close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

भारतीय सेना के कामों से प्रेरित हैं ये बच्चे, बनाना चाहते हैं उनके जैसा, देखिए PICS

जय हिन्द और भारत माता की जय के नारे लगते हुआ ये बच्चे जिन्हें कभी Machal से बाहर की दुनिया नहीं देखी उन्हें आज इंडियन आर्मी राजस्थान ले कर जा रही है. 

मनीष शुक्ला | Aug 22, 2019, 16:01 PM IST

एक बच्चे ने यह बताया कि आज तक सारे नेता कहते रहे की विकास होगा लेकिन हुआ कुछ नहीं. अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जो कदम उठाया है उससे लगता है की जरूर विकास होगा. यहां आज तक न अच्छे रोड बने और ही कोई अच्छा अस्पताल. 

 

1/5

कोसों दूर है कॉलेज

College is far away

12वीं पास करने के बाद हमें बहुत दूर जाना पड़ेगा क्योंकि यहां कॉलेज ही नहीं है. हम जैसे गरीब बच्चे दूर के कॉलेजों में नहीं पढ़ सकते क्योंकि खर्च जयादा आएगा. एक दूसरे लड़के ने भी यही बात कही की मेरे जैसे गरीब बच्चे बाहर जाकर पड़ने का खर्च नहीं उठा सकते. अगर मोदी साहेब अपने विकास का वादा पूरा करते हैं तो उनका बहुत शुक्रिया.

2/5

सर्दियों में करती है खास मदद

Special help in winter

एक दूसरे लडके के मुताबिक सेना उनकी बहुत मादद करती है खासकर सर्दियों में. बीमार लोगों और जरुरतमंद लोगों को सेना ट्रांसपोर्टेशन उपलब्ध करती है. एक लड़के ने कहा कि जब बर्फवारी के दौरान हम लोगों को कोई वाहन नहीं मिलता है तो सेना हेलीकॉप्टर उपलब्ध करवाती है, ताकि लोग अपने गंतव्य स्थान तक आसानी से पहुंच सके.

 

3/5

दूसरों की मदद के लिए बनना चाहते हैं सेना का हिस्सा

Want to be part of army to help others

एक बच्चे ने कहा कि वह भारतीय सेना का हिस्सा इसलिए बनना चाहते हैं ताकि दूसरों की मदद कर सकें. उन्होंने कहा कि सेना बुरे वक्त में जैसे लोगों की मदद करती है, उसे देखकर उन्हें प्रेरणा मिलती है और वो बड़ा होकर आईपीएस अधिकारी बनना चाहते हैं ताकि लोगों की मदद कर सकें. 

 

4/5

मेजर दीपक काव्या के ऊपर के बच्चों को घूमाने की जिम्मेदारी

The responsibility of rotating the children above Major Deepak Kavya

इंडियन आर्मी के मेजर दीपक काव्या जिनके ऊपर इन बच्चों के पेरेंट्स ने बच्चों को बाहर घूमने की जिम्मेदारी दी है. उन्होंने बताया की ये टूर ऑपरेशन सद्भावना के तहत चलाया जा रहा है. ये बच्चे जो कभी बाहर नहीं गए हैं, इनको हम राजस्थान ले कर जाएंगे. ये पहली बार ट्रेन में बैठेंगे. उन्होंने बताया कि इन बच्चों ने कभी ट्रेन नहीं देखी है. इस टूर का मुख्य उद्देश्य इन बच्चों को एक्सपोज़र देना है, इन्हे ये बताया जा सके की देश के दूसरे हिस्सों में क्या डेवलपमेंट हो रहा हैं, वहां के बच्चे किस तरह मॉडर्न टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करते हैं ये Machal  के बच्चे देख सकें.

5/5

हर लिहाज से खास होने वाला है ये टूर

This tour is going to be special in every respect

एक अधिकारी ने बताया कि यह टूर हिस्टोरिकल पॉइंट से ये जोधपुर और जयपुर के सभी किले देखेंगे वही टेक्नोलॉजिकल पॉइंट से बिरला प्लेनेटोरियम, साइंस पार्क दिखाया जायेगा. इकनोमिक पॉइंट से मार्बल इंडस्ट्री, वोडेन हेंडीक्राफ्ट इंडस्ट्री ये लोग देखेंगे. राजस्थान के राज्यपाल और GOC  वेस्टर्न कमांड से भी इन्हे मिलाया जायेगा. उम्मीद करता हूं की बच्चे जो कुछ सीख कर वापस जाएने तो ये दूसरे बच्चो को भी बताएंगे हुए वो बच्चे भी इनसे प्रेरणा लेंगे.