Teachers' Day: शिक्षक बनकर शुरू किया था करियर, ऐसे बने भारतीय राजनीति का चेहरा

डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के सम्मान में 5 सितंबर को देश में शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है. 

वंदना यादव | Sep 05, 2018, 13:19 PM IST

डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के सम्मान में उनके जन्मदिवस यानी 5 सितंबर को देश में शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है. 40 साल तक शिक्षा में योगदान देने के बाद 1947 में आजादी के बाद देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने डॉ. राधाकृष्णन से राजदूत के तौर पर सोवियत संघ के साथ राजनीतिक कार्यों पर काम करने का आग्रह किया. उनकी बात को मानते हुए उन्होंने 1947 से 1949 तक वह संविधान सभा के सदस्य को तौर पर काम किए. इसके बाद डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने राजनीति में कदम रखा. डॉ. राधाकृष्णन की ही तरह देश के कई लीडर अपना शिक्षक का करियर छोड़ राजनीति में सक्रिय हुए.

1/9

भारत के पूर्व राष्ट्रपति सर्वपल्ली राधाकृष्णन

Dr. Sarvepalli Radhakrishnan

भारत के पहले उपराष्ट्रपति और दूसरे राष्ट्रपति डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन का शुरुआती जीवन अत्यंत अभाव में बीता. उनकी प्रारंभिक शिक्षा तिरुमनी में ही हुई. आगे की शिक्षा के लिए उनके पिता ने तिरुपति के एक क्रिश्चियन मिशनरी स्कूल में उनका दाखिला करवा दिया. चार वर्षों तक वहां शिक्षा ग्रहण करने के बाद उन्होंने मद्रास क्रिश्चियन कॉलेज से पढ़ाई की. राधाकृष्णन ने 1906 में दर्शनशास्त्र में एमए किया. वह एक ऐसे मेधावी छात्र थे कि उन्हें उनके पूरे छात्र जीवन में स्कॉलरशिप मिलती रही. 

2/9

मुलायम सिंह यादव

India’s most famous politicians

सपा के मुखिया मुलायम सिंह यादव राजनीति में आने से पहले सहायक अध्यापक के तौर पर स्कूल में जॉब करते थे. 1974 में लगभग 11 साल बाद उसी स्कूल में मुलायम सिंह यादव राजनीति शास्त्र के प्रवक्ता पद पर प्रोन्नत हुए. 1984 में शिक्षक के पद से त्याग पत्र देने के बाद 1967 में मुलायम सिंह यादव जसवंतनगर से विधायक भी बने. राजनीति शास्त्र के प्रवक्ता होने के साथ ही मुलायम सिंह बच्चों को अंग्रेजी भी पढ़ाते थे. 

3/9

बसपा लीडर मायावती

Teachers' Day 2018

बसपा का चेहरा मायावती का करियर बतौर टीचर शुरू हुआ था. 15 जनवरी 1956 में दिल्ली के लेडी हार्डिंस अस्पताल में जन्मीं मायावती के छह भाई और दो बहनें थीं. बचपन से कलेक्टर बनने का सपना देखने वाली मायावती ने बीएड करने के बाद प्रशासनिक सेवा की तैयारी की. मायावती दिन में बच्चों को पढ़ातीं और रातभर अपनी पढ़ाई करती थीं.  मायावती ने दिल्ली यूनिवर्सिटी से एलएलबी भी की है.

4/9

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह

Indian politicians who once donned gurus' cap

मनमोहन सिंह भारत के 13वें प्रधानमंत्री रहे, उनका कार्यकाल 22 मई, 2004 से 26 मई, 2014 तक रहा. प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू के बाद वे दूसरे ऐसे नेता हैं जिन्‍हें लगातार दो बार प्रधानमंत्री चुना गया. राजनीति में आने से पहले मनमोहन सिंह अर्थशास्‍त्र के प्रोफेसर रहे हैं. 

5/9

पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम

Teacher-turned-politicians in India

देश के सबसे लोकप्रिय राष्ट्रपति रहे एपीजे अब्दुल कलाम साल 2002 में देश के 11वें राष्ट्रपति बनें.  साल 2007 में अपना पांच साल का कार्यकाल पूरा करने के बाद कलाम साहब ने पद छोड़ दिया. राष्ट्रपति पद छोड़ने के बाद भी कलाम साहब लोगों के बीच लोकप्रिय रहे. छात्रों को पढ़ाना उनका सबसे प्रिय काम था. शिक्षक से राजनेता तक का सफर एपीजे अब्दुल कलाम ने बाखूबी तय किया. 

6/9

शिवराज पाटिल

famous politicians whose earlier profession was teaching

पूर्व केन्द्रीय मंत्री शिवराज पाटिल बॉम्बे यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर रह चुके हैं.

7/9

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी

Teacher's Day to honor our dear mentors

देश के 13वें राष्ट्रपति रहे भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रणब मुखर्जी ने एक पत्रकार के रूप में अपना करियर शुरू किया था. कलकत्ता विश्वविद्यालय से इतिहास और राजनीति विज्ञान में स्नातकोत्तर के साथ ही कानून की डिग्री हासिल की है. वे एक वकील और कॉलेज प्राध्यापक भी रह चुके हैं. प्रणब मुखर्जी को मानद डी.लिट उपाधि भी प्राप्त है.

8/9

भारतीय जनता पार्टी सांसद सुब्रह्मण्यम स्वामी

India celebrates Teachers' Day on 5 Sep

भारतीय जनता पार्टी के सांसद सुब्रह्मण्यम स्वामी हार्वर्ड विश्वविद्यालय के विजिटिंग फैकल्टी मैम्बर भी रहे हैं. हार्वर्ड विश्वविद्यालय से अर्थशास्त्र में डॉक्ट्रेट की उपाधि प्राप्त करने के बाद उन्होंने साइमन कुजनैट्स और पॉल सैमुअल्सन के साथ कई प्रोजेक्ट्स पर शोध कार्य किया और फिर पॉल सैमुअल्सन के साथ संयुक्त लेखक के रूप में इण्डैक्स नम्बर थ्यौरी का एकदम नवीन और पथ प्रदर्शक अध्ययन प्रस्तुत किया. 

9/9

त्रिपुरा का राज्यपाल तथागत राय

Dr. Sarvepalli Radhakrishnan on 5 Sep

त्रिपुरा के राज्यपाल तथागत रॉय जाधव यूनिवर्सिटी में बतौर शिक्षक काम कर चुके हैं.