक शुरुआत कर दी है. दैनिक जागरण ने इस खबर को अपने शनिवाक के अंक में प्रमुखता से प्रकाशित किया है. खबर में दावा किया गया है कि कनाडा और मैक्सिको को नए कानून के दायरे से बाहर रखा गया है. खबर के मुताबिक अमेरिका ने भारत और चीन समेत अन्य देशों को यह भी धमकी दी है कि अगर किसी ने अमेरिकी कदम का जवाब देने की जुर्रत की, तो उस पर 'वास्तविक कर' यानी उस देश में अमेरिकी स्टील उत्पादों पर लगने वाले आयात शुल्क के बराबर शुल्क लगाया जाएगा. खबर में आगे बताया गया है कि ट्रंप ने कहा है कि घरेलू उद्योग जगत पिछले कई वर्षो से 'अनुचित' कारोबारी गतिविधियों का सामना कर रहा है और उसे बचाने के लिए यह कदम जरूरी है. उन्होंने कहा, "अगर स्टील नहीं होगा, तो देश नहीं बचेगा. वर्षों से हमारे उद्योगों को निशाना बनाया जाता रहा है. हमारे यहां मिलें बंद हो रही हैं और कामगार बेरोजगार हो रहे हैं. हमें अपने उद्योगों को बचाना होगा."

5/5

Interesting News for NRI readers

हैदराबाद: हिन्दुस्तान अखबार के शनिवार के अंक में पहले पन्ने पर छपी एक खबर के मुताबिक जापान दो लाख भारतीय आईटी पेशेवरों को नौकरी देगा. खबर में बताया गया है कि जापान के विदेश व्यापार संगठन (जेईटीआरओ) के उपाध्यक्ष शिगेकी मेडा ने कहा कि देश में अभी 9.20 लाख आईटी पेशेवर हैं और भारत से दो लाख आईटी पेशेवरों की तुरंत जरूरत है. खबर में शिगेकी मेडा के हवाले से दावा किया गया है कि जापान की बुजुर्ग होती जनसंख्या और जन्म दर गिरने की वजह से आईटी पेशेवरों की काफी कमी हो गई है. भारत अपने प्रतिभावान लोगों से इस कमी को दूर कर सकता है. खबर के मुताबिक मेडा ने दावा किया है कि 2030 तक हम आठ लाख पेशेवरों को नौकरी देंगे. मेडो ने कहा कि जापान की सरकार उच्च कुशल पेशेवरों के लिए खास तरह का ग्रीन कार्ड जारी करेगी. इससे एक साल में स्थायी निवासी मिल सकेगा. खबर में यह भी बताया गया है कि जापान ने इसी साल जनवरी से भारतीय लोगों के लिए वीजा नियमों को आसान कर दिया है.