close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

देश की सबसे बड़ी विमान निर्माता कंपनी का हाल, 25 फीसदी कर्मचारी बैठे हैं बेरोजगार

यहां हम आपको एक-एक कर देश के सभी प्रमुख समाचार पत्रों की बड़ी खबर से रू-ब-रू करवाएंगे.

ज़ी न्यूज़ डेस्क | Oct 21, 2018, 11:01 AM IST

नई दिल्ली: यहां हम आपको एक-एक कर देश के सभी प्रमुख समाचार पत्रों की बड़ी खबर से रू-ब-रू करवाएंगे. रविवार के अखबारों की बात करें तो सभी अखबारों ने दशहरे के दिन अमृतसर में हुए भीषण रेल हादसे की खबर को प्रमुखता के साथ प्रकाशित किया है.

1/5

तेजस और सुखोई के बाद एचएएल के पास काम नहीं

Top News from Hindi Newspapers

राजस्थान पत्रिका: राजस्थान पत्रिका के रविवार के अंक में पहले पन्ने पर प्रमुखता के साथ प्रकाशित एक खबर में बताया गया है कि सार्वजनिक क्षेत्र की विमान निर्माता कंपनी हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) के सामने अब रोजगार का संकट खड़ा हो गया है. खबर में दावा किया गया है कि वर्ष 1990 के बाद पहली बार कंपनी इतने गंभीर संकट में घिर गई है. खबर के मुताबिक ऑर्डर कम होने के कारण हालत यह हो गई है कि विमान डिविजन में लगभग 25 फीसदी कर्मचारी बेरोजगार बैठे हैं. खबर में जानकारी दी गई है कि कंपनी के पास फिलहाल मौजूद 61 जगुआर और 51 मिराज-2000 विमानों के उन्नयन का काम पूरा होने को है. खबर के मुताबिक विमान बनाने के सिर्फ दो ऑर्डर रह गए हैं.

2/5

...तो एच1-बी वीजा के लिए आवेदन नहीं कर पाएंगे विदेशी

Top News from Hindi Newspapers

अमर उजाला: अमर उजाला के रविवार के अंक में पहले पन्ने पर प्रकाशित एक खबर में बताया गया है कि ट्रंप प्रशासन जनवरी, 2019 से एच10बी वीजा नीति में बदलाव का प्रस्ताव लाएगा. खबर के मुताबिक इसका सबसे ज्यादा असर भारतीय आईटी पेशेवरों पर पड़ेगा. खबर में आगे यह भी बताया गया है कि इस बीच यूएस सिटीजनशिप एंड इमिग्रेशन सर्विसेस (यूएससीआईएस) ने एक और प्रस्ताव दिया है. खबर में दावा किया गया है कि अगर यह मंजूर हो जाता है तो विदेशी पेशवेर एच1-बी वीजा के लिए आवेदन ही नहीं कर पाएंगे. खबर में जानकारी दी गई है कि ट्रंप प्रशासन ने हाल में एच1-बी वीजा का दुरुपयोग रोकने के लिए पेशे में सर्वश्रेष्ठ लोगों को ही यह सुविधा देने का प्रस्ताव रखा था.

3/5

दिल्ली-एनसीआर की हवा और जहरीली

Top News from Hindi Newspapers

हिन्दुस्तान: हिन्दुस्तान अखबार के रविवार के अंक में पहले पन्ने पर प्रकाशित एक खबर में दावा किया गया है कि विजयादशमी के बाद दिल्ली-एनसीआर की हवा और जहरीली हो गई है. धुंध की मोटी चादर ने चारों ओर से घेर लिया है और कई इलाकों में हवा की गुणवत्ता 'बेहद खराब' श्रेणी में पहुंच गई है. खबर में केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के आंकड़ों के हवाले से बताया गया है कि राजधानी का वायु गुणवत्ता सूचकांक शनिवार को 324 दर्ज किया गया. बोर्ड के अनुसार दशहरे पर आतिशबाजी की वजह से दिल्ली के 33 इलाकों में वायु गुणवत्ता बेहद खराब पाई गई जबकि दो इलाकों में वायु गुणवत्ता का स्तर गंभीर पाया गया. खबर के मुताबिक आनंद विहार, डीटीयू, मुंडका, नरेला, नेहरू विहार और रोहिणी में सबसे ज्यादा प्रदूषण दर्ज किया गया.

4/5

लूट में शामिल एक बदमाश का उसी बैंक में था अकाउंट

Top News from Hindi Newspapers

नवभारत टाइम्स: नवभारत टाइम्स के रविवार के अंक में प्रकाशित एक खबर में इस बात का दावा किया गया है कि छावला बैंक डकैती और कैशियर हत्याकांड को अंजाम देने वाले बदमाशों में से एक का इसी बैंक में अकाउंट है. जिस वजह से उसे बैंक के अंदर और बाहर सुरक्षा के बारे में ठीक तरीके से जानकारी थी. खबर में जानकारी दी गई है कि बदमाशों को यह भी पता था कि पुलिस की मुस्तैदी कितनी होती है और बैंक के सिक्यॉरिटी गार्ड को कैसे काबू में किया जा सकता है. खबर के मुताबिक बैंक की सिक्यॉरिटी ऑडिट में भी कई कमियां मिली हैं. बैंक के अंदर अलार्म-सायरन सिस्टम भी नहीं लगा था. खबर में आगे बताया गया है कि 12 अक्टूबर की घटना में अब तक तीन आरोपी गिरफ्तार किए जा चुके हैं.

5/5

फरीदाबाद में तीन बहनों ने भाई संग की आत्महत्या

Top News from Hindi Newspapers

दैनिक जागरण: दैनिक जागरण के रविवार के अंक में पहले पन्ने पर प्रकाशित एक खबर में बताया गया है कि दिल्ली के बुराड़ी में हुए सामूहिक आत्महत्या प्रकरण की तर्ज पर फरीदाबाद के सूरजकुंड थाना क्षेत्र की दयालबाग कॉलोनी में तीन बहनों मीना मैथ्यूज (42), बीना मैथ्यूज (40), जया मैथ्यूज (39) ने अपने भाई प्रदीप मैथ्यूज (37) संग आत्महत्या कर ली है. खबर के मुताबिक मौके से मिले सुसाइड नोट के अनुसार उनके पिता जेजे मैथ्यूज, मां एगनेस मैथ्यूज और सबसे छोटे भाई संजू मैथ्यूज की अप्रैल, मई व जुलाई में असमय मौत हो गई थी. इससे चारों सदमे में थे. इसी कारण उन्होंने फांसी लगाने का कदम उठाया.