ग्वाटेमाला ज्वालामुखी विस्फोट से प्रभावित हुए 17 लाख लोग, सैकड़ों लोगों की मौत

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फॉरेंसिक साइंसेस (आईएनएसीआईएफ) ने स्थानीय मीडिया से कहा बरामद सात शवों को एसकुइनटला डिपार्टमेंट के हुनाफू गांव के मुर्दाघर और बाकी तीन को ग्वाटेमाला सिटी के मुर्दाघर भेज दिया गया है.

Jun 08, 2018, 15:07 PM IST

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फॉरेंसिक साइंसेस (आईएनएसीआईएफ) ने स्थानीय मीडिया से कहा बरामद सात शवों को एसकुइनटला डिपार्टमेंट के हुनाफू गांव के मुर्दाघर और बाकी तीन को ग्वाटेमाला सिटी के मुर्दाघर भेज दिया गया है.

1/5

ग्वाटेमाला के फ्यूगो ज्वालामुखी में तीन जून को हुए विस्फोट के बाद मृतकों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है. शुक्रवार (8 जून) को मृतकों की संख्या का आकंड़ा 109 पार कर गया है. नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फॉरेंसिक साइंसेस (आईएनएसीआईएफ) ने स्थानीय मीडिया से कहा बरामद सात शवों को एसकुइनटला डिपार्टमेंट के हुनाफू गांव के मुर्दाघर और बाकी तीन को ग्वाटेमाला सिटी के मुर्दाघर भेज दिया गया है.

2/5

ग्वाटेमाला के आपदा प्रबंधन एजेंसी के प्रवक्ता डेविड डी लियोन ने गुरुवार (7 जून) सुबह घोषणा कर कहा था कि हालातों को काबू में करने की कोशिश की जा रही है, लेकिन देश में मौसम खराब होने के कारण राहत कार्यों में मुश्किल आ रही है. 

 

3/5

इससे पहले गुरुवार को आईएनएसीआईएफ ने दो और लोगों की मौत की पुष्टि की थी. आईएनएसीआईएफ ने कहा था कि इसमें एक आठ साल का लड़का है जबकि एक महिला है, जिसकी उम्र का पता नहीं चल पाया है. अब तक केवल 28 लोगों की पहचान हो पाई है.

4/5

राहत एंजेसियों के आंकड़ों के अनुसार, ज्वालामुखी में विस्फोट और निरंतर ज्वालामुखीय गतिविधि के कारण अब तक 17 लाख लोग प्रभावित हुए हैं. 12,407 लोगों को बचाया गया है, जबकि 7,393 को अस्पतालों में भेजा गया है. (फोटो साभार : IANS)

5/5

राष्ट्रीय आपदा एजेंसी कोनरेड का कहना है कि खराब मौसम और ज्वालामुखी उद्गार के बाद निकले मलबे के अभी भी गर्म होने के कारण राहत कर्मियों के लिए वहां काम करना खतरनाक है. एजेंसी इस बात पर भी जोर दे रही है कि ज्वालामुखी में विस्फोट को 72 घंटे गुजर चुके हैं और अब मलबे, राख और गर्म पत्थरों के बीच फंसे लोगों के जिंदा होने की संभावना अति क्षीण है. राष्ट्रीय पुलिस के प्रवक्ता पाब्लो कास्टिलो का कहना है, '7 जून को बहुत तेज बारिश हुई.... मिट्टी कमजोर पड़ गई है.' (फोटो साभार : Reuters)